हल्द्वानी-आम्रपाली शिक्षण संस्थान में खाने की महक से ललचाने लगी जीभ, जानिए प्रतियोगियो ने क्या क्या परोसा

Slider

कुमाऊं अंचल के अग्रणी व्यवसायिक षिक्षा संस्थान आम्रपाली के होटल प्रबंधन विभाग में अभ्युदय 2020 पंद्रहवीं राष्ट्रीय हाॅस्पिटैलिटी टैंलेंट हंट प्रतियोगिता का आज प्रथम दिन था। अभ्युदय 2020 के समन्वयक डाॅ. विनोद नेगी ने बताया कि प्रतियोगिता में आम्रपाली होटल प्रबंधन संस्थान की टीम के अतिरिक्त आई.एस.एच. गुडगाॅव जी.आई.एच.एम. बडोदरा एल.बी.आई.एच.एम. दिल्ली, सी.एच.टी.एस. लखनऊ, बी.सी.आई.एच.एम.सी.टी. दिल्ली, जयपुर नेशनल विश्वविद्यालय, जागरण विश्वविद्यालय भोपाल, पंजाब विश्वविद्यालय, लक्ष्य संस्थान पानीपत, आई.एच.एम. देहरादून,

Slider

ग्राफिक ऐरा विश्वविद्यालय देहरादून, विद्या ज्योति एजूकेशन, सी.आई. अलीगढ, राम इन्स्टीट्यूट देहरादून, यू.आई.एच.एम.टी. देहरादून, गेटवे सोनीपत, आई.एच.एम.एस. कोटद्वार, रेनेसां रामनगर, खटीमा इन्स्टीट्यूट टेक्नोलाॅजी आदि 20 से अधिक संस्थान प्रतिभाग कर रहे हैं। आज क्षेत्रीय भारतीय कुलिनरी प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने अनूठे क्षेत्रीय व्यंजनों का उत्क्ष्ट प्रदर्शन किया जिसमें गुुजरात, काश्मीर, उत्तराखण्ड, बिहार, राजस्थान, पंजाब, अवध कुजीन आदि प्रमुख थे। दूसरे चरण मे पेतिसियरी और कन्फेक्शनरी प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने चाॅकलेट सूफ्ले, तिरामिसू, मोल्डेड चाॅकलेट केक, टार्ट आदि का प्रदर्शन किया।

तीसरे चरण में बारटेंडिंग प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने फ्लेयरिंग से जजों का मन मोह लिया तथा विभिन्न प्रकार के काॅकटेल्स बनाए जिनमें व्लू लगून, स्क्रूड्राइवर, व्लडीमेरी, पिंक लेडी, हवाइट लेडी इत्यादि मुख्य थे। चैथे चरण में हाउसकीपिंग स्किल प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने फूलों द्वारा की जाने वाली भिन्न-भिन्न सजावटों का प्रदर्शन किया जिनमें राउन्ड फ्लावर अरेजमेन्ट, फ्रन्ट फेसिंग, इकेबाना, होगर्ट कर्व आदि मुख्य थीं। इसके साथ ही प्रतिभागियों ने घड़ों और सुराहियों को सजाकर उच्चतर कला के उत्कृष्ट नमूने पेश किये। प्रतिभागियों ने तौलियों द्वारा विभिन्न कलाकृतियाॅ बनाकर अपने हुनर का बेहतरीन प्रदर्शन किया। पाॅंचवें चरण मे मास्टर शैफ मिस्ट्री बास्केट कुलिनरी प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने चुनी हुई समाग्रियों का उपयोग करके विभिन्न नये व्यंजनों जैसे मैगी टार्ट, चिकन रूलाद टोमैटो चिली जैम, कोकोनट डिलाईट, रिवोली पास्ता, मशरूम पनीर कबाब, बीट रूट पुडिंग, रीकंस्ट्रक्टेड सैलेड डैªसिंग आदि बनाए। छठे चरण में ट्राॅसफॅारर्मेशन  वेस्ट टू वन्डरफुल प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने पुरानी खराब वस्तुओं, रद्दी पेपर, अनुपयोगी तौलिए, अन्डे के छिलके, पैट बोतल आदि का प्रयोग करके कलात्मक उपयोगी वस्तुओं का निर्माण किया एवं दुनियाॅ को गो ग्रीन और अपशिष्ट रहित संसार का संदेश दिया। सातवें चरण मे अध्ययन प्रतियोगिता में प्रतिभागियों ने आतिथ्य एवं पर्यटन उद्योग में समय समय पर होने वाली घटनाओं की केस स्टडी को सुलझाकर अपने निर्णय लेने की क्षमता को प्रदर्शित किया। इस वर्ष देश के पर्यटन क्षेत्र के विभिन्न गणमान्य व्यक्ति जैसे शैफ तनुज नैयर, शैफ राहुल वाली, प्रशांत रूवालिया, मनीष सती, मनोज तिवारी, अजय पार्थी, दिनेश भट्ट, प्रदीप कुमार सिह, अनुराग सोनी, सुनीता रौतेला, डाॅ. दीपिका जोशी आदि इस कार्यक्रम में निर्णायक के रूप में मौजूद रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में आई.एच.एम. देहरादून के प्रधानाचार्य डाॅ. जगदीप खन्ना ने भी उपस्थित होकर प्रतिभागियों को प्रोत्साहित किया। इस अवसर पर संस्थान के चेयरमैन सी.एल. ढीगरा, सचिव नरेन्द्र ढींगरा, सी.ई.ओ. डाॅ. संजय ढींगरा, कोषाध्यक्ष बिन्दु चावला, होटल प्रबंधन विभाग के सी.ओ.ओ. डाॅ. एस.के. सिंह, डीन अकादमिक प्रो. प्रशांत शर्मा, अन्य विभागों के प्रबंधक, आगन्तुकों तथा शिक्षक गणों ने सभी प्रतिभागियों के प्रयासों की सराहना की एवं उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें