iimt haldwani

हल्द्वानी- हरीश रावत स्टिंग में नेता प्रतिपक्ष का बड़ा बयान, इस नेता के घर से सात करोड़ मैने करायें वापस

2345

हल्द्वानी न्यूज- 2016 में विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में राज्यपाल की संस्तुति के बाद सीबीआई उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ कभी भी एफआईआर दर्ज कर सकती है। हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबाआई ने कोर्ट को जानकारी दी कि सीबीआई जांच पूरी हो गई है। एजेंसी एफआईआर दर्ज करने जा रही है। मामले में गिरफ्तारी की तलवार लटकी देख पूर्व मुख्यमंत्री ने हाईकोर्ट की शरण ली है। हाईकोर्ट ने भी सीबीआई को कोई भी निर्णय लेने से पहले अनुमति लेने के आदेश दिये है। जिसका पालन करते हुए सीबीआई ने हाईकोर्ट को बताया कि वह मामले में एफ़आईआर दर्ज करने जा रही है। वही मामले में नेता प्रतिपक्ष ने भी भाजपा की पूरी पोल खोल दी है।

drishti haldwani

indira hirdeysh Neta Pratipaksh on harish rawat sting

जालसाजों का बुना हुआ जाल है हरीश रावत का स्टिंग

नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने पूरे मामले को बीजेपी के जालसाजों द्वारा बुना हुआ जाल बताया। उन्होंने कहा कि हरीश रावत ने वीडियों में ऐसा कुछ नहीं बोला गया है, जिससे उनके खिलाफ सीबीआई एफआईआर दर्ज करें। कहा कि स्टिंग हुआ था। उसमें ऐसी कोई बात नहीं थी जो मुकदमें का कारण बने। उस दौरान विपक्ष ने हरीश रावत की सरकार तोड़ने के लिए कांग्रेस के सभी विधायकों के घर सात-सात करोड़ भिजवायें थे। नेता प्रतिपक्ष ने कहा की एक नेता के घर से तो मैने खुद सात करोड़ रुपये वापस करवाये। यह स्टिंग प्लानिंग के तहत कराई गई थी।

कांग्रेस नेता एक-एक कर हो रहे टारगेट

स्टिंग में किसी तरह का कोई पैसा वितरण भी नहीं हो रहा था। स्टिंग करने वाले ने जान बूझकर होश्यारी से हरीश रावत से सारी बातें बुलवाने का प्रयास किया है। कहा कि अगर भाषा बोलने पर एफआईआर हुई है तो बीजेपी से लेकर अन्य पार्टियों के नेता भी इसमें बखूबी माहिर है। सीबीआई को उनकी भी तलाश करनी चाहिए। यह बदले की भावना से बीजेपी के कुछ लोगों द्वारा रचाया हुआ खेल है। जिसमें हर कांग्रेस नेता को एक-एक कर टारगेट किया जा रहा है।