हल्द्वानी-अब कुमाऊं के वन दरोगाओं ने खोला मोर्चा, करेंगे इस अधिवेशन का विरोध

Slider

Haldwani News- विगत दिवस नैनीताल वन प्रभाग के भवाली वन विभाग भवन में हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया कि आगामी 6 दिसंबर को सहायक वन कर्मचारी संध के द्विवार्षिक सम्मेलन का विरोध किया जायेगा। बैठक की अध्यक्षता पूरन सिंह रावत और संचालन ख्याली राम ने किया। इस दौरान बताया गया कि पिछले 5 सालों तक प्रान्तीय कार्यकारिणी द्वारा कर्मचारियों के हितों में कोई कार्य नहीं किया गया। सिर्फ मनमाने और तानाशाही दिखाकर जबरन अधिवेशन का आयोजन किया जा रहा है। जिसका वह कड़ा विरोध करते है। बहिष्कार करने वालों में रामनगर वन प्रभाग रामनगर, तराई पूर्वी वन प्रभाग हल्द्वानी, वन प्रभाग हल्द्वानी, चंपाावत वन प्रभाग, संरक्षण वन प्रभाग पिथौरागढ़, अल्मोड़ा वन प्रभाग, अल्मोड़ा सिविल सोयम वन प्रभाग अल्मोड़ा, भूमि संरक्षण वन प्रभाग नैनीताल सहित कुमाऊं मंडल के वृत्तों और प्रभागों द्वारा देहरादून में होने वाले इस अधिवेशन का विरोध किया गया है।

van vibhag

Slider

इस संबंध में वन दरोगा भगवती प्रसाद जोशी ने बताया कि उत्तर प्रदेश राज्य में वन दरोगा की ग्रेड पे 2800 से बढक़ार 4200, डिप्टी रेंज की 4200 से 4800 करने संबंधी प्रस्ताव समिति को भेजा गया है। प्रदेश में मानव वन्य जीव संर्ष, वनाग्रि की घटनाओं, जैव विविधता संरक्षण, वन पंचायतों के विकास प्राकृतिक एवं वन संपदाओं के अवैध विदोहन, अवैध शिकार, अतिक्रमण जैसे अपराध बढ़ रहे है जिससे दरोगा का वेतनमान पुर्नरक्षित कराये जाने के लिए समिति का गठन कर प्रस्ताव भेजने की मांग की गई। साथ ही वेतन विसंगति दूर कर सम्मानजनक वेतन दिलाने की मांग की गई।

वन शहीदों के परिवारों को 15 लाख की धनराशि और वन दरोगाओं को आधुनिक हथियार उपलब्ध कराने की मांग की गई। इस दौरान वक्ताओं ने कहा कि समय-समय पर वन मंत्री को वन कर्मियों की मांगों से अवगत कराया जा रहा लेकिन उन्हें सिर्फ आवश्सान दिया जा रहा है। इस संबंध में आजतक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इस अवसर पर बैठक में ललित मोहन कार्की, जीसी तिवारी, नारायण दत्त सती, संतोष जोशी, गणेश तिवारी, दीवान सिंह, जय शंकर भट्ट, खष्टी बल्लभ जोशी, दया शंकर टम्टा, बलवन्त सिंह आदि कई वन दरोगा मौजूद थे।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें