हल्द्वानी – प्रधान,बीडीसी, ज़िला पंचायत सदस्य नामांकन से पहले रखे इन 10 पंचायत नियमों का ध्यान, तभी होगा सही नामांकन

Panchayat Election 2019, त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन को शान्तिपूर्वक,निर्भीक, निष्पक्ष सम्पन्न कराने के लिए भीमताल में नैनीताल जिला निर्वाचन अधिकारी सविन बंसल द्वारा सभी अधिकारियों की महत्तपूर्ण बैठक ली गई। इस दौरान सभी आरओ, एआरओ, जोनल, सैक्टर मजिस्ट्रेटों व प्रभारी अधिकारियों को प्रथम प्रशिक्षण भी दिया गया। इस दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी ने सभी अधिकारियों को निष्पक्ष पारदर्शिता के साथ चुनाव सम्पन्न कराने के निर्देश दिए।

इस दौरान उन्होंने सभी प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत सदस्य द्वारा नामांकन के लिए भरे जाने वाले पत्र के नियम भी बैठक में मौजूद सभी अधिकारियों के समक्ष रखें। साथ ही का कि इन नियमों का पालन नहीं करें जाने पर नामांकन पत्र मान्य नहीं होगा। उन्होंने इस दौरान नामांकन के लिए जरुरी दस्तावेजों की सूची भी जारी की है।

Slider

Uttarakhand Panchayat Election 2019

नामांकन के समय इन 10 बिंदुओं का रखें खास ध्यान

जिला निर्वाचन अधिकारी ने नामांकन भरने से पूर्व सभी प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत सदस्यों कई महत्वपूर्ण नियमों और दस्तावेजों का खास ध्यान रखने को कहा है। जिसमें नामांकन पत्र, परिवार रजिस्टर, रसीद 385, शपथ पत्र( शौचालय का पूर्ण विवरण), आधार कार्ड, अदेय प्रमाण पत्र, अनारक्षित पद हेतु कक्षा 10 का प्रमाण पत्र, आरक्षित श्रेणी हेतु कक्षा 8 का प्रमाण पत्र, आरक्षित क्षेणी के महिलाओं हेतु माइका पक्ष से जाति प्रमाण पर होना आवश्यक है। इसके साथ ही वोटर लिस्ट जिसमें उम्मीदवार, प्रस्तावक, अनुमोदक का नाम हो। वही इन सभी जरूरी दस्तावेजों में कमी होने पर नामांकन मान्य नहीं होगा।

Uttarakhand Panchayat Election 2019

मतदान बूथों का हो स्थलीय निरीक्षण

बता दें कि जनपद में 479 ग्राम पंचायतों, 266 क्षेत्र पंचायत, 27 जिला पंचायत सदस्यों के निष्पक्ष व पारदर्शिता निर्वाचन को सम्पन्न कराने के लिए 530 मतदान केन्द्र जिसमें 761 बूथ बनाये गये है। निर्वाचन के सम्पन्न कराने के लिए जनपद को 42 जोन व 104 सेक्टर में बांटा गया है। बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी ने सभी जोनल, सेक्टर व नोडल मजिस्ट्रेट को अपने-अपने मतदान बूथों का स्थलीय निरीक्षण करने के खास निर्देश दिये है। साथ ही किसी भी तरह की कोई समस्या से निपटने के लिए विकास भवन भीमताल में कन्ट्रोल रूम भी स्थापित कर दिया गया है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें