iimt haldwani

हल्द्वानी- फॉरेंसिक ऑफिसर के लैंस ने खोले जली बॉडी के राज, पैर मिले यहां और हत्याकर इस जगह से लगाई थी आग

1737

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क-सलड़ी के पास कार में जिंदा जले व्यक्ति के मामले में जांच चल रही है। फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल पर जाकर अच्छे से मुआयना किया। विभाग के अधिकारियों ने आशंका जताई है कि हत्या के बाद शव को एकांत में लाकर जला दिया गया है। इस मामले में टीम ने घटनास्थल व कार से कई साक्ष्य जुटाए है। जिनकी जांच की जायेगी। संयुक्त निदेशक फॉरेंसिक साइंस लैब कुमाऊं परिक्षेत्र दयाल शरण के नेतृत्व में रुद्रपुर घटनास्थल पर टीम पहुंची। टीम की माने तो पहली नजर में शव को जलाने जाने के संकेत मिले है। हत्या दूसरी जगह कर शव को यहां लाया गया है। हत्यारों ने अंधेरे का फायदा उठाकार कार को शव समेत पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर दिया। पेट्रोल से कार चंद पलों में जल गई। वही दयाल शरण ने बताया कि शव किसी आदमी का है न की महिला का। शव महिला के होने के कोई साक्ष्य जांच में नहीं मिले।

drishti haldwani

पुरूष की है कार में जली बॉडी

टीम की माने तो इस घटना को अंजाम देने वाले बड़े शातिर खिलाड़ी है। माना जा रहा है कि हत्या की योजना पहले ही बनाई गई है। इसके अलावा कार का जलाने के लिए जगह का चयन पहले से तय माना जा रहा है। घटनास्थल से भीमताल और काठगोदाम पुलिस को पहुंचने में कम से कम 45 मिनट का समय लगेगा और फायर ब्रिगेड को करीब एक घंटा। ऐसे में आग को जान बूझकर ऐसे स्थान पर लगाया गया है। दयाल शरण ने बताया कि बॉडी के अंदर धुएं को कोई कण नहीं मिला। ऐसे में माना जा रहा है कि अपने हत्या की गई बाद में कार समेत बॉडी को आग के हवाले किया गया है। इसके अलावा कार में आग अंदर से नहीं लगी है बल्कि बाहर से नीचे से लगाई गई है। बॉडी में पैर अलग मिले है जो कार के नीचे मिले। इससे साफ होता है कि यह सुसाइड नहीं हत्या है।

डीएनए की तैयारी में जुटी टीम

गौरतलब है कि सलड़ी से दो सौ मीटर पहले एक मोड़ पर सडक़ किनारे खड़ी कार से गुरुवार रात आठ बजे आग की लपठें उठ रही थीं। आसपास के लोगों ने पुलिस को मामले की सूचना दी। लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले कार पूरी तरह से जल चुकी थी। पुलिसकर्मियों ने जब भीतर झांका तो उनके होश उड़ गए। ड्राइवर सीट के बगल वाली सीट पर किसी व्यक्ति की सिर्फ हड्डियां बची थीं। आज जांच टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण का शव के डीएनए की तैयारी शुरू कर दी है जिससे यह साबित हो सकें कि बॉडी रद्रपुर निवासी अवतार सिंह की है या किसी दूसरे व्यक्ति की। टीम ने बताया कि एक-दो दिन में रिपोर्ट भेजी जायेगी। जिसे आने में करीब 15 दिन का समय लगेगा।

पति-पत्नी दोनों के फोन कॉल की हो रही जांच

इसके अलावा कार कारोबारी अवतार सिंह की होने से उसकी पत्नी से भी पूछताछ चल रही है। अवतार और नीलम के बीच की जानकारी करीबियों से जुटाई जा रही है। साथ ही दोनों की फोन डिटेल भी खंगाली जा रही है। इसके अलावा दोनों पति-पत्नी कहां-कहां और कब इसकी जांच की जा रही। पूछताछ में यह बात सामने आयी है कि नीलम ही रुद्रपुर से कार
चलाकर लायी थी। डाक्टरों को दिखाने की बात पर पुलिस चिकित्सालय में नीलम कब से कब तक थी इसकी भी जांच कर रही है।