inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड कुमाऊँ हल्द्वानी-अपने खर्चे पर खुद जाये फंसे हुए लोग नहीं मिलेंगी सरकारी व्यवस्था,...

हल्द्वानी-अपने खर्चे पर खुद जाये फंसे हुए लोग नहीं मिलेंगी सरकारी व्यवस्था, हल्द्वानी में फंसे बिहार और नेपाल के मजदूर

रुद्रपुर: जिला पंचायत घोटाले की जांच को कमेटी गठित

रुद्रपुर। जिला पंचायत के लदान ढुलान ठेकेदार शशांक चांडक व तत्कालीन अपर मुख्य अधिकारी की मिलीभगत के कारण जिला पंचायत को सवा दो करोड़...

रुद्रपुर: देखिए आईजी ने नंदलाल प्रकरण में क्या दिए निर्देश

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता नंदलाल पर लाठी चार्ज करने के मामले में आईजी अजय रौतेला ने एसपी काशीपुर को जांच सौपी है। वहीं बाजपुर में...

रुद्रपुर: आईजी ने पुलिस अफसरों की खिंचाई की, यह दिए निर्देश

*रुद्रपुर। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक अजय रौतेला ने लाइन पहुंच कर पुलिस के कार्यों की समीक्षा करते हुए लंबित शिकायती पत्रों का निस्तारण...

रुद्रपुर: कांग्रेस नेता पर लाठीचार्ज करने वाले पर होगी कार्रवाई

रुद्रपुर। कांग्रेस के नेता नंद लाल पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ कांग्रेसियों ने बुधवार को एसपी सिटी का घेराव किया। एसपी किसी ने इस...

ऊधमसिंह नगर: खुशी में निकला था घर से, ऐसी खबर आई कि मच गया मातम

काशीपुर। शादी समारोह से लौट रहे एक व्यक्ति के घर उस वक्त कोहराम मच गया, जब उसके घर मौत की खबर पहुंची। दरअसल लौटते...

हल्द्वानी-लॉकडाउन में एक ओर जहां उत्तराखंड के प्रवासी कई राज्यों में फंसे हुए है वहीं अन्य राज्यों के प्रवासी भी उत्तराखंड में फंसे हुए है। ऐसे में अभी तक यहां से कई लोगों को बिहार यूपी भेज दिया गया है। अब प्रशासन ने साफ कर दिया कि जिसे जाना है वह अपने निजी गाड़ी या फिर ठेकेदार के साथ जा सकता है। प्रशासन सिर्फ उन्हें पास दे सकता है। बताया जा रहा है कि अभी स्टेडियम वाले सेंटर में करीब 35 लोग है।


लॉकडाउन की शुरूआत में प्रशासन द्वारा हल्द्वानी व लालकुआं में चार राहत सेंटर बनाए गए थे। जिसमें स्टेडियम, एमबी इंटर कॉलेज, एमबी डिग्री कॉलेज व लालकुआं बारातघर में सैकड़ों की संख्या में इन्हें रखा गया था। जब इनके 14 दिन की क्वारंटीन का समय पूरा हो गया तो इन लोगों ने घर वापसी के लिए भूख हड़ताल शुरू कर दी। फिर प्रशासन ने इन्हें बारी-बारी से घर भेजा। वही सोमवार को एमबी इंटर कॉलेज से करीब 50 बिहारी श्रमिकों अपने गांव चले गए। निजी खर्चे से इन्होंने बस की व्यवस्था की थी। प्रशासन द्वारा सिर्फ पास दिया गया। अब स्टेडियम वाले सेंटर में करीब 35 लोग बाकि है।

जिसमें बीस मूल रूप से नेपाल व अन्य बिहार के निवासी है। नोडल अधिकारी एके कटारिया ने बताया कि नेपाली लोग पहाड़ पर ठेकेदार संग काम करते थे। अगर वह काम पर जाना चाहते है जो जाये। क्योंकि नेपाल पहुंचाने को लेकर परमिशन नहीं है। इसके अलााव बिहारी श्रमिकों से कहा कि वह बस या अन्य वाहन का इंतजाम कर जा सकते हैं।

 

Related News

रुद्रपुर: जिला पंचायत घोटाले की जांच को कमेटी गठित

रुद्रपुर। जिला पंचायत के लदान ढुलान ठेकेदार शशांक चांडक व तत्कालीन अपर मुख्य अधिकारी की मिलीभगत के कारण जिला पंचायत को सवा दो करोड़...

रुद्रपुर: देखिए आईजी ने नंदलाल प्रकरण में क्या दिए निर्देश

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता नंदलाल पर लाठी चार्ज करने के मामले में आईजी अजय रौतेला ने एसपी काशीपुर को जांच सौपी है। वहीं बाजपुर में...

रुद्रपुर: आईजी ने पुलिस अफसरों की खिंचाई की, यह दिए निर्देश

*रुद्रपुर। कुमाऊं परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक अजय रौतेला ने लाइन पहुंच कर पुलिस के कार्यों की समीक्षा करते हुए लंबित शिकायती पत्रों का निस्तारण...

रुद्रपुर: कांग्रेस नेता पर लाठीचार्ज करने वाले पर होगी कार्रवाई

रुद्रपुर। कांग्रेस के नेता नंद लाल पर हुए लाठीचार्ज के खिलाफ कांग्रेसियों ने बुधवार को एसपी सिटी का घेराव किया। एसपी किसी ने इस...

ऊधमसिंह नगर: खुशी में निकला था घर से, ऐसी खबर आई कि मच गया मातम

काशीपुर। शादी समारोह से लौट रहे एक व्यक्ति के घर उस वक्त कोहराम मच गया, जब उसके घर मौत की खबर पहुंची। दरअसल लौटते...

रुद्रपुर: इस तरह मौत बन कर गरजा पीला पंजा

रुद्रपुर। बिलासपुर से बाइक से आ रहे दंपति को रांग साइड से आ रही जेसीबी ने टक्कर मार दी, परिणामस्वरूप बाइक सवार की मौत...