drishti haldwani

कुत्तों के बाल से भी ज्यादा खतरनाक बैक्टीरिया होते है पुरुषों की दाढ़ी में…. वजह है ये खास

220

नई दिल्ली-न्यूज टुडे नेटवर्क : लडक़ों में आजकल दाढ़ी को लेकर तरह-तरह का फैशन देखने को मिल रहा है। आजकल का युवा वर्ग अधिकतर दाढ़ी बढ़ाकर रख रहा है। वहीं दाढ़ी को लेकर एक रिसर्च भी सामने आ रही है। जिसमें हैरान कर देने वाला खुलासा हुआ है। इस रिसर्च के मुताबिक मर्दों की दाढ़ी में कुत्ते के बाल से भी ज्यादा खतरनाक एवं घातक बैक्टीरिया पाया जाता है। ये बैक्टीरिया इंसान को बीमार करने के लिए काफी है। इस रिसर्च से ये पता लगाने की कोशिश की गई है कि क्या इंसानों को भी कुत्तों से पैदा होने वाले रोग होने का खतरा है या नहीं? एक रिपोर्ट के मुताबिक, जांच के लिए एमआरआई स्कैनर का इस्तेमाल किया गया है।

iimt haldwani

dadhi

रिसर्च में खुलासा

रिसर्च में तकरीबन 18 पुरुषों की दाढ़ी के बालों का सैंपल लिया गया और 30 कुत्तों के बालों का। रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि पुरुषों की दाढ़ी में बैक्टीरिया का स्तर कुत्तों के बालों में बैक्टीरिया के मुकाबले ज्यादा है। साथ ही यह बैक्टीरिया काफी पॉवरफुल और तेजी से फैलने वाला है। शोधकर्ताओं के अनुसार, कई बार साफ-सफाई के बावजूद भी दाढ़ी में कई खतरनाक बैक्टीरिया फंसे रह जाते हैं। यह बैक्टीरिया सीधे स्किन से टच होने के कारण इन्फेक्शन का कारण बनते हैं। बर्मिंघम ट्राइकोलॉजी सेंटर के स्पेशलिस्ट कैरल वाकर ने इस पर अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि चेहरे पर बाल चाहे दाढ़ी, मूंछ या नाक के भीतर हों, इनमें मौजूद कीटाणु सीधे त्वचा के कांटेक्ट में होते हैं। लेकिन आपको ये जानकार काफी हैरानी होगी कि पुरुषों की दाढ़ी बीमारियों का घर है।

dadhi5

दाढ़ी में खतरनाक बैक्टीरिया

रिसर्च में इस बात का भी खुलासा हुआ, कि पुरुषों की बड़ी दाढ़ी में ‘स्टेफिलोकोकस’ नामक खतरनाक बैक्टीरिया बहुत तेजी से पनपता है। इससे त्वचा सम्बन्धी कई रोग और संक्रमण होते हैं। इसलिए अगर आप चाहते हैं, कि आपकी दाढ़ी में खतरनाक बैक्टेरिया न पनपे तो आप लंबे समय तक दाढ़ी न रखें, और बदलते लुक को कुल बनाये। शोधकर्ताओं के अनुसार, कई बार साफ-सफाई के बावजूद भी दाढ़ी में कई खतरनाक बैक्टीरिया फंसे रह जाते हैं। यह बैक्टीरिया सीधे स्किन से टच होने के कारण इन्फेक्शन का कारण बनते हैं।

than_dogs

दाढ़ी वाले पुरुष होते हैं ज्यादा बीमार

बर्मिंघम ट्राइकोलॉजी सेंटर के स्पेशलिस्ट कैरल वाकर ने इस पर अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि चेहरे पर बाल चाहे दाढ़ी, मूंछ या नाक के भीतर हों, इनमें मौजूद कीटाणु सीधे त्वचा के कांटेक्ट में होते हैं। इस सिलसिले में रिसर्चर रॉन कटलर ने जानकारी देते हुए कहा कि जो पुरुष दाढ़ी रखना पसंद करते हैं कई बैक्टीरिया दाढ़ी के बालों में छिपे रहते हैं। जो पुरुष क्लीनशेव होते हैं उनकी अपेक्षा दाढ़ी वाले पुरुष अधिक बीमार पड़ते हैं। रिसर्च में इस बात का भी खुलासा हुआ कि कि पुरुषों की बढ़ी दाढ़ी में स्टेफलोकोकस नामक खतरनाक बैक्टीरिया बहुत तेजी से पनपता है। इससे त्वचा सम्बन्धी कई रोग और संक्रमण होते हैं।