हल्द्वानी- दिल्ली पब्लिक स्कूल ने विश्व पर्यावरण दिवस पर की ये बड़ी अपील, ऐसे दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

Slider

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर हल्द्वानी के रामपुर रोड पर स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल ने इस बार घर पर रहकर 47वां विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की अपील की है। विद्यालय के बच्चों ने घर पर ही विभिन्न क्रिया कलापों से पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया । बच्चों ने प्रकृति से सम्बंधित पेंटिंग्स बनाई । स्लोगन लिखकर भावनाएं व्यक्त की । कि और आस पास में अभिभावकों के सहयोग से पेड़ भी लगाए । सभी ने अपने प्रयासों को सोशल मीडिया पर शेयर भी किया । इस दिन को मनाने का मुख्य कारण है व्यक्ति को पर्यावरण के प्रति सचेत करने का हम इंसानों और पर्यावरण के बीच बहुत गहरा संबंध है। प्रकृति के बिना हमारा जीवन संभव नहीं है।

डीपीएस के विद्यार्थी पर्यावरण संरक्षण करते हुए
डीपीएस के विद्यार्थी पर्यावरण संरक्षण करते हुए

हम अक्सर अपने पर्यावरण को बचाने की बाते करते रहते हैं। इस बार विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून, 2020 को मनाया रहा है, जिसका थीम जैव विव‍िधता रखा गया है। ताकी लोगों को पर्यावरण की अहमियत, इंसानों व पर्यावरण के बीच के गहरे ताल्‍लुकात को समझाते हुए प्रकृति के संरक्षण के लिए प्रेरित किया जा सके। विश्व पर्यावरण दिवस हमें इस बात का एहसास दिलाता है कि हमें प्रकृति का सम्मान करना चाहिए एवं हमें अपनी प्रकृति से प्रेम करना चाहिए पेड़.पौधों को अपनी सुख सुविधाओं के लिए नष्ट नहीं करना चाहिए, बल्कि पेड़.पौधे ज्यादा से ज्यादा लगने चाहिए, ताकि हमारी धरती हरी.भरी रहे। आधुनिक समय में औद्योगिकीकरण ने कार्बन उत्सर्जन की मात्रा को कई गुणा बढ़ा दिया है। कार्बन से उत्पन्न प्रदूषण को तभी कम किया जा सकता है, जब हम खूब पेड़.पौधें लगाएं नदी, नाले, धरने इत्यादि की रक्षा करें।

Slider

प्रधानाचार्या रंजना शाही ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के काल में इन बातों का ध्यान रखकर पर्यावरण संरक्षण में योगदान दे सकते हैं । इस पर्यावरण दिवस पर आप अपने घर में पौधे या आसपास फिर पेड़ लगाएं इससे आपके घर को पेड़ की छाया, ताज़ा हवा भी मिलेगी और पर्यावरण की भी मदद होगी। अपने घर के सामान को रीसाइकल करने की ठानें अपने परिवार के सभी लोगों को इसका हिस्सा बनाएं और सोचे कि घर के बचे हुए ज़्यादा से ज़्यादा सामान को कैसे रीसाइकल किया जा सकता है। पॉलीथीन का उपयोग ना करें। सब्जी व सामान के लिए कपड़े की थैलियां रखें।

अगर आपको इधर उधर थूकने की आदत है तो सुधारें। नई पीढ़ी को प्रकृति, पर्यावरण, पानी व पेड़-पौधों का महत्व समझाएं। बिजली के बिल में कटौती करने वाले उपाय सोचो पुराने बल्ब पर जमी धूल पोंछने पर कमरे में दो के बजाय एक ही बल्ब से काम चल जाएगा गर्म पानी से नहाने की आदत बदलोगे तो भी चल सकता है। किसी भी पुरानी चीज को फेंकने के बजाय उसका दूसरा इस्तेमाल कैसे व किस चीज में किया जाए ये जरूर सोचें। फ्रिज के पानी के बजाय मटके का ठंडा पानी ज्यादा बेहतर है ।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें