inspace haldwani
Home उत्तराखंड हल्द्वानी- इस गांव के हर घर से है एक फौजी, फिर भी...

हल्द्वानी- इस गांव के हर घर से है एक फौजी, फिर भी परिवार वालों को झेलनी पड़ रही ये मुसिबत

मानसून शुरू होते ही पहाड़ी जीवन और भी कठिनाइयों भरा हो जाता है। ऐसे में किसी भी तरह की कोई जानहानी न हो इसके लिए प्रशासन को मानसून शुरू होने से पूर्व ही अलर्ट के चलते सभी व्यवस्थाओं को पूर्ण करने को कहा जाता है। लेकिन बात अगर हल्द्वानी शहर से आठ किमी दूर काठगोदाम के दानीजाला गांव की करें तो यहां का मंजर देख प्रशासन की तैयारी और सरकार के विकास कार्यों, दोनो की ही पोल खुल जाती है। आलम यह है कि तेज वर्षा में इस गांव के लोग और बच्चे अस्थाई रोपवे के सहारे उफनाती गौला नदी को पार करने को मजबूर हैं। बच्चे अपनी जान को जोखिम में डालकर रोपवे के सहारे नदी पार कर शिक्षा प्राप्त करने अपने स्कूल जाते है।

haldwani kathgodam news

बता दें कि हल्द्वानी से 8 किलोमीटर दूर काठगोदाम स्थित दानीजाला गांव विकास कार्यों से कोसों दूर है। इस गांव में जाने के लिए कोई रास्ता नहीं है। गौलानदी के पार बसे इस गांव के लोग आज भी बरसातों के समय रस्सी और तार से बनी ट्रॉली के सहारे उफनती नदी को पार करते हैं। इतना ही नहीं जब बरसात न हो तो ये लकड़ी का पुलिस नदी के उप्पर बिछाकर अपना रास्ता बनाते है। इन दिनों पुल नहीं होने की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी स्कूल आने जाने वाले बच्चों को उठानी पड़ रही है। दानीजाला गांव को ब्रिटिश कालीन गांव कहा जाता है। करीब 30 परिवारों वाले इस गांव में हर परिवार से कोई न कोई सेना में सेवा दे रहा है। देश की रक्षा करने वालो के घर के लोग आज भी विकास से कोसों दूर है।

गांव वालों की माने तो इस गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए कई बार आंदोलन भी किया गया। कई जनप्रतिनिधियों से भी मुलाकात की गई, लेकिन इनकी आवाज किसी ने नहीं सुनी। दानीजला गांव के लोग सामान्य दिनों में तो नदी को पैदल ही पार कर आते-जाते हैं। लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी बरसात के 3 महीनों में होती है। जब नदी उफान पर होती है। इस दौरान इस गांव का संपर्क शहर से टूट जाता है।

ग्रामीणों का आरोप है कि गांव को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए किसी सरकार या जनप्रतिनिधि ने कोई पहल नहीं की। गर्मी के दिनों में लकड़ी का अस्थायी फुल बनाकर नदी पार की जाती है। परेशानी उस वक्त बढ़ जाती है जब कोई बीमार होता है। ग्रामीणों का कहना है कि उन लोगों ने अपने खर्चे से ट्रॉली का निर्माण किया है और मजबूरन ट्रॉली में जान जोखिम में डालकर अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं।

Related News

टनकपुर से दिल्ली के लिए कल से शुरू हो रही पूर्णागिरि एक्सप्रैस , देखे समय सारणी

चम्पावत। राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी के प्रयासों की बदौलत शुक्रवार से कुमाऊं को पूर्णागिरि एक्सप्रेस ट्रेन का तोहफा मिल जाएगा।केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल...

यहां स्मैक तस्करो के सफाई अभियान में लगी पुलिस , दर्जनभर तस्कर भेजे जेल

खटीमा: वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दलीप सिंह कुंवर के निर्देशन में पुलिस ने मादक पदार्थो के कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए विशेष अभियान चला...

हल्द्वानी -यहां रिश्तेदार ही निकला नाबालिक का आरोपी , ऐसे हुआ पूरे मामले का ख़ुलासा

हल्द्वानी : बनभूलपुरा क्षेत्र में बीते दिनों गायब हुई किशोरी रामपुर से सकुशल बरामद कर ली गयी है किशोरी को भगाने वाला उसका दूर...

यहां किसानो ने अपनी ही उगाई फसल पर चलाया ट्रैक्टर, जानियें वजह

बुधवार को जसपुर के ग्राम पतरामपुर निवासी ओंकार सिंह ने अपने चार बीघा खेत में खड़ी गोभी की फसल को ट्रैक्टर चलाकर नष्ट कर...

रुद्रपुर- किसान सम्मान योजना में बढ़ा प्रदेश का नाम,देखिये महिला डीएम की कृषक ट्रिक

रुद्रपुर। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की दूसरी वर्षगांठ पर सम्मान समारोह दिल्ली में आयोजित हुआ।...

नानकमत्ता गुरुद्वारे पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र रावत, विधायकों संग टेका मत्था

राजीव कुमार सक्सेना। नानकमत्ता। गुरुद्वारा श्री नानकमत्ता साहिब पहुंचे प्रदेश के मुखिया त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दरबार साहिब में माथा टेक प्रसाद ग्रहण किया। उनको...