inspace haldwani
Home उत्तराखंड कुमाऊँ क्या है गैस्ट्राइटिस और कैसे करें इसका उपचार, आइये जानते है डा....

क्या है गैस्ट्राइटिस और कैसे करें इसका उपचार, आइये जानते है डा. संजय जोशी से पूरी जानकारी

रुद्रपुर: एवज़ी में पिता की ड्यूटी करने गया था जवान बेटा, लौटा तो कफ़न में लिपट कर, हर आंख हो गई नम

रुद्रपुर । पिता परिवहन विभाग मुरादाबाद में थे, उन्हें चोट लगी तो जवान बेटा एवज़ी में पिता की ड्यूटी करने चला गया, लेकिन जब...

रुद्रपुर: जिला पंचायत बोर्ड की बैठक 31को, सांसद अजय भट्ट करेंगे शिरकत

रुद्रपुर । सांसद अजय भट्ट 31 अक्तूबर को जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में प्रतिभाग करेंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू गंगवार ने बोर्ड की बैठक...

दिनेशपुर: बीएड फाइनल की छात्रा को फांसी पर लटका देखा तो परिजनों की निकली चीख

दिनेशपुर। थाना क्षेत्र के ग्राम चक्की मोड़ निवासी एक युवती ने फांसी लगा ली, जिससे उसकी मौत हो गई । युवती बीएड की छात्रा थी...

रुद्रपुर: बेदाग छवि के त्रिवेंद्र सिंह रावत हर अग्नि परीक्षा में उतारेंगे खरे: शिव अरोरा

रुद्रपुर। भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत पर भ्रष्टाचार के आरोप बेबुनियाद और झूठे हैं। जिलाध्यक्ष शिव अरोरा बृहस्पतिवार को पत्रकारों...

केलाखेड़ा: इस कारण खुले आसमान के नीचे पड़ा है किसानों का सैकड़ों कुंतल धान

केलाखेड़ा। नगर समीपवर्ती ग्राम रामनगर में किसान सहकारी समिति के तौल केंद्र पर धान की खरीद बंद है, जिससे किसान और पल्लेदार परेशान हो...

लालडांठ स्थित जोशी क्लीनिक में विश्व प्रसिद्ध आयुर्वेदिक क्षार-सूत्र चिकित्सा द्वारा सफल उपचार किया जाता है। यहां पाइल्स (बवासीर) फिस्तुला (भगंदर), फिशर एवं पाइलोडिल साइनस के मरीजों का उपचार किया जाता है। इसके अलावा संस्थान के विशेषज्ञ डा. संजय जोशी ने जानकारी देते हुए बताया कि गैस्ट्राइटिस का उपचार किया जाता है। डा. संजय जोशी ने बताया कि गैस्ट्राइटिस कई तरह को होता है। साथ ही इसके क्या-क्या लक्षण है और इस बीमारी में हमें अपना खान-पान किस तरह का रखना चाहिए इसकी पूरी जानकारी हमें दी है। आइये जानते है सबसे पहले गैस्ट्राइटिस क्या है।

गैस्ट्राइटिस पेट के भीतरी स्तर (mucus membrane) पर सूजन केलिए एक आम नाम है। गैस्ट्राइटिस से पीड़ित मरीज़ अधिकांश दिन के दौरान असहज महसूस करते हैं। गैस्ट्राइटिस एक सामान्य स्थितिहै जो सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करती है।

compressed-gmhy

गैस्ट्राइटिस, इसमें आमाशय या पेट के अन्दर कि सतह पर सूजन हो जाती है। पेट की परत में ग्रंथियां होती हैं जो पेट में एसिड और पेप्सिन नामक एक एंजाइम उत्पन्न करती हैं। पेट में एसिड भोजन को तोड़ता है और पेप्सिन उसे पचाता है। पेट की परत में म्यूकस की कोट की एक मोटी परत और पेट के ऊतकों को अम्लीय पाचन रस से नष्ट होने से रोकने में मदद करता है। पेट की परत पर सूजन होने पर, यह कम एसिड और कम एंजाइम पैदा करता है। हालांकि, पेट की परत पर एक म्यूकस की परत होती है  जो आम तौर परअम्लीय पाचन रस से पेट की परत की रक्षा करती है।

एच पाइलोरी एक आम गैस्ट्रिक रोगजनक है जो गैस्ट्राइटिस, पेप्टिकअल्सर रोग, गैस्ट्रिक एडेनोकार्सीनोमा, और निम्न ग्रेड गैस्ट्रिक लिम्फोमा का कारण बनता है। गैस्ट्राइटिस का मुख्य कारणअसंतुलित भोजन है, जिसमें जंक फूड, कैफीन, शराब, तनाव, अवसाद, दुःख, दर्द कुछ दवाओं के दुष्प्रभाव  हैं । कुछ बीमारियां, जैसे हानिकारक एनीमिया, ऑटोइम्यून विकार, और क्रोनिक पित्तरिफ्लक्स, गैस्ट्राइटिस भी पैदा कर सकती हैं।

गैस्ट्राइटिस दो प्रकार का होता है-

1. तीव्र जठरांत्र(Acute gastritis) अचानक शुरू होता है और थोड़े समय तक रहताहै।

2 क्रोनिक जठरशोथ(Chronic gastritis) लंबे समय तक चलने वाला है।

एच पिलोरी का एंडोस्कोपिक बायोप्सी नमूने के परीक्षण द्वारा निदान किया जाता है। अन्य विभिन्न परीक्षण में अपर गैस्ट्रोइन्टैस्टाइनल एन्डोस्कोपी, रक्त परीक्षण, मल परीक्षण आदि हैं। आयुर्वेद में, गैस्ट्राइटिस ऊधर्व अम्लपित्त के रूप में जाना जाता है। यह मुख्य रूप से पित्त दोष होता है। जब पित्त दोष खराब हो जाता है, ऐसे लोगों में, गैस्ट्राइटिस होने की संभावना अधिक होती है। मनुष्यों में मौजूद तीन दोष, अर्थात्, वात (वायु ऊर्जा), पित्त  (अग्निऊर्जा) और कफ (तरल ऊर्जा) ग्रहणी (डुओडेनम) में स्थित हैं जो पाचन आग या अग्नि का स्थान हैं। उपवास, अपचन के दौरान खानाआदि पाचक पित्त और पाचकाग्नि को दूषित करता है और अम्लपित्त का कारण बनता है।

एच. पाइलोरी संक्रमण (H. pylori infection) आम तौर पर विकासशील देशों में होता है,ज्यादातर संक्रमण बचपन से शुरू होताहै। बहुत से लोगों में एच. पाइलोरी से संक्रमित होने के कोई लक्षण नहीं होते हैं। वयस्कों होने पर लक्षण दिखाने की अधिक संभावना होती है।

लक्षण-

• अपचन होना • पेट में दर्द होना • हिचकी आना • जी मिचलाना • उल्टी होना • डार्क मल आना • सीने में जलन होना • भूख में कमी

कारण-

1.पित्त को बढ़ाने वाले आहार विहार , जिससे प्रतिक्रियाशील गैस्ट्राइटिस हो जाती है

2.एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया

3.एच संक्रमण पाइलोरी: एच पाइलोरी (H. pylori) एक प्रकार का बैक्टीरिया-जीव है जो संक्रमण काकारण हो सकता है।

4.क्रोनिक गैस्ट्राइटिस के मुख्य कारक कारकों में शराब, तंबाकू, कैफीन, खट्टा, मसालेदार, अम्लीय खाद्य पदार्थ और मैदा उत्पादों की अत्यधिक खपत शामिल है। तनाव, क्रोध और गर्मी के संपर्क में भी इस स्थिति में वृद्धि हुई है।

आहार और जीवन शैली-

गैस्ट्राइटिस से पीड़ित मरीजों को एक या दो दिनों तक उपवास करना चाहिए।

• इन दिनों के दौरान उन्हें रसदार फल जैसे अंगूर, सेब, पानी के खरबूजे आदि दिए जा सकते हैं।

• विषाक्त पदार्थों को दूर करके पेट को detoxify करें

• कॉफी और कार्बोनेटेड या मादक पेय से दूर रहें।

• संसाधित और किण्वित खाद्य पदार्थों से बचें।

• रोजाना व्यायाम करने की कुछ मात्रा करें; प्राणायाम का अभ्यास करना सहायक हो सकता है।

• एक दिन में कम से कम 8-9 गिलास पानी पीएं पर खाने के साथ पानी न पिए, पानी खाना के आधा घंटे पहले या पौन घंटे बाद पिए ऐसा करने पेट को आराम मिलेगा और अंदर जमा सभी विषाक्त पदार्थों को साफ़ करेगा। आप संस्थान के विशेषज्ञ डा. संजय जोशी से इस 9412958478, 9634624717 नंबर पर संपर्क कर सकते है।

Related News

रुद्रपुर: एवज़ी में पिता की ड्यूटी करने गया था जवान बेटा, लौटा तो कफ़न में लिपट कर, हर आंख हो गई नम

रुद्रपुर । पिता परिवहन विभाग मुरादाबाद में थे, उन्हें चोट लगी तो जवान बेटा एवज़ी में पिता की ड्यूटी करने चला गया, लेकिन जब...

रुद्रपुर: जिला पंचायत बोर्ड की बैठक 31को, सांसद अजय भट्ट करेंगे शिरकत

रुद्रपुर । सांसद अजय भट्ट 31 अक्तूबर को जिला पंचायत बोर्ड की बैठक में प्रतिभाग करेंगे। जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू गंगवार ने बोर्ड की बैठक...

दिनेशपुर: बीएड फाइनल की छात्रा को फांसी पर लटका देखा तो परिजनों की निकली चीख

दिनेशपुर। थाना क्षेत्र के ग्राम चक्की मोड़ निवासी एक युवती ने फांसी लगा ली, जिससे उसकी मौत हो गई । युवती बीएड की छात्रा थी...

रुद्रपुर: बेदाग छवि के त्रिवेंद्र सिंह रावत हर अग्नि परीक्षा में उतारेंगे खरे: शिव अरोरा

रुद्रपुर। भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत पर भ्रष्टाचार के आरोप बेबुनियाद और झूठे हैं। जिलाध्यक्ष शिव अरोरा बृहस्पतिवार को पत्रकारों...

केलाखेड़ा: इस कारण खुले आसमान के नीचे पड़ा है किसानों का सैकड़ों कुंतल धान

केलाखेड़ा। नगर समीपवर्ती ग्राम रामनगर में किसान सहकारी समिति के तौल केंद्र पर धान की खरीद बंद है, जिससे किसान और पल्लेदार परेशान हो...

रुद्रपुर: डीपीएस की मुस्कान ने इस तरह कर दिया नाम रोशन

रुद्रपुर। दिल्ली पब्लिक स्कूल की छात्रा मुस्कान का चयन क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड में अंडर 23 महिला क्रिकेट टीम में हुआ है। जिससे दिल्ली पब्लिक...