PMS Group Venture haldwani

हल्द्वानी-शिक्षा जगत में डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट ने लहराया परचम, विदेशों में इन बड़ी कंपनियों मिला छात्रों को रोजगार

हल्द्वानी-रामपुर रोड देवलचौड़ स्थित डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट प्रदेश के व्यवसायिक संस्थानों में शुमार है। हर साल की तरह इस बार भी डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट के छात्रों का चयन देश-विदेश के अग्रणीय कंपनियों में हुआ है। कैंपस साक्षात्कार के आधार पर डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट के छात्रों का चयन दुबई, ओमान, कतर, न्यूजीलैंड व अन्य देशों की उच्च मल्टीनेशनल कंपनियों में एक अच्छे सैलरी पैकेज पर हुआ है। अपनी इस सफलता से छात्रों में खुशी का माहौल है। डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट उत्तराखंड में अपनी एक अलग पहचान बना चुका हैं। इसलिए यह इंस्टीट्यूट आज छात्रों की पहली पसंद बना हुआ है। संस्थान सभी छात्रों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

4 से 15 लाख सालाना पैकेज पर हुआ चयन- हरडिय़ा

इस मौके पर संस्थान की मीडिया प्रभारी निकीता रौतेला ने बताया कि छात्रा रिया त्रिपाठी का चयन द लीला उदयपुर में जीआरई, सुनीता राणा का द लीला गुरुग्राम में फ्रॉन्ट ऑफिस एसोसिएट, यक्षिता बोरा का द लीला गुरुग्राम में फ्रॉन्ट ऑफिस एसोसिएट, अक्षय डोगरा का रेडिसन श्रीनगर में सेकेंड कोमी, राहुल टंगडिय़ा का मैरिअट अहमदाबाद में फस्र्ट कॉमी, संतोष अल्मियां का रिट्ज कार्लटन में एफ एंड बी कैप्टन, संगीता बोरा का कुवैत कॉन्टिनैन्टल में सीनियर होस्टेज, ललित बिष्ट का साइबर हब गुरुग्राम में एफ एंड बी कैप्टन एवं अन्य छात्र-छात्राओं का उच्च सैलरी पैकेज पर 4 से 15 लाख सालाना आय में देश-विदेश की मल्टीनेशनल कंपनियों में चयन हुआ है। इस अवसर पर डैफोडिल्स एजुकेशनल इस्टीट्यूट के निर्देशक पूर्व प्रधानाचार्य राजकीय इंटर कॉलेज उत्तराखंड बोर्ड नारायण सिंह हरडिय़ा ने बताया कि संस्थान के छात्र-छात्राएं न केवल भारत में अपितु विदेशी अग्रणीय कंपनियों मं उच्च पदों व अच्छी सैलरी पैकेज में कार्यरत हैं। कैंपस साक्षात्कर के आधार पर रिया त्रिपाठी द लीला, उदयपुर, नवनीत पाण्डे जिन्जर गुरुग्राम, खीला जे डब्ल्यू मैरियट चेन्नई, नम्रता मेहता वेस्ट वैस्टन गुरुग्राम, अभिषेक जोशी द लीला दिल्ली, संगीता बोरा कुवैत कॉन्टिनेन्टल एवं अन्य छात्र-छात्राओं का उच्च सैलरी पैकेज 4 से 15 लाख वार्षिक आय के साथ देश-विदेश की मल्टीनेशनल कंपनियों में चयन हुआ है।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।