inspace haldwani
Home उत्तराखंड हल्द्वानी-डेंगू के मरीजों को निशुल्क बकरी का दूध बांट रहा ये शख्स,...

हल्द्वानी-डेंगू के मरीजों को निशुल्क बकरी का दूध बांट रहा ये शख्स, लोग दे रहे दुआएं

हल्द्वानी- (जीवन राज)-डेंगू की बीमारी हल्द्वानी के हाल बेहाल है। सरकारी अस्पतालों से लेकर प्राईवेट अस्पाल तक फूल है। अभी तक डेंगू से मरने वालों की संख्या 8 पहुंच चुकी है। ऐसे में लोग इस बीमारी के इलाज के लिए जगह-जगह दौड़ रहे हैं। वही डेंगू में बकरी के दूध का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। ऐसे में इन दिनों हल्द्वानी में लोग बकरी के दूध के लिए इधर-उधर भटक रहे है। वही बकरी के दूध की मांग बढऩे से उसके दामों में इजाफा हुआ है। लोग 100 से 300 रुपये किलो तक बकरी का खरीद रहे है। शहर में एक शख्स ऐसा भी है जो निशुल्क बकरी का दूध डेंगू के मरीजों को बांट रहा है। आप भी उनसे निशुल्क बकरी का दूध ले सकते है।

Ad. Sharif Ahmad

इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं-शरीफ

मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं, इंसानियत से बड़ा कोई मजहब नहीं, यह लाइने इस शख्स पर सटीक बैठती है। जी हां हम बात कर रहे है नवाबी रोड पर मिल्क बार डेरी नाम से दुकान चलाने वाले एडवोकेट शरीफ अहमद की। जो हल्द्वानी शहर में डेंगू के मरीजों को निशुल्क बकरी का दूध बांट रहे है। पूरा शहर डेंगू की चपेट में है ऐसे में बकरी का निशुल्क दूध किसी की जान बचा सकता है। शरीफ अहमद लोगों के लिए एक फरिश्ते से कम नहीं है। न्यूज टूडे नेटवर्क से बातचीत में एडवोकेट शरीफ अहमद बताया कि वह बकरी का दूध बाजपुर से लाते है। इसके बाद हल्द्वानी में अपनी दुकान पर लाकर बांट देते है। करीब 15 दिन से वह बकरी का दूध निशुल्क बांट रहे है। उन्होंने कहा कि इंसान कोई धर्म को जाति नहीं होती। सबकुछ यही बनाया हुआ है। मेरे हाथों से किसी का अच्छा होता है तो मुझे बड़ा गर्व महसूस होता है।

Milk Bar Dairy

बाजपुर से लाते है दूध

शरीफ ने बताया कि शनिवार को एक डेंगू के मरीज का खून की जरूरत थी तो वह खून देकर आये। उन्होंने कहा कि वह सुबह 11.30 से 12 बजे तक बकरी का दूध बांटते है। जब तक डेंगू की महामारी हल्द्वानी शहर से खत्म नहीं हो जाती तब तक वह निशुल्क दूध वितरित करेंगे। शरीफ ने बताया कि उनके पहले उनके छोटे भाई को डेंगू हुआ जैसे ही वह डिस्चार्ज हुआ तो उनके बड़े भाई को डेंगू का हो गया। उन्होंने कहा कि जब खुद परिवार का व्यक्ति बीमार होता है तो परिजनों का क्या हाल होता है उनसे बेहतर कोई नहीं जानता। वर्ष 1987 से कालाढूंगी रोड पर उनका डेरी का काम है। वह बाजपुर से दूध एकत्र कर हल्द्वानी में बेचते है। उन्होंने कहा कि जिसे भी जरूरत हो वह दुकान से बकरी का दूध ले जा सकता है। उन्होंने कहा कि इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं है।

Related News

हल्द्वानी : यहां गुलदार के शव मिलने से वन विभाग में सनसनी , देखे पूरी खबर

हल्द्वानी - तराई पूर्वी वन प्रभाग के गौला रेंज अंतर्गत चोडाघाट क्षेत्र में करीब पांच वर्षीय एक गुलदार का शव मिलने से वन विभाग...

कलयुगी बेटा अपनी ही माँ को ऐसे सुलाया मौत की नींद

देहरादून के डालनवाला में एक बुजुर्ग महिला की गला दबाकर हत्या कर दी गई। हत्या का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ।पुलिस ने शुरुआती जांच...

किसान ट्रैक्टर रैली में उत्तराखंड के युवक की मौत का सच, देखिये पुलिस ने क्या कहा?

दिल्ली किसान परेड में उत्तराखंड के युवक की मौत की खबर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है जिस पर पुलिस ने सख्त रुख...

बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रेखा वर्मा का कुमाऊं दौरा , 65 सीटे जीतने का किया दावा

बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तराखंड की सह प्रभारी रेखा वर्मा में आज हल्द्वानी में कार्यकर्ताओं के साथ संवाद किया, इस मौके पर उन्होंने...

किच्छा: बेहड़ ने किसान ट्रैक्टर रैली को दिखाई हरी झंडी, कही ये बात

किच्छा। पूर्व मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता तिलकराज बेहड़ ने आज किच्छा टोल प्लाजा से लालपुर के किसानों की ट्रेक्टर रैली को हरी झंडी...

रुद्रपुर: सांसद रेखा वर्मा ने किया जिला पंचायत में ध्वजारोहण, दिया यह संदेश

रुद्रपुर। भाजपा की उत्तराखंड सह प्रभारी एवं सांसद रेखा वर्मा ने जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू गंगवार के साथ जिला पंचायत में ध्वजारोहण किया। सांसद वर्मा...