drishti haldwani

हल्द्वानी- इस कोऑपरेटिव सोसायटी ने छोटे व्यापारियों को ऐसे लगा दिया चूना, रहो ऐसे सावधान

796

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: यहां लोगो से फिक्स डिपॉजिट के नाम पर एक कोऑपरेटिव सोसायटी पर लाखों की हेराफेरी करने का आरोप लगा है। दर्जनों लोगों ने आज नैनीताल रोड स्थित सोसायटी के दफ्तर पहुंचकर जमकर हंगामा काटा। आरोप है कि सोसाइटी ने लोगों से पैसे तो जमा कर लिए, लेकिन जब देने की बारी आई तो पैसे लौटा नहीं रही है। जब लोगों ने इसकी जानकारी सोसाइटी के मैनेजर से लेनी चाही तो वह मौके से भाग खड़ी हुई। इससे शक गहराने पर लोगों ने यहां पर जमकर हंगामा काटा। मौके पर मौजूद लोगो ने कोऑपरेटिव पर करीब 22 लाख की धोखाधड़ी करने का आरोप लगाया हैं।

iimt haldwani

80 से अधिक लोगों ने किया फिक्स डिपॉजिट

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोसाइटी में करीब 80 से अधिक लोगों ने खाता खोला हुआ है, जिसमें वे फिक्स डिपॉजिट करते रहते हैं। कुछ लोगों का फिक्स डिपॉजिट पूरा हो गया, जिसके बाद से वे पैसे के लिए दफ्तर के चक्कर काट रहे हैं। इसकी हकीकत तब सामने आई, जब सोमवार को कुछ लोग मैनेजर के पास गए और अपने पैसे देने की जिद करने लगे। लोगों की भीड़ देख मैनेजर वहां से खिसक ली। इससे आक्रोशित लोगों ने वहां पर जमकर हंगामा काटा। बाद में लोगों की सूचना पर काठगोदाम थाने से पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस के समझाने के बाद लोग काठगोदाम थाने में तहरीर देने के लिए चले गए।

फिक्स डिपॉजिट करने से पहले ध्यान रखें ये बातें…

1.एफडी की सुविधा

एफडी को लेकर एक बड़ा संशय ये है कि ये सुविधा सिर्फ राष्ट्रीयकृत बैंक, प्राइवेट सेक्टर के बैंक या फिर एनबीएफसी यानि नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनिया ही जारी कर सकती हैं। पर ऐसा नहीं है, एफडी की सुविधा आपको पोस्ट ऑफिस में भी मिल जाएगी। इसके अलावा आप कॉर्पोरेट एफडी ले सकते हैं जिसमें डिपॉजिट पर सबसे ज्यादा ब्याज मिलता है। हां यहां एक बात का ध्यान जरूर रखें कि कॉर्पोरेट एफडी को ज्यादा सुरक्षित नहीं माना जाता है। ऐसे में सुरक्षित एफडी कराने के लिए बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस ज्यादा बेहतर हैं।

2.क्या ब्याज पर टैक्स लगता है ?

जी हां, एफडी पर मिले ब्याज पर कर देना होता है लेकिन अगर यह आपकी कुल आय में इनकम फ्रॉम अदर सोर्स के अंतर्गत आती है। पर एफडी ब्याज कैलकुलेटर के जरिए हमें पता चलता है कि किसी विशेष स्कीम पर आप कितना ब्याज कमा सकते हैं। यदि आपके पास किसी भी वित्तीय वर्ष में ब्याज की रकम 10,000 रुपए से अधिक हो जाती है तो इस राशि पर 10 फीसदी टीडीएस कटता है, हालांकि आयकर का मार्जिनल रेट 20 से 30 फीसदी के बीच रहता है लेकिन अतिरिक्त टैक्स लाइबिलटी होने पर रिटर्न फाइल करते समय टैक्स का भुगतान करना पड़ता है।

3.फिक्स्ड डिपॉजिट पर टैक्स में छूट मिलती है ?

फिक्स्ड डिपॉजिट में किए गए निवेश पर आयकर अधिनियम 80सी के तहत ब्याज पर छूट मिलती है लेकिन यह छूट सिर्फ उन फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलती है जो पांच साल की समयावधि के लिए खुलवाए गए हैं। अब अगर आपको फिक्स्ड डिपॉजिट के ब्याज पर छूट का लाभ उठाना है तो आपको ऐसी स्कीम का चयन करना चाहिए जो टैक्स बचाने का विकल्प दे सके।

4.क्या पहले निकाल सकते हैं एफडी का पैसा ?

आम तौर पर लोगों का मत है कि एफडी को समय से पहले ही निकाल लेने पर कम रिटर्न मिलता है। ऐसा सही भी है लेकिन कुछ वित्तीय संस्थान होते हैं जहां आप पार्शियल विड्रॉल कर सकते हैं। इस विड्रॉल पर कोई पेनल्टी भी नहीं लगती है।