बिहार : अग्निपथ को लेकर छात्रों में शांति, विपक्ष हवा देने की तैयारी में

पटना, 21 जून (आईएएनएस)। सेना भर्ती की योजना अग्निपथ को लेकर बिहार में प्रदर्शन थम गया। पिछले तीन दिनों से पूरे राज्य में शांति कायम है। हालांकि राजनीतिक दल अभी भी इस मुद्दे को छोड़ने के मूड में नहीं है, इस कारण इस मुद्दे को हवा देने में जुटे हैं।
 | 
बिहार : अग्निपथ को लेकर छात्रों में शांति, विपक्ष हवा देने की तैयारी में पटना, 21 जून (आईएएनएस)। सेना भर्ती की योजना अग्निपथ को लेकर बिहार में प्रदर्शन थम गया। पिछले तीन दिनों से पूरे राज्य में शांति कायम है। हालांकि राजनीतिक दल अभी भी इस मुद्दे को छोड़ने के मूड में नहीं है, इस कारण इस मुद्दे को हवा देने में जुटे हैं।

बिहार में विपक्षी दलों का महागठबंधन बुधवार को अग्निपथ योजना के विरोध में राजभवन मार्च करने वाला है।

अग्निपथ योजना को लेकर बिहार में विपक्षी दल केंद्र पर लगातार निशाना साध रहा है। महागठबंधन इस योजना के खिलाफ 22 जून को राजभवन तक मार्च करेंगे।

राजद नेता तेजस्वी यादव के नेतृत्व में महागठबंधन के सभी विधायक बिहार विधानसभा से लेकर राजभवन तक पैदल मार्च करेंगे।

chaitanya

राज्यपाल से मिलकर महागठबंधन की तरफ से अग्निपथ स्कीम को वापस लेने की मांग से संबंधित ज्ञापन राज्यपाल को सौपेंगे।

भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने बताया कि बिहार सरकार आंदोलनकारियों के जबदरस्त दमन पर उतर आई है। मुकदमे थोपे जा रहे हैं और जगह-जगह निर्दोष लोगों की गिरफ्तारी हो रही है। हम सरकार से मांग करते हैं कि आंदोलनकारियों पर से तमाम मुकदमे वापस और सभी गिरफ्तार छात्र-युवाओं को रिहा किया जाए।

उन्होंने कहा कि पूरा देश सरकार की अग्निपथ योजना को मानने को तैयार नहीं है, फिर भी मोदी सरकार अड़ियल रवैया अपना रही है और जनभावना का अनादर कर रही है। यहां तक कि वह आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश कर रही है।

हम बिहार सरकार से मांग करते हैं कि यदि वह सचमुच अग्निपथ योजना के खिलाफ है, तो विधानसभा के आगामी सत्र में इस योजना के खिलाफ प्रस्ताव पारित करे। उन्होंने बताया कि 22 जून को पटना में भाकपा-माले व महागठबंधन के सभी घटक दलों के विधायक राजभवन मार्च करेंगे।

माले राज्य सचिव ने कहा कि मोदी सरकार के इस अड़ियल रवैये के खिलाफ कृषि कानूनों के खिलाफ चले किसान आंदोलन से सीखते हुए सरकार को झुकाने के लिए छात्र-युवा समुदाय को लंबी लड़ाई की योजना बनानी चाहिए।

--आईएएनएस

एमएनपी/एएनएम