PMS Group Venture haldwani

हल्द्वानी-फेडरेशन कप पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप में बजा देवभूमि का डंका, हल्द्वानी की दीप्ति ने जीता गोल्ड

देवभूमि में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। हर दिन एक से बढक़र एक प्रतिभायें उबरकर सामने आ रही है। आज देवभूमि की बेटियां सेना से लेकर खेल के मैदान तक, सौंदर्य से लेकर बॉलीवुड तक अपनी धाक जमा रही है। इसकी क्रम में एक और प्रतिभा का नाम जुड़ चुका है। वह नाम है हल्द्वानी की दीप्ति जोशी का। जी हां बचपन से ही खेलों के प्रति लगाव ने दीप्ति को पावर लिफ्टिंग का चैम्पियन बना दिया। दीप्ति ने गोल्ड मेडल पर कब्जा कर अपना लोहा मनावा दिया। विगत दिवस दिल्ली में आयोजित फेडरेशन कप पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप 2020 में हल्द्वानी की दीप्ति जोशी ने गोल्ड मेडल जीतकर उत्तराखंड का नाम रोशन किया। उन्होंने 63 किलोग्राम कैटेगरी में यह मेडल जीता है। इस प्रतियोगिता में 700 खिलाडिय़ों ने प्रतिभाग किया।

Deepti joshi02
दिल्ली में फेडरेशन कप पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप प्रतियोगिता विगत 14 से 16 मार्च तक आयोजित की गई। जिसमें हल्द्वानी की दीप्ति जोशी ने अपना जलवा दिखाते हुए उत्तराखंड मान बढ़ाया। दीप्ति के मेडल जीतने से उनके परिजनों में खुशी का माहौल है। दीप्ति जोशी मूलरूप से नैनीताल की रहने वाली है। डीएसबी परिसर नैनीताल से ही उन्होंने पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। अपनी जीत पर दीप्ति ने बताया कि वर्तमान में वह रामपुर रोड हल्द्वानी में रहती है। वह मुखानी स्थित प्रतिबिंब जिम में अपनी प्रैक्टिस करती है। उनके पिता ईश्वरी दत्त जोशी सरकारी विभाग से रिटायर्ड है जबकि माता राधा जोशी गृहणी है।

Deepti joshi02

उन्होंने वर्ष 2018 में फिटनेस के लिए जिम ज्वांइन किया। धीरे-धीरे उन्होंने फिटनेस को ध्यान में रखकर पावर लिफ्टिंग में हाथ आजमाने का मन बनाया। पहले प्रयास में ही सफलता उनके हाथ लगी। इसके बाद दीप्ति ने पीछे मुडक़र नहीं देखा। उन्होंने कई प्रतियोगितों में अपना डंका बजाया। अभी तक दीप्ति 8 मेडल अपनी झोली में डाल चुकी है। अब फेडरेशन कप पावर लिफ्टिंग चैम्पियनशिप प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर उन्होंने उत्तराखंड का नाम रोशन किया। इसके अलावा ऑल ओवर इंडिया नेशनल बैंच में सिल्वर मेडल जीता।

Deepti joshi

इसके पहले वह स्ट्रोगेस्ट महिला की ट्राफी भी जीत चुकी है। दीप्ति ने बताया कि उनका सपना देश के लिए खेलना है। इसके लिए वह कड़ी मेहनत कर रही है। उनके गोल्ड मेडल जीतने पर कोच आदित्य बर्थवाल और प्रतिबिंब जिम के ऑनर पवन वर्मा समेत उनके रिश्तेदारों ने उन्हें बधाई दी। उनकी टीम का नेतृत्व करने वालों सेक्रेटरी श्याम राना, कोच आदित्य बर्थवाल, गढ़वाल सेक्रेटरी अर्जुन गुलाटी शामिल थे।

 

Coronavirus vaccine) वैज्ञानिकों ने ढूँढ निकाला कोरोना का सबसे सस्ता इलाज, 100 रुपए में ऐसे होगा कोरोना की जाँच