drishti haldwani

हल्द्वानी- DM Nainital ने किया कन्या पूजन, पूजन के दौरान माता से मांगी यह मुराद

583

Nainital News, जिलाधिकारी सविन बंसल की पहल पर पहली बार नैनीताल जिला प्रशासन द्वारा कन्या पूजन का आयोजन किया गया। शरदीय नवरात्र के अन्तिम दिन नवमी को मल्लीताल स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र निकट प्राथमिक विद्यालय गौशाला पाठशाला में जिलाधिकारी सविन बंसल ने आमंत्रित कन्याओं का पूजन किया तथा उन्हें उपहार भी दिए। इस दौरान डीएम ने सभी कन्याओं का आशीर्वाद भी प्राप्त किया। साथ ही कन्याओं की सुरक्षा और उजवल भविष्य के लिए माता से मुराद भी मांगी।

iimt haldwani

बदलते दौर में बेटियां किसी से कम नहीं

बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि बच्चियों का प्राचीन काल से सम्मान किया जाता रहा है। जिसमें प्रतिवर्ष चैत्र तथा कार्तिक माह मे नवरात्रों का आयोजन कर कन्या पूजन का बहुत ही पुराना विधान एवं संस्कृति है। इसका उद्देश्य कन्याओं के संरक्षण, संवर्धन एवं उन्हें शिक्षित किया जाना रहा है।

DM Nainital kanya worship news

बदलते दौर में हम कन्या पूजन तो अवश्य करते हैं लेकिन वंश वृद्धि के लिए पुत्र-पुत्री में भेद करते हैं। जिसके कारण हमारा लिंगानुपात भी असंतुलित होने लगा है। उन्होंने कहा कि बदलते दौर में बेटियां किसी भी हाल में कम नहीं है। बालिकाओं ने अनेकों क्षेत्रों में नए कीर्तिमान स्थापित कर अपनी योग्यता का प्रदर्शन किया है। समाज के उच्च शिखरों पर महिलाएं विद्यमान रही हैं।

खुद की सुरक्षा के लिए बालिकायें सीखेंगी मार्शल आर्ट

इस खास मौके पर मल्लीताल फ्लैट्स में बाल विकास विभाग द्वारा निर्भया योजना के अन्तर्गत आयोजित बालिका आत्म सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी सविन बंसल द्वारा रिबन काट कर किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि बालिकाओं को अपनी सुरक्षा के लिए मार्शल आर्ट जैसी कलाओं से प्रशिक्षित होना चाहिए।

यह न केवल आत्म सुरक्षा के लिए आवश्यक है वरन इसमें करियर बनाने की बहुत सी संभावनाएं होती है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत नैनीताल के सभी वार्डो में चयनित युवतियों व छात्राओं को मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण दिया जायेगा। मार्शल आर्ट एकेडमी के संचालक रोहित यादव ने बताया कि इस प्रशिक्षण में बालिकाओं को आत्म रक्षार्थ गुर सिखाये जायेंगे। जिसमें कराटे आदि भी शामिल है।