हल्द्वानी- खनन तस्करों ने आधी रात किया वन चौकी पर हमला, ऐसे जान बचाते फिरे वन कर्मी

Slider

खनन तस्करों द्वारा वन कर्मियों पर हमले की घटनायें कम होने का नाम नहीं ले रही है। एक बार फिर कार सवार तस्करों ने लालकुआं खनन गेट वन चौकी पर हमला बोल दिया। इस दौरान तस्करों ने वन कर्मचारियों से जमकर मारपीट भी की। मामले में तीन हमलावरों के खिलाफ लालकुआं थाने में वन विभाग द्वारा नामजद मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। मामले में पुलिस कार्यवाई जारी है।

जान से मारने की दी धमकी

जानकारी मुताबिक तराई पूर्वी वन प्रभाग के गौला रेंज के वन आरक्षी चंद्रशेखर भट्ट व पान सिंह बुधवार देर रात बिंदुखत्ता क्षेत्र में गश्त कर लौटे और लालकुआं खनन गेट स्थित वन चौकी में बैठे थे। इसी दौरान कार सवार खनन तस्करों ने वन आरक्षी चंद्रशेखर व पान सिंह पर हमला बोल दिया। विरोध करने पर हमलावरों ने दोनों से गाली-गलौज कर मारपीट भी की। आरोप है कि इसी बीच एक अन्य कार में भी खनन तस्कर वहां पहुंच गए। काफी देर तक चले इस बवाल के बाद खनन तस्कर वन कर्मियों को जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से फरार हो गये।

Slider

तीन की हुई पहचान

पुसिल मुताबिक वन कर्मियों ने एक कार में सवार तीन लोगों को पहचान लिया। देर रात ही वन आरक्षी चंद्रशेखर की ओर से लालकुआं थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया। इसमें कमल गडिय़ा, विजय जोशी व पुंछी को नामजद किया गया है। तीनों लालकुआं के ही रहने वाले हैं। वन कर्मियों के अनुसार बीती छह अगस्त को अवैध खनन के मामले में पकड़े गये डंपरों को लेकर उन पर हमला बोला गया है। हमलावर मारपीट के दौरान भी इसका जिक्र कर रहे थे। इधर गौला रेंजर गणेश त्रिपाठी ने बताया कि हमले में वन कर्मियों को चोटें आई हैं। उन्होंने बताया कि अवैध खनन के खिलाफ अभियान जारी रहेगा।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें