हल्द्वानी- ऐतिहासिक होगा सरस मेला, सीडीओ ने दिए अधिकारियों को निर्देश

0
210

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क: प्रदेश सरकार एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में राष्ट्रीय स्तर के भव्य सरस मेले का आयोजन 14 जनवरी से 26 जनवरी तक कुमाऊॅ के प्रवेश द्वार हल्द्वानी मे किया जायेगा।
मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार ने बुद्धवार को मेले के सफल संचालन के लिए गठित समितियों द्वारा किये जा रहे कार्यों की गहन समीक्षा प्रसार प्रशिक्षण केन्द्र गोलापार में की। इस दौरान उन्होंने बताया कि इस मेले मे देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों में महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा किये जा रहे उत्पादों एव कुटीर उद्योगो पर आधारित प्रदर्शनी लगाई जायेगी। जिसमें देश भर के विभिन्न प्रान्तों के उत्पादो के साथ ही वहा उत्पादित होने वाले हथकरघा वस्त्रों, ऊनी वस्त्रों, घरेलु उत्पादों, जडी-बूटी उत्पादों, टैक्सटाइल, ग्रामीण फर्नीचर का प्रदर्शन किया जायेगा। इसके साथ ही इन उत्पादों की ब्रिकी भी स्वयं सहायता समूहो द्वारा मेले मे की जायेगी।

क्षेत्रीय प्रतिभाओं को मिलेगा मंच

उन्होने बताया कि प्रदेश सरकार ने इस मेले को भव्यता के साथ आयोजित करने के लिए ग्राम्य विकास विभाग को नोडल एजेन्सी बनाया है। इस मेले मे सांस्कृतिक विरासत का दर्शन कराने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम भी रंगमंच पर प्रस्तुत किये जायेगा। सरस मेले में स्वयं सहायता समूहों द्वारा उत्पादित सामान को बाजार उपलब्ध कराने के साथ ही क्षेत्रीय प्रतिभाओं को भी अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए मंच प्रदान किया जायेगा। वही स्वयं सहायता समूहों के लिए खान-पान की व्यवस्था इन्द्रा अम्मा कैण्टीन के माध्यम से करने के निर्देश दिये। मेले की सफाई व्यवस्था सुचारू रखने के निर्देश उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि मेले को पोलीथीन मुक्त बनाया जायेगा।

उन्होने समितियों के नोडल अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि वे इस आयोजन को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने के लिए अपनी प्राथमिकता में शामिल करते हुए सौंपे गये दायित्वों का समय से निर्वहन करने के साथ ही स्वयं सहायता समूहो के लिए पण्डाल तैयार करने, पेयजल, विद्युत, परिवहन, आवासीय व्यवस्थाओ के अलावा सुलभ शौचालयों की व्यवस्था समय रहते सुनिश्चित करने के निर्देश दियें। उन्होंने बाहरी राज्यो से आने वाले स्वयं सहायता समूहों के हेतु रूकने तथा खान-पान की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उन्होंने विशिष्ट व्यक्तियों एवं गणमान्य व्यक्तियों को तत्काल निमंत्रण कार्ड पहुंचाने के निर्देश अपर परियोजना निदेशक को दिये हैं। बैठक में परियोजना निदेशक बालकृष्ण ने बताया कि मेले में सभी राज्यों के स्वयं सहायता समूहों को आमंत्रित किया गया है तथा सभी राज्यों के नोडल अधिकारियों से निरन्तर सम्पर्क किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि अभी तक सात राज्यों द्वारा समूह भेजने के लिए सहमति व्यक्त की गयी है और अन्य राज्यों से लगातार सम्पर्क किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस बार मेंले में समूहों को बाजार उपलब्ध कराने के साथ ही जनता के मनोरंजन के लिए झूलों की भी व्यवस्था की जा रही हैं। बताया कि इसके अलावा 14 से 26 जनवरी तक सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही गायन व नृत्य, फैंसी ड्रेस, मेहंदी प्रतियोगिता, योगा, कला प्रतियोगिता, कव्वाली एवं भजन आदि कार्यक्रम भी आयोजित किये जायेंगे। इस दौरान अपर परियोजना निदेशक संगीता आर्या, सिटी मजिस्ट्रेट पंकज उपाध्याय, जिला अर्थ एवं सांख्याधिकारी ललित मोहन जोशी, जिला पूर्ति अधिकारी तेजबल सिंह, मुख्य कृषि अधिकारी धनपत कुमार, खण्ड विकास अधिकारी राजेन्द्र राम आर्य, एचएस महरा के अलावा अन्य अधिकारी उस्थित थे।