Digital Payment: लॉकडाउन में ऑनलाइन पेमेंट में आई तेजी, जो पहले नहीं कर पाई सरकार वो अब हो गया

पीएम नरेंद्र मोदी सत्ता में आने के बाद ही डिजिटल पेमेंट (digital payment) को बढ़ावा देने लगे थे, खासकर तब जब नोटबंदी हुई थी। मोदी सरकार की कई प्रयासों के बाद भी डिजिटल पेमेंट देश में उस मुकाम पर नहीं पहुंच पाया था जिस मुकाम तक सरकार चाहती थी। लेकिन कोरोना वायरस ने ऑनलाइन पेमेंट (online payment) को एक अच्छे स्तर तक बढ़ा दिया। लॉकडाउन (lockdown) के दौरान लोगों ने जमकर ऑनलाइन पेमेंट किया।
digital payments online banking
संक्रमण के खतरे को देखते हुए लोग बिजली के बिल (electricity bill) से लेकर ग्रॉसरी (grocery) तक के लिए डिजिटल पेमेंट प्रयोग कर रहे हैं। कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (Corporation of India) की डाटा रिपोर्ट के मुताबिक, जून में लोगों ने कोरोना के डर की वजह से यूपीआई का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया था। इसके साथ ही यूपीआई के जरिए 1.2 ट्रिलियन ट्रांसजेक्शन की गई थी।

जानकारी के लिए बता दें कि अभी 10 फीसदी डिजिटल ट्रांसजेक्शन जीडीपी (GDP) का हिस्सा है। साथ ही भारत सरकार ने भी डिजिटल ट्रांसजेक्शन को प्रतिदिन एक बिलियन पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है। पिछले साल रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank of India) ने कहा था कि हम 2021 तक 15 फीसदी डिजिटल ट्रांसजेक्शन को जीडीपी का हिस्सा बनाना चाहते हैं।
                          http://www.narayan98.co.in/
narayan college                        https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

उत्तराखंड की बड़ी खबरें