drishti haldwani

उत्तराखंंड घूमने आये टूरिस्ट भूल कर भी न करें ये काम, सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

220

Uttarakhand tourism, उत्तराखंड घूमने आने वाले पर्यटकों से राज्य सरकार अब एक नया Tax वसूलने जा रही है। जिसका असर सीधा पर्यटकों की जेब पर पड़ सकता है। सरकार द्वारा प्लास्टिक के इस्तमाल पर रोक लगाने के लिए इस टैक्स को लाया जा रहा है। जो कि होटलों और रेस्तरां के माध्यम से पर्यटकों से वसूला जाएगा। होटल और रेस्तरां जितना कूड़ा पैदा करेंगे, उस हिसाब से उन्हें टैक्स देना होगा। हालाकिं स्थानीय होटल एसोसिएशन ने इस नए टैक्स का विरोध किया है। एसोसिएशन का आरोप है कि नगर निगम और नगर पालिकाओं के पास खुद कूडे के निस्तारण की कोई व्यवस्था नही है तो वो चार्ज कैसे लगा सकते हैं।

iimt haldwani

uttarakhand tourism

होटलों और रेस्तरां से निकलने वाले प्लास्टिक पर लगेगा टैक्स

पर्यवारण मंत्री हरक सिंह रावत ने इस नए टैक्स का ऐलान किया है। देवभूमी में होटलों और रेस्तरां से वसूला जाने वाला ये टैक्स दरअसल पर्यटकों से ही वसूला जाएगा। खास तौर पर होटलों और रेस्तरां से निकलने वाले प्लास्टिक पर ये टैक्स लगाया जाएगा। उनके बिल में ये चार्ज अलग से लगाया जाएगा। पर्यटन मंत्री के मुताबिक इस नए कर से स्वच्छता को तो बढावा मिलेगा ही साथ ही राजस्व आय भी बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि इस तरह की व्यवस्था विदेशों में पहले से है, और इससे उनकी सफाई व्यवस्था बेहतर हुई है। उन्होंने कहा कि जब वहां इस तरह की व्यवस्था है तो यहां क्यों नही हो सकती।

होटल एसोसिएशन ने जताया विरोध

होटल और पर्यटन से जुडे व्यवसायी इस फैसले से इत्तेफाक नही रखते। उनका कहना है कि वो पहले ही नगर पालिका और नगर निगमों को टैक्स देते हैं तो फिर अलग से टैक्स कि क्या जरुरत है। वो कहते हैं कि नगर निगम के पास खुद कूडे के निस्तारण की कोई व्यवस्था नही है तो वो कैसे चार्ज लगाएगी। उत्तराखण्ड एसोसिएशन के सदस्य मनु कोच्चर की आपत्ति है कि टैक्स लगा देना इस मसले का हल नहीं है।