हल्द्वानी- नैनीताल की बेटी ने पाकिस्तान को चटाई धूल, साउथ एशियन गेम्स में जीता गोल्ड

Slider

Haldwani News-एक बार फिर देवभूमि की बेटी ने राष्ट्रीय स्तर पर उत्तराखंड का नाम रोशन किया है। काठमाडू में आयोजित दक्षिण एशियाई खेलों के ताइक्वाडो अंडर-53 किग्रा के मुकाबले में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। लतिका ने अंडर-53 किग्रा वर्ग में पाकिस्तान की खिलाड़ी को 40-10 के अंतर से हराया। 25 वर्षीय लतिका अब तक 2014 में ताशकंद रूस में एशियन चैंपियनशिप में कांस्य, 2016 में इजराइल ओपन में कांस्य, 2017 में कामनवेल्थ चैंपियनशिप मॉन्ट्रियाल में रजत, इसी वर्ष प्रेसिडेंटस कप ताशकंद में कांस्य, कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप कनाडा में रजत, 2018 में फुजैरा ओपन में स्वर्ण, इसी वर्ष मलयेशिया ओपन कुआलालंपुर में रजत और 2019 के फज्र ओपन में रजत पदक जीत चुकी है।

latika

Slider

मध्य प्रदेश से खेल रही लतिका

ेमध्य प्रदेश से खेल रही लतिका ने पिता को सेना से रिटायर होने से पहले यादगार तोहफा दिया है। उत्तराखंड सरकार की बेरूखी से लतिका ने मध्य प्रदेश का रूख किया। नैनीताल के मल्लीताल निवासी सेना में सेवारत महेंद्र सिंह व गृहणी नीमा भंडारी की इकलौती बेटी लतिका में बचपन से ही खेलों के प्रति जुनून सवार था। नैनीताल में भी उसने ताइक्वाडो में खूब मेहनत की। वर्ष 2012 में उत्कृष्ट प्रदर्शन के बाद मध्य प्रदेश सरकार के खेल में सर्वोच्च विक्रम अवार्ड प्राप्त लतिका 12वें दक्षिण एशियाई खेल व राष्ट्रमंडल खेल में ताइक्वाडो में स्वर्ण पदक जीत चुकी है। लतिका ने यहां एमएल साह बालिका इंटर कॉलेज से 10वीं की परीक्षा पास की। स्कूल से वर्ष 2008 में हुई नेशनल प्रतियोगिता में उसने स्वर्ण पदक प्राप्त किया।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें