inspace haldwani
Home उत्तराखंड कुमाऊँ हल्द्वानी-आत्महत्या समस्या का हल न नहीं, डॉ. नेहा शर्मा ने बताये बेहतर...

हल्द्वानी-आत्महत्या समस्या का हल न नहीं, डॉ. नेहा शर्मा ने बताये बेहतर जिंदगी के टिप्स

हल्द्वानी-मनसा क्लीनिक की विशेषज्ञ मनोवैज्ञानिक डा. नेहा शर्मा ने जिंदगी को हंसकर गुजारने की नसीहत दी। डॉ. नेहा के अनुसार आज समाज में आत्महत्या की घटनाएं बढ़ती जा रही है। ऐसे में आत्महत्या करने वालों में 15 वर्ष से 25 वर्ष के किशोरों की संख्या ज्यादा है। कोरोनाकाल के बाद आत्महत्या के मामलों में तेजी आयी है। आज हर उम्र का व्यक्ति आत्महत्या का प्रयास कर रहा है।

डॉ. नेहा के अनुसार आत्महत्या एक मनोस्थिति है जिसमें किसी भी उम्र में जब समाधान नहीं निकल पाता है तो व्यक्ति को लगता है कि अब कुछ नहीं हो सकता वह अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लगता है। ऐसे में वह अपनी जीवनलीला समाप्त कर लेता है। इसका मुख्य कारण व्यक्ति के स्वयं के विचारों की गड़बड़ी व कोई भी मानसिक रोग हो सकता है। आजकल हम लोगों को सामूहिक आत्महत्या जैसे मामले देखने और सुनने को मिल रहे है।

डॉ. नेहा ने आत्महत्या को पूरा साइकलोजिकल डिसआर्डर बताया। आत्महत्या करने वाले व्यक्ति को लगता है कि सिर्फ इसका समाधान ही आत्महत्या है। आत्महत्या किसी समस्या का हल नहीं है। जिंदगी जीने के लिए होती है जब जन्म पर हमारा मन नहीं होता तो मृत्यु पर भी नहीं। मौत स्वाभाविक है। कोई मन का खेल नहीं। हमको जिंदगी को हां कह कर सभी परिस्थितियों का मुस्करा कर सामना करना चाहिए। हर परिस्थिति का हल निश्चित है और परिस्थिति कोई समस्या होती ही नहीं। डॉ. नेहा शर्मा ने आत्महत्या को रोकने के लिए सकारात्मक विचारों के साइक्लोजिकल उपाय बताये है।

खुदकुशी के विचार क्षण भर के होते है। उस समय किसी भी तरह अपने विचारों को नियंत्रण करें किसी अपने से बात करें व साइकोथैरेपी करवायें।
साल्यूशन ओरिएंटेड थिकिंग
व्यक्ति की टॉक थैरेपी करें। तुरंत मनोचिििकत्सक से मिलें।
आत्महत्या के विचार वाले व्यक्ति की बातें सुनें और उसे शांत करें।
स्वयं से प्यार करें।
जिंदगी को लेकर सकारात्मक नजरिया व वास्तविकता को स्वीकारना चाहिए।
हर काम खुश होकर करें व जिंदगी को क्षण में जीये।
अपने शौक को जिन्दगी का हिस्सा बनाये।
खुद के आदर्श व प्रेरणादायक बनें।
किस पर भी भावनात्मक रूप से निर्भर न हों। स्वयं की उपयोगिता को पहचानें और आगे बढ़ें।
अपने मन से न शब्द को हटायें और हां में जीना सीखें।
स्वयं की तारीफ करें व स्वयं की किसी से कम न समझें।
जिंदगी मं जरूरी नहीं है कि जो हम चाहें वो मिले लेकिन हमें प्रयास करना चाहिए।

 

Related News

चंपावत- यहां बरामद हुई एक किलो चरस, ऐसे पुलिस की जाल में फंसे तस्कर

चंपावत- जिले में नशे के तस्‍करों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है। आज पुलिस ने दो चरस तस्करों को गिरफ्तार किया।...

रुद्रपुर, : कार्यकर्ता अपने अंदर विचारधारा को आत्मसात करें: तरुण बंसल

रुद्रपुर। आवास सलाहकार परिषद के उपाध्यक्ष दर्जा राज्य मंत्री तरूण बंसल का पहली बार रूद्रपुर पहुंचने पर भाजपा जिला कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं ने...

त्रिवेंद्र सरकार का भूतपूर्व सैनिको को बड़ा तोहफा ,अब उच्च पदों में आवेदन को मिली आयु सीमा में छूट,देखें आदेश

देहरादून. त्रिवेंद्र सरकार ने अब एक्स सर्विसमैन जो पहले से ही राज्य सरकार के सी और डी श्रेणी के पदों में कार्यरत है उनको...

हल्द्वानी-सहकारिता मंत्री ने ली दुग्ध विभाग की समीक्षा बैठक, जल्द विभाग में भरे जायेंगे खाली पड़े पद

हल्द्वानी - आज दुग्ध विकास, सहकारिता राज्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने डेरी निदेशालय में दुग्ध विभाग की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने प्रदेश...

चम्पावत-यहां वैक्सीनेशन लिस्ट में डॉक्टरों का नाम गायब, सीएमओ को सुनाई खरी खोटी

चम्पावत-जिला अस्पताल के फ्रंट लाइन डॉक्टरों व कर्मचारियों का वैक्सीनेशन लिस्ट में नाम न होने से डाक्टर, कर्मचारी आक्रोशित हो उठे। इस दौरान कर्मचारियों...

रुद्रपुर: शूटर बुलाकर फायरिंग कराने वाला चोर भी निकला, जानिए क्या था पूरा मामला

रुद्रपुर। गल्ला मंडी में गुरुनानक टायर्स पर फायरिंग व लाॅरेंस विश्नोई के नाम से एक करोड़ की रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस ने...