drishti haldwani

हल्द्वानी-अगर शरीर के किसी भी हिस्से में है गांठ तो 90 दिनों में ऐसे हो जायेगा साफ, जानिये डॉ. एनसी पाण्डेय के टिप्स

479

हल्द्वानी-साहस हौम्योपथिक के डॉक्टर एनसी पाण्डेय हर बार की तरह इस बार भी एक नई बीमारी पर अपना वीडियो लाये है। यह वीडियो उन्होंने अपने यू-ट्यूब चैनल साहस हौम्योपैथिक पर अपलोड किया है। इस बार डॉ. एनसी पाण्डेय ने बताया कि त्वचा के भीतर हुए फोड़े की तरह दिखने वाला या सामान्य-सी उभरी हुई गांठ को ही लिपोमा कहा जाता हैं। या इसे चर्बी वाली गांठ भी कहा जाता हैं आमतौर पर यह एक स्थान पर होती हैं तो इस पर गौर भी नहीं किया जाता हैं। यह शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकती हैं, इन गांठो में दर्द तो नहीं होता है परन्तु इन्हे स्किन के अंदर महसूस किया जा सकता हैं। कई बार यह रबर की तरह सॉफ्ट होते है जो हाथ लगाने पर अपनी जगह से थोड़ा इधर-उधर हिलते है, परन्तु कई बार यह ठोस होते हैं। शरीर के किसी भी हिस्से पर यह गांठे हो तो इसका उपचार सिर्फ होमियोपैथी में सम्भव हैं। इनका आकर लगभग 1सेंमी से 4 सेमी तक कुछ भी हो सकता हैं।

iimt haldwani

डॉ. पाण्डेय ने इसके उपचार के लिए इन दवाइयों का सेवन करने को कहा जिससे यह पूर्ण रूप से ठीक हो जायेगा। गांठों के लिए आप Acid Hydrofluorine 10m की 4 पुडिय़ा या 1/2 dram गोली भी ले सकते हैं। पुडिय़ा हैं तो पुडिय़ों को आप 10-10 मिनट के अंतर से खाये। और अगले दिन से Calc Fluor 6x  की 4-4 गोली तीन बार, इसके साथ Silicea 6x  की 4-4 गोली तीन बार लें। इसके साथ Corium Q  को आधे कप पानी के साथ 10 बूंदे सुबह, 10 बूंदे शाम को लेनी हैं। यदि, 90 दिन दवा लेने के बाद भी लिपोमा ठीक नहीं हुआ हैं तो आप 90 दिन के बाद Acid Hydrofluoric 10m की 4 पूडिय़ा ले सकते हैं।

Acid Hydrofluorine 10m : 4 पुडिय़ा
Calc Fluor 6x : 4 -4 गोली, 3 बार
Silicea 6x : 4-4 गोली, 3 बार
Conium Q :10-10 बूंदे, 3बार