हल्द्वानी-आप है इरितेय्बल बोवेल सिंड्रोम समस्या से परेशान, तो आजमाये डॉ. एनसी पाण्डेय ये उपाय

Slider

हल्द्वानी-साहस होम्योपैथिक के चिकित्सक डा. एनसी पाण्डेय हर बार अपने यू-ट्यूब चैनल पर बीमारी के संबंध में जानकारी और उसके उपाय बताते है। जिससे लोगों को अपनी समस्या का समाधान मिल सकें। डा. एनसी पाण्डेय ने इस बार इरितेय्बल बोवेल सिंड्रोम शरीर की बड़ी आंत से संबंधित रोग है।

Slider

आईबीएस पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली लंबे समय से उत्तपन परिवर्तन के कारण उत्तपन विकार है। यह कोई रोग नहीं होता, बल्कि यह एक साथ होने वाले कई सारे लक्षणों का एक समूह है। यह कम से कम 10 से 15 प्रतिशत लोगों को प्रभावित है, साधारण तौर पर इसमें बड़ी आंत और छोटी आंत के अवरोध आते है। उन्होंने बताया कि कभी-कभी अन्य रोग जैसे की संक्रमण दस्त या आंतों में बहुत से जीवाणुओं की उपस्थिति का एक समूह प्रकरण आईबीएस को सक्रिय कर सकता है।

Dr. NC Pandey
डा एनएसी पाण्डेय ने बताया कि पेट में एठन, पेट में दर्द, सुजन, गैस, दस्त, कब्ज, कभी लगातार दस्त कभी लगातार कब्ज रहना, मलाशय से रक्त स्त्राव, वजन घटना आदि लक्षण हो सकते है। इसके अलावा कई बार ऐसा लगे की मोशन आना है, पर होता नहीं, परेशानी या चिंता के कारण किसी भी व्यक्ति का पाचन खराब हो सकता है। आईबीएस के ग्रसित केवल कुछ लोगों में ही गंभीर संकेत और लक्षण होते है। कुछ लोग आहार,जीवन शैली और तनाव में नियंत्रण रख कर अपने लक्षणों को नियंत्रित कर सकते है, किसी भी रोग को खत्म करने के लिए उसके लक्षणों को समझना और उसके आधार पर दवा देना ही होम्योपैथिक का मूल उदेश्य है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें