PMS Group Venture haldwani

हल्द्वानी-एशिया कप में उत्तराखंड का नाम रोशन करने को बेताब है राजेन्द्र धामी, राज्य सरकार से आर्थिक मदद की उम्मीद

हल्द्वानी-न्यूज टुडे नेटवर्क-(जीवन राज)-पिथौरागढ़ के राजेन्द्र ङ्क्षसह धामी का चयन भारतीय दिव्यांग टीम में हुआ है। राजेंद्र सिंह धामी उत्तराखंड व्हील चेयर क्रिकेट टीम के कप्तान है। आगामी14 मई से 18 मई तक नेपाल काठमांडू में होने वाले एशिया कप में प्रतिभाग करेंगे। इस बार एशिया कप में पाकिस्तान, नेपाल, भारत और बांग्लादेश की टीमें भाग लेंगी। बता दें कि धामी पैरालम्पिक के खिलाड़ी है। भारत की टीम में उत्तराखंड की ओर से एकमात्र खिलाड़ी है। उनके चयन से उत्तराखंड का नाम रोशन हुआ है। अब अपनी वह बल्लेबाजी से कमान कर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाने को तैयार है। लेकिन इस एशिया कप के सफर में धन की कमी उनके आड़े आ रही है।

14 मई से 18 मई तक होगा एशिया कप

न्यूज टुडे नेटवर्क से खास बातचीत में उत्तराखंड व्हील चेयर क्रिकेट टीम के कप्तान राजेंद्र सिंह धामी ने बताया कि वह काफी लंबे समय से क्रिकेट खेलते आये है। अंतरराष्ट्रीय मैचों के अनुभव को देखते हुए उनका भारतीय एशिया कप के लिए चयन हुआ है। धामी मूलरूप से कनालीछीना विकासखंड के ख्वांकोट निवासी है। अब तक सात अंतरराष्ट्रीय व्हीलचेयर क्रिकेट टूर्नामेंट खेल चुके हैं। नेपाल की राजधानी काठमांडू में 14 मई से 18 मई तक होने वाले एशिया कप में दिव्यांग धामी का चयन हुआ है। धामी की आर्थिक स्थिति ठीक न होना उनके एशिया कप के सफर में आड़े आ रही है। वह एशिया कप में खेलने को काफी उत्साहित है।

 

एशिया कप में खेलने वाले एकमात्र उत्तराखंडी खिलाड़ी

इससे पहले कई टूर्नामेंटों में धामी का लोगों ने आर्थिक सहयोग किया। लेकिन प्रदेश सरकार से अभी तक उन्हें कोई आर्थिक मदद नहीं मिली। धामी अंतराष्ट्रीय स्तर पर उत्तराखंड का नाम रोशन कर चुके है। अब एशिया कप के लिए उनका चयन हुआ है। धामी एक मात्र ऐसे दिव्यांग खिलाड़ी है जिनका चयन उत्तराखंड से हुआ है लेकिन सरकार की बेरूखी से वह काफी नाराज दिखे। धामी ने बताया कि घर की आर्थिक स्थिति ठीक ने होने से उन्हें इधर-उधर खेलने जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। धामी बेरोजगार है। इससे पहले कई समाजसेवी उनकी मदद को आगे भी आये। लेकिन एक बार फिर एशिया कप के सफर के लिए धामी की आर्थिक स्थिति उनके सामने खड़ी है। उन्होंने राज्य सरकार से आर्थिक मदद की मांग की है।

(कोरोना वायरस)उत्तराखंड के पहले ट्रेनी IFS अफसर जिन्होंने मौत को मात दी, देखिये पूरी कहानी