drishti haldwani

हल्द्वानी – जीएसटी मित्र करेंगे व्यापारियों की समस्या का समाधान, ऐसे उठा सकते है व्यवस्था का फायदा

186

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क– राज्यकर विभाग की ओर से सोमवार को नगर निगम सभागार में माल एवं सेवा कर पर विभिन्न भागीदारों (स्टेकहोल्डर्स) की एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का शुभारम्भ सूबे के वित्तमंत्री प्रकाश पंत द्वारा किया गया। वित्तमंत्री का स्वागत मेयर डा. जोगेन्दर पाल सिह रौतेला तथा विभिन्न व्यापारिक संगठनों द्वारा पुष्पगुच्छ देकर किया गया। वित्तमंत्री पंत ने कहा कि आजादी के बाद देश मे यह पहला अवसर है कि वर्तमान समय में देश आर्थिक आजादी के दौर से गुजर रहा है। पिछले डेढ़ वर्ष पहले देशभर में लागू जीएसटी एक देश एक कर के सुखद परिणाम सामने आये है। जीएसटी लागू होने से जहां आम व्यापारियों को सभी सुविधाएं ऑनलाइन मिली है।

iimt haldwani

रिफंड, पंजीकरण तथा पेमेन्ट हुई ऑनलाइन

वही उपभोक्ताओं को भी जीएसटी का लाभ हुआ है। जीएसटी देश के निर्माण मे एक सफल कदम है। एक देश एक कर प्रणाली का आमजन को फायदा मिला है। वही व्यापारियों ने भी इस व्यवस्था को अंगीकृत कर जीएसटी व्यवस्था को कामयाब बनाया है। व्यापारियों के समय-समय पर प्राप्त सुझाओं ने जीएसटी प्रक्रिया के सरलीकरण का रास्ता भी प्रशस्त किया है। पंत ने कहा कि रिफंड, पंजीकरण तथा पेमेन्ट की सभी प्रक्रियाएं ऑनलाइन कर दी गई है। जीएसटी प्रक्रिया को व्यापारियों को समझाने के लिए प्रदेशभर में सरकार द्वारा 800 से ज्यादा कार्यशालाएं आयोजित कर तीस हजार व्यापारियों से दोतरफा संवाद कायम किया गया है।

जीएसटी मित्र व्यापारियों के लिए फायदेमंद- अग्रवाल

व्यापारियों की समस्याओं के निराकरण तथा उनको जानकारी उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश भर में 1117 जीएसटी मित्र बनाये गये है। उत्तराखंड देश का पहला राज्य है जहां जीएसटी मित्र व्यवस्था प्रभावी है। उन्होंने बताया कि वैटकर प्रणाली से कही ज्यादा व्यापारी जीएसटी व्यवस्था में पंजीकृत हुए है जो कि एक रिकार्ड है। उन्होंने बताया कि राज्यकर विभाग द्वारा प्रदेश के अन्य जिलों में भी व्यापारियों के बीच कार्यशालायें आयोजित कर जीएसटी प्रणाली के संबंध में जानकारी दी जायेगी। वही व्यापार मंडल के अध्यक्ष राजीव अग्रवाल का कहना है कि हल्द्वानी में कई स्थानों पर जीएसटी मित्रों ने ऑफिस खोले है। व्यापारी जीएसटी में हो रही दिक्कतों से उनसे संपर्क कर सकते है। जीएसटी मित्रों की व्यवस्था एक अच्छा कदम है।