सरकारी कर्मचारियों पर मेहरबान मोदी सरकार, 26 साल पुराने नियम को बदलकर दिया ये बड़ा तोहफा

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : केंद्र की मोदी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दिया है। मोदी सरकार की ओर से कर्मचारियों के शेयरों और म्यूचुअल फंडों में निवेश के खुलासे की लिमिट बढ़ा दी गई है। मोदी सरकार ने यह लिमिट बढक़र कर्मचारियों के छह माह के मूल वेतन के बराबर कर दी है।

murcual

सभी विभागों को मंत्रालय की ओर से आदेश जारी

बता दें कि केंद्रीय कर्मचारियों को इसका 26 साल से इंतजार था। इसकी जानकारी कार्मिक मंत्रालय की ओर से दी गई है। इस बारे में केंद्र सरकार के सभी विभागों को मंत्रालय की ओर से आदेश जारी किया गया है। मोदी सरकार के इस फैसले के बाद करीब 26 साल पहले की मौद्रिक सीमा नियम में बदलाव होगा।

गौरतलब है कि पहले समूह-ए और समूह-बी के अधिकारियों को शेयरों, प्रतिभूतियों, डिबेंचरों या म्यूचुअल फंड योजनाओं में कैलेंडर साल में 50,000 हजार रुपये से अधिक का लेन-देन करने पर उसका ब्यौरा देना पड़ता था। जबकि समूह-सी और समूह- डी के कर्मचारियों के लिए यह लिमिट मात्र 25,000 रुपये थी।

mutchual1

कर्मचारियों को देनी होगी निवेश की सूचना

लेकिन अब मोदी सरकार के नए नियम के तहत कर्मचारियों को अपने निवेश की सूचना तभी देनी होगी जब एक कैलेंडर साल में यह निवेश उनके छह माह के मूल वेतन से ज्यादा हो जाएगा। दरअसल, सातवां वेतन लागू होने के बाद सरकारी कर्मचारियों के वेतन में इजाफा हुआ है। इस कारण लिमिट की सीमा बढ़ाने का फैसला किया गया है। प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा ट्रांजेक्शन पर निगाह रखने के लिए सरकार ने कर्मचारियों को ब्यौरा साझा करने का प्रारूप जारी किया है।

mutual-fund

प्रशासनिक अधिकारी लेन-देन पर रखें निगाह

सरकार ने अब फैसला किया है कि अब सभी कर्मचारियों को शेयरों, प्रतिभूतियों, डिबेंचर और म्यूचुअल फंड योजनाओं में अपने निवेश की सूचना तभी देनी होगी जबकि एक कैलेंडर साल में यह निवेश उनके छह माह के मूल वेतन को पार कर जाए। मंत्रालय ने इस बारे में केंद्र सरकार के सभी विभागों को आदेश जारी किया है। प्रशासनिक अधिकारी इस तरह के लेन-देन पर निगाह रख सकें इसके मद्देनजर सरकार ने कर्मचारियों को इस ब्योरे को साझा करने के बारे में प्रारूप भी जारी किया है।