तृणमूल प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिला, बंगाल में जल्द उपचुनाव की मांग

कोलकाता/नई दिल्ली, 15 जुलाई (आईएएनएस)। तृणमूल कांग्रेस के छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की और पश्चिम बंगाल की छह खाली सीटों पर जल्द से जल्द उपचुनाव कराने का आग्रह किया।
 | 
तृणमूल प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग से मिला, बंगाल में जल्द उपचुनाव की मांग कोलकाता/नई दिल्ली, 15 जुलाई (आईएएनएस)। तृणमूल कांग्रेस के छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने गुरुवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की और पश्चिम बंगाल की छह खाली सीटों पर जल्द से जल्द उपचुनाव कराने का आग्रह किया।

चुनाव आयोग को सौंपे गए एक ज्ञापन में तृणमूल ने कहा कि राज्य में कोरोनोवायरस के मामलों की घटती संख्या के साथ, उपयुक्त कोविड प्रोटोकॉल के साथ उपचुनाव आयोजित करने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं।

पार्टी ने कहा, कोविड-19 मामलों की संख्या अब कम से कम 17 गुना कम है, 14 जुलाई तक 831 से कम मामले सामने आए हैं। विधानसभा चुनावों के दौरान संक्रमण दर 33 प्रतिशत थी, लेकिन अब यह घटकर 2 प्रतिशत से भी कम हो गई है, इसलिए इन निर्वाचन क्षेत्रों में उपचुनाव कराने के लिए यह अनुकूल समय है। लगातार गिरावट को देखते हुए, यह उम्मीद की जाती है कि जब तक उपचुनावों की घोषणा और आयोजन किया जाता है, तब तक रोजाना मामलों की संख्या में और कमी आएगी।

chaitanya

नई दिल्ली में बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए, तृणमूल संसदीय दल के नेता सुदीप बंद्योपाध्याय ने कहा, हमने सौहार्दपूर्ण माहौल में एक बैठक की और उन्होंने सब कुछ बहुत ध्यान से सुना। उन्होंने बताया कि आयोग स्थिति पर कड़ी नजर रख रहा है। हमें उम्मीद है कि बैठक का कुछ सकारात्मक परिणाम निकलेगा।

उपचुनाव मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए महत्वपूर्ण हैं, जो नंदीग्राम में भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से विधानसभा चुनाव हार गई थीं। मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए छह महीने के अंदर उपचुनाव जीतना उनके लिए बेहद जरूरी है। ममता को 4 नवंबर तक विधानसभा के लिए निर्वाचित होने की जरूरत है।

उपचुनावों के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा, चुनाव आयोग ने हमसे दो राज्यसभा सीटों के चुनाव के बारे में पूछा, लेकिन उन्होंने विधानसभा सीटों के बारे में कुछ नहीं पूछा। हमने सूचित किया है कि हम दोनों चुनाव कराने के लिए पर्याप्त रूप से तैयार हैं।

दिनहाटा और शांतिपुर विधानसभा सीटें भाजपा नेताओं निसिथ प्रमाणिक और जगन्नाथ सरकार के विधायकों के पद से इस्तीफा देने और संसद की सदस्यता बनाए रखने के लिए चुने जाने के बाद खाली हो गईं। ममता बनर्जी की भवानीपुर सीट भी खाली हो गई है, क्योंकि राज्य के मंत्री शोभन देव चट्टोपाध्याय ने इस सीट से उनके निर्वाचित होने के लिए इस्तीफा दे दिया है।

उत्तर और दक्षिण 24 परगना की खरदाह और गोसाबा सीटों पर उपचुनाव क्रमश: तृणमूल की काजल सिन्हा और जयंत नस्कर की कोविड के कारण हुई मौत के बाद होना है।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम