inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड डॉ पंत को मिला वृक्षमित्र सम्मान, निस्वार्थ भाव से हर वर्ष लगाते...

डॉ पंत को मिला वृक्षमित्र सम्मान, निस्वार्थ भाव से हर वर्ष लगाते हैं इतने पेड़…

देहरादून- उत्तराखंड में कैंसर मरीजों को जल्द मिलेगी ये सुविधा, सांसद अनिल बलूनी ने की बड़ी घोषणा

उत्तराखंड में टाटा समूह के माध्यम से विश्व स्तरीय कैंसर संस्थान खोला जाएगा। टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे अधिक मामले, इतनों ने गवाईं अपनी जान

उत्तराखंड में आज 424 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 73951 हो गया है। जबकि 13...

उत्तराखंड- कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए इस जिले में फिर लगेगा लॉकडाउन, रहेंगे ये नियम

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देहरादून प्रशासन ने रविवार को बाजार बंद रखने का आदेश दिया है। सिर्फ जरूरी...

देहरादून- उत्तराखंड के इस गायक के जन्मदिन पर मनाया जाता है ‘जागर संरक्षण दिवस’, इसलिए मिला पद्मश्री पुरूस्कार

प्रीतम भरतवाण उत्तराखण्ड के विख्यात लोक गायक हैं। भारत सरकार ने उन्हें 2019 में पद्मश्री पुरूस्कार से समानित किया। वे उत्तराखण्ड में बजने वाले...

रुद्रपुर: इस तरह लूटते थे टुकटुक, पुलिस ने धरदबोचा

रुद्रपुर। बीते दिवस हुई दो टुकटुक लूटकांडों का कोतवाली पुलिस ने 48 घंटे के भीतर पर्दाफाश करते हुए एक रेस्टोरेन्ट के कारीगर सहित दो...

देरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क : 22 अप्रैल 2019 को नैनीताल जिले के रामनगर में पर्यावरण को समर्पित संस्था कल्पतरु का तृतीय वार्षिक समारोह सम्पन्न हुआ। यह संस्था हरियाली बढ़ाने के संकल्प को लेकर बहुत ही अनुकरणीय कार्य कर रही है। इसमें बैंकर, शिक्षक, वैज्ञानिक, प्रशासनिक अधिकारी, व्यापारी, पूर्व सैनिक व अन्यान्य क्षेत्रों से जुड़े लोग निस्वार्थ भाव से काम कर रहे हैं। कल्पतरु संस्था के प्रयासों से रामनगर हल्द्वानी मार्ग पर वन भूमि पर ढाई हजार से अधिक द्घद्बष्ह्वह्य प्रजाति के पेड़ लगाए गए हैं, बल्कि ना केवल लगाए गए संस्था के सदस्य लगातार इनकी देखभाल भी कर रहे हैं। इनके प्रयासों से कुछ समय मे यहां एक सघन वन तैयार होने की आशा है।

pant1

1995 से मैती अभियान चलाया

ये मेरा सौभाग्य है कि मुझे भी संस्था के साथ काम करने का अवसर मिला। वार्षिकोत्सव के अवसर पर संस्था द्वारा मुझे इस वर्ष का वृक्षमित्र सम्मान दिया गया जिसके लिए में आभारी हूँ। इस अवसर पर मुख्य वक्ता श्री कल्याण सिंह रावत ” मैती” जी थे। उन्होंने गढ़वाल में 1995 से मैती अभियान चलाया है जिसके तहत वहां हर विवाह के अवसर पर वर वधु द्वारा एक फलदार पौधा रोपा जाता है जिसकी देखभाल मायके वाले करते हैं । ये भी पर्यावरण संरक्षण में एक बहुत अच्छा योगदान है। मैती जी ने विस्तार से अपने अनुभव बांटे।

डॉ आशुतोष पंत, आयुर्वेद चिकित्सक/ पर्यावरण कार्यकर्ता का कहना है कि वह पिछले कई वर्षों से शादी विवाह , नामकरण या गृहप्रवेश आदि अवसरों पर पौधे भेंट करता हूँ। यह मेरे प्रतिवर्ष 15 हजार पेड़ लगाने के लक्ष्य से अलग है। जो भी जैसे भी बन पड़े हमें धरती को बचाने के लिए हरियाली बढ़ानी है। कल्पतरु जैसी समर्पित संस्था से सीख लेने की जरूरत है।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड में कैंसर मरीजों को जल्द मिलेगी ये सुविधा, सांसद अनिल बलूनी ने की बड़ी घोषणा

उत्तराखंड में टाटा समूह के माध्यम से विश्व स्तरीय कैंसर संस्थान खोला जाएगा। टाटा समूह के प्रमुख रतन टाटा ने राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे अधिक मामले, इतनों ने गवाईं अपनी जान

उत्तराखंड में आज 424 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 73951 हो गया है। जबकि 13...

उत्तराखंड- कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए इस जिले में फिर लगेगा लॉकडाउन, रहेंगे ये नियम

उत्तराखंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए देहरादून प्रशासन ने रविवार को बाजार बंद रखने का आदेश दिया है। सिर्फ जरूरी...

देहरादून- उत्तराखंड के इस गायक के जन्मदिन पर मनाया जाता है ‘जागर संरक्षण दिवस’, इसलिए मिला पद्मश्री पुरूस्कार

प्रीतम भरतवाण उत्तराखण्ड के विख्यात लोक गायक हैं। भारत सरकार ने उन्हें 2019 में पद्मश्री पुरूस्कार से समानित किया। वे उत्तराखण्ड में बजने वाले...

रुद्रपुर: इस तरह लूटते थे टुकटुक, पुलिस ने धरदबोचा

रुद्रपुर। बीते दिवस हुई दो टुकटुक लूटकांडों का कोतवाली पुलिस ने 48 घंटे के भीतर पर्दाफाश करते हुए एक रेस्टोरेन्ट के कारीगर सहित दो...

रुद्रपुर: अंतत: पुलिस ने छोड़ा किसानों का रास्ता, हजारों किसान दिल्ली रवाना

रुद्रपुर। दो दिन तक हाइवे पर डेरा डालने के बाद तराई के किसानों को दिल्ली जाने की अनुमति मिली तो अपराह्न दो बजे हजारों...