drishti haldwani

देहरादून-वित्त मंत्री पंत ने पटल पर रखा 2452 करोड़ का अनुपूरक बजट, अब तक किस विभाग को कितना मिला बजट

192

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क-शीतकालीन विधानसभा सत्र आज से शुरू हो गया। पहले दिन के सत्र में संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी को श्रद्धांजलि देने के लिए अनुपूरक बजट व जमींदारी विनाश एवं भूमि व्यवथा अधिनियम को पेश करने को छोड़ सभी विषय स्थगित करने का अनुरोध किया। इसके बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने श्रद्धांजलि देते हुए अनुभव किये साझा। विधानसभा में वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने 2452 करोड़ रुपये का अनुपूरक बजट सदन के पटल पर रखा। राजस्व मद में 1706 करोड़ और पूंजीगत मद और 746 करोड़ का अनुपूरक बजट में प्रवधान।

iimt haldwani

विधानसभा के शीतकालीन सत्र में प्रदेश के वित मंत्री प्रकाश पन्त ने कुल 2452.41 करोड़ रुपये का अनुपूरक बजट पेश किया, जिसमें राजस्व मद से 1706.25 एवं पूंजी मद में कुल 746.16 करोड़ रूपये सम्मिलित है।

विभागवार बजट आवंटन के अन्तर्गत इन विभागों को निम्नानुसार धनराशि बजट में स्वीकृति प्रदान की गयी-
कृषि विभाग के कुल 364.45 करोड़ रूपये (उद्यान विभाग को13.27, पशुपालन 40.02 एव कृषि 311.18 करोड़ रूपये) आवंटित किये गये।
ग्राम्य विकास को कुल 218.17 करोड़ रूपयेे।
शिक्षा विभाग को कुल 206.06 करोड़ रूपयेे।
जलापूर्ति विभाग को कुल 184.19 करोड़ रूपयेे।
चिकित्सा विभाग को कुल 166.13 करोड़ रूपयेे।

अनुपूरक बजट की विशेषताए-

वेतन मद में कुल 261.96 करोड़ रूपयेे तथा पेंशन आदि मदों में 228.30 करोड़ रूपयेे।
विश्व बैंक सहायतित उत्तराखण्ड लोक वित्तीय प्रबन्धन सुदृढीकरण परियोजना के अन्तर्गत 16 करोड़ रूपये।
विशेष केन्द्रीय सहयाता के अन्तर्गत 100 करोड़ रूपयेे।
मुम्बई में उत्तराखण्ड भवन एवं इम्पोरियम के अन्तर्गत 5 करोड़ रूपयेे।
अपराध से पीड़ित सहायता कोष के अन्तर्गत 2 करोड़ रूपयेे।
कुम्भ व्यवस्था हेतु पुलिस विभाग के अन्तर्गत 50 लाख रूपये।
पुलिस विभाग के आवासीय तथा अनावासीय भवनों के निर्माण हेतु 150 लाख रूपये।
सर्वशिक्षा अभियान के अन्तर्गत 20 करोड़ रूपयेे।
शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अन्तर्गत प्रतिपूर्ति मद में 10 करोड़ रूपयेे।
राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के अन्तर्गत 10.50 करोड़ का प्राविधान राजस्व मद में तथा 10 करोड़ का प्रविधान पूंजीगत मद में किया गया।
फार्मेसी पॉलिटेक्निक के उच्चीकरण हेतु 1.20 करोड़ रूपयेे।
अटल आयुष्मान उत्तराखण्ड योजना हेतु 71.80 करोड़ रूपयेे।
अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज हेतु 30 करोड़ रूपयेे, दून मेडिकल कॉलेज के अन्तर्गत 10 करोड़ रूपयेे, राजकीय मेडिकल कॉलेज के अन्तर्गत 5 करोड़ रूपयेे।
नगरीय पेयजल योजनाओं के रख-रखाव हेतु 10 करोड़ रूपयेे।
एसडब्ल्यूएसएम के अन्तर्गत 2 करोड़ रूपयेे।
पेयजल की वैकल्पिक व्यवस्था एवं पुनर्निर्माण हेतु 5 करोड़ रूपयेे।
पम्पिंग पेयजल योजनाओं में ऊर्जा दक्ष पम्पों हेतु 2 करोड़ रूपयेे।
नाबार्ड वित्त पोषित पेयजल योजनाओं हेतु 40 करोड़ रूपयेे।
राष्ट्रीय पोषण मिशन के अन्तर्गत 38.74 करोड़ रूपयेे।
किसान पेंशन योजना हेतु 25.19 करोड़ रूपयेे।
किशोर न्याय अधिनियम के अन्तर्गत 2 करोड़ रूपयेे।
18 वर्ष से अधिक आयु की बालिकाओं/महिलाओं हेतु राज्यस्तरीय उत्तर रक्षा गृहों हेतु 2 करोड़ रूपयेे।
अल्पसंख्यकों हेतु मल्टी सेक्टोरल विकास योजना हेतु 5 करोड़ रूपयेे।
समेकित जलागत प्रबन्धन कार्यक्रम के अन्तर्गत 12 करोड़ रूपयेे।
परम्परागत कृषि विकास योजना के अन्तर्गत 53 करोड़ रूपयेे।
सब मिशन ऑन एग्रीकल्चर एक्सटेंशन योजना के अन्तर्गत 1.67 करोड़ रूपयेे।
फ्ल्ड प्लेन जोनिंग हेतु 1ण्5 करोड़ रूपये तथा बलिया नाला के उपचार हेतु 2 करोड़ रूपयेे।
बाढ के कारण क्षतिग्रस्त परिसम्पत्तियों के निर्माण हेतु 5 करोड़ रूपयेे।
सडक़ो के निर्माण हेतु 170 करोड़ रूपयेे।
पर ड्राप मोर क्राप के अन्तर्गत 8 करोड़ रूपयेे।