नई दिल्ली- नहीं रहे गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर, लंबे समय से कैंसर से थे पीड़ित

68

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर अब नहीं रहे। रविवार को उन्होंने अपने आवास पर अंतिम सांस ली। पर्रिकर एक साल से पैनक्रियाटिक कैंसर से जूझ रहे थे। उनके निधन के बाद गोवा में राजनीतिक संकट गहरा गया है। कांग्रेस के सरकार बनाने का दावा ठोकने के बाद बीजेपी नेतृत्व गोवा में नए सीएम की तलाश में जुटा है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी रविवार को रात 12.30 बजे सरकार बनाने की संभावना पर बातचीत करने के लिए गोवा पहुंचे। पर्रिकर की जगह लेने के लिए बीजेपी की तरफ से विश्वजीत राणे और प्रमोदी सावंत के नाम सुझाए गए हैं। लेकिन सूत्रों की मानें तो बीजेपी के सहयोगी दलों महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी), गोवा फॉरवर्ड पार्टी और निर्दलीय विधायकों में इन नामों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है। लिहाजा नए सीएम के लिए गोवा को अभी और इंतजार करना पड़ेगा।

शनिवार को मनोहर पर्रिकर की हालत बेहद नाजुक होने की खबर सामने आने के बाद बीजेपी नेतृत्व ने पणजी पहुंचकर सहयोगी दलों के विधायकों से मीटिंग की। मीटिंग से बाहर आने के बाद मीडिया से बात करते हुए गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई ने कहा, ‘हमने मनोहर पर्रिकर को समर्थन दिया था न कि बीजेपी को। अब जब वह नहीं रहे तो विकल्प खुले हुए हैं। हम गोवा में स्थिरता चाहते हैं।

हम नहीं चाहते हैं कि सदन को भंग किया जाए। हम बीजेपी विधायिका दल के फैसले का इंतजार करेंगे और उसके बाद अगला कदम उठाएंगे।’ बता दें कि मीटिंग में गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के प्रमुख विजय सरदेसाई अपनी पार्टी के दो विधायकों विनोद पालीकर और जयेश सलगांवकर के साथ आए थे। उनके साथ दो निर्दलीय विधायक रोहन खवंटे और गोविंद गावडे भी थे।