iimt haldwani

हल्द्वानी-होली में भी जीतपुर नेगी के ग्रामीणों का चुनाव बहिष्कार जारी, जानिये आखिर क्या है इस गांव की समस्या

151

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क-एक ओर जहंा देशभर में होली की धूम मची थी, वही हल्द्वानी में एक गांव ऐसा भी था जहां होली में भी चुनाव बहिष्कार का मामला गरम रहा। लोगों ने एकजुट होकर चुनाव बहिष्कार किया। इस दौरान उनके बैनर पर लिखा था जीतपुर नेगी में किसी भी पार्टी से जुड़े नेताओं का आना सख्त मना है। कृपया वोट मांगकर शर्मिदा न करें। इस पोस्टर को हाथों में लेकर होली के रंग में रंगे ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार किया। इससे साफ होता है कि उन्हें होली के त्योहार में इतनी दिलचस्पी नहीं थी जितने चुनाव बहिष्कार को लेकर पूरा गांव दिखा। इसके अलावा ग्रामीणों ने गांव में आने वाले मुख्य मांगों पर मतदान बहिष्कार के बैनर लगाये गये।

amarpali haldwani

पहले की भांति ग्राम पंचायत में जोडऩे की मांग

ग्रामीणों का कहना है कि शासन द्वारा नगर निगम परिसीमन के बाद आधे जीतपुर नेगी ग्राम को नगर निगम में जोडक़र बाकि का हिस्सा छोड़ दिया गया। इसके बाद हुए ग्राम पंचायत के परिसीमन में उन्हें ग्राम पंचायत से भी हटा दिया गया। इससे ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। उनका कहना है कि इस विषय में जिले के आलाधिकारी उन्हें कोई जवाब नहीं दे पा रहे है। जीतपुर नेगी के पूर्वी हिस्से में करीब 500 से अधिक परिवार निवास कर रहे है। पिछले 60 सालों से वह लोकसभा, विधानसभा, ग्राम पंचायत चुनावों में मतदान करते आये है। ऐसे में उन्हें अचानक ग्राम पंचायत से हटाये जाने से ग्रामीण गुस्से में है। उन्होंने कहा कि इससे पहले वह ग्राम पंचायत में शामिल थे तो उन्हें अब क्यों ग्राम पंचायत से हटाया गया।

ग्रामीणों ने लोकसभा चुनाव बहिष्कार का एलान कर दिया। होली के दिन भी ग्रामीण चुनाव बहिष्कार पर अडिग रहे। उनका कहना है कि उन्हें पहले की भांति ग्राम पंचायत में जोड़ा जाय। ऐसा नहीं करने पर उनका बहिष्कार जारी रहेगा। इस दौरान पवन कुमार, संजय कश्यप, सूरज कुमार, कमल कुमार, दीपक कुमार, खीमानंद आर्या, तरूण कश्यप, कृष्णा मौर्या, जगदीश उनियाल, अशोक कुमार, विक्रम, पवन कश्यप, नंद लाल, गीता कार्की, पिंकी कश्यप, ममता देवी, सुनीता देवी, सुशीला देवी, प्रीति देवी सहित कई ग्रामीण मौजूद थे।