iimt haldwani

हल्द्वानी- डीपीएस में फायर सेफ्टी की दी जानकारी, आपातकालीन स्थिति में घबराने नहीं ऐसे करें सामने

136

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क- रामपुर रोड स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में अग्नि शमन विभाग की ओर मुख्य अग्निशमन अधिकारी संजीव कुमार के नेतृत्व में विद्यार्थियों और अध्यापकों के सहयोग से फायर सेफ्टी पर मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया। उन्होंने पहले सभी विद्यार्थियों को आग से होने वाले नुकसान के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि बुद्धि और विवेक से काम लेते हुए ही आपातकालीन स्थिति पर काबू पाया जा सकता है। हमें धैर्य को रखना चाहिए, हिम्मत नहीं हारनी चाहिए और अपने आप को बचाते हुए अन्य लोगों की सुरक्षा के लिए कार्य करने के लिए हमें तत्पर रहना चाहिए। इस दौरान फायर स्टेशन हल्द्वानी के अधिकारियों ने आग पर सूझबूझ से काबू पाने के तरीकों के बारे में बताया। इसके साथ ही स्कूल के बच्चों, टीचर्स और नॉन टीचिंग स्टाफ को अग्निशमन यंत्रों की ट्रेनिंग दी गई। मौके पर बच्चों को अग्नि दुर्घटनाओं से बचने और फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के तरीके बताए गए। मॉक ड्रिल में स्कूल के बच्चों ने भी हिस्सा लिया और अग्निशमन की टीम के साथ मिलकर पूर्वाभ्यास भी किया।

drishti haldwani

स्कूल में फंसे बच्चों को निकाला बाहर

मॉक ड्रिल के लिए विद्यालय की कक्षा में आग की सूचना फायर अलार्म के जरिए प्रसारित की गई। इसके चंद मिनट बाद पहुंची अग्निशमन विभाग की टीम ने बच्चों को विद्यालय भवन से सुरक्षित बाहर निकाला। विद्यालय के विभिन्न भागों में फंसे बच्चों को सर्च एंड रेस्क्यू टीम द्वारा खोजकर फ‌स्र्ट एड टीम के सुपुर्द किया गया। फायर फाइटिंग टीम ने उपलब्ध फायर,क्सटिंग्यूशरों, हौज रील इत्यादि से आग को बुझाया। ट्रासपोर्ट मैनेजमेंट टीम ने इस दौरान लोगों को यातायात को व्यवस्थित रखने के तरीके भी बताए। इस दौरान बच्चों को रेस्क्यू, प्राथमिक उपचार, फायर फाइटिंग, मीडिया मैनेजमेंट, साइट सेफ्टी आदि के बारे में प्रशिक्षण दिया गया। विद्यालय की प्रधानाचार्या रंजना शाही ने मॉक ड्रिल के दौरान टीमों के साथ समन्वय बनाए रखा।

अग्निशमन अधिकारी व पुलिस बल रहा मौजूद

मॉक ड्रिल में मुख्य अग्निशमन अधिकारी संजीव कुमार, अग्निशमन अधिकारी जगदीश कुमार और स्थानीय पुलिस बल मौजूद रहा। अग्निशमन दल की कमान लीडिंग फायरमैन जवाहर सिंह को दी गई थी। फायर स्टेशन की अग्निशमन दल की टीम में प्रकाश मेर, केदार, प्रेम सिंह, देवेन्द्र आदि शामिल रहे। मौके पर अग्नि सुरक्षा को बच्चों की टीमें गठित की गई। भविष्य में आग लगने की घटनाओं को लेकर विद्यालय में टीमों का गठन भी किया गया। इसमें अवेयनेस कैंपेन टीम, फायर अलार्मिग टीम, फायर फाइटिंग टीम, इवेक्यूऐशन टीम, सर्च एंड रेस्क्यू टीम, फ‌स्र्ट एड टीम, ट्रासपोर्ट मैनेजमेंट टीम, साइट सेफ्टी टीम, मीडिया मैनेजमेंट टीम शामिल है।उसी कड़ी में विद्यार्थियों को साथ लेते हुए फायर सिलेंडर को चलाना सभी अध्यापकों और विद्यार्थियों को सिखाया ताकि आपातकालीन स्थिति में विद्यार्थी उसका प्रयोग कर सकें।