हल्द्वानी-हरक सिंह रावत के पक्ष में खड़ी हुई इंदिरा हृदयेश, सरकार को दी ये नसीहत

231

हल्द्वानी- न्यूज टुडे नेटवर्क-वन विभाग के मुखिया जय राज को विदेश यात्रा की अनुमति का मुद्दा तूल पकड़ गया है। वन एवं पर्यावरण मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने इस मामले में उन्हें बाईपास करने पर प्रमुख सचिव कार्मिक को सख्त लहजे में पत्र तो लिखा। कहा कि उन्हें मंत्री पद का कोई मोह नहीं। अगर इसी तरह का रवैया उनके साथ जारी रहा तो वह अपनी कुर्सी छोड़ऩे में भी देरी नहीं करेंगे। हर बार विपक्षी दल कांग्रेस हरक सिंह रावत के पक्ष में नजर आया। आज अपने एक बयान में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्दयेश ने कहा कि वह हरक सिंह रावत के पक्ष में खड़ी है। आज जंगल जल रहे है सबसे ज्यादा नुकसान कुमाऊं में हुआ ऐसे में अधिकारियों का विदेशी दौरा उनकी लापरवाही को दर्शाता है। सरकार अधिकारी का विदेशी दौरा रोक सकती थी।

harak-singh-rawat

हरक सिंह रावत का अपमान ठीक नहीं- इंदिरा

उन्होंने मंत्री हरक सिंह रावत के पक्ष में खड़े होने की बात कही। उन्होंने कहा कि मंत्री का अपमान करना ठीक नहीं है। मंत्री हरक सिंह रावत अपेक्षा के शिकार हुए है। अधिकारी मंत्रियों पर हावी है। इससे साफ होता है कि अधिकारी बिना शह के ये सबकुछ नहीं करेंगे। सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए। हरक सिंह रावत हमारी सरकार में भी मंत्री रहे पर हमने कभी इस तरह का व्यवहार उनके साथ नहीं किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हरक रावत ने इस्तीफा देने की बात की है उससे साफ होता है कि उनके सम्मान को ठेस पहुंची है। सरकार को इस मामले में हस्तक्षेप कर उनके सम्मान को पुर्नजीवित करना चाहिए। यह राज्य के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

Kedaranath

भाजपा हार से परेशान-इंदिरा

पीएम मोदी के केदारनाथ और बदरीनाथ के दौरे पर नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने कहा कि भाजपा सिमट रही है। इस बार भाजपा की दाल गलने वाली नहीं है। इसलिए भगवान के शरण में आ रहे है। उन्होंने कहा कि पश्चिमी बंगाल में भाजपा की हालत किसी से छिपी नहीं है। वही सबसे ज्यादा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में भाजपा की हालत खस्ता है। यूपी में गठबंधन में भाजपा की लुटिया डूबो दी है। अब चुनाव परिणाम से भाजपा पहले ही परेशान है।