inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- जाने कौन है ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’, इतिहास बचाने को क्यों बेची...

देहरादून- जाने कौन है ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’, इतिहास बचाने को क्यों बेची जमीन और प्रेस

शिवप्रसाद डबराल जिनके ग्रन्थ आज उत्तराखंड का इतिहास जानने के लिये सबसे उपयोगी माने जाते हैं। उनको ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’ भी कहा जाता है। शिवप्रसाद डबराल का जन्म 13 नवम्बर 1912 को पौड़ी जिले में हुआ। उनकी शिक्षा मांडई व गढ़सिर के स्कूल से हुई। उन्होंने मेरठ से बीए और इलाहाबाद से बीएड किया।

25 भागों में लिखा उत्तराखंड का इतिहास

1962 में उन्होंने अपनी पीएचडी पूरी की इस दौरान वे डी.ए.बी. कॉलेज दुगड्डा में प्रधानाचार्य के पद पर थे। उनकी लेखन यात्रा 1931 से ही शुरु हुई। उनका पहला काव्य संग्रह जन्माष्टमी प्रकाशित हुआ। उन्होंने हिंदी में अनेक नाटक, काव्य और बालसाहित्य लिखे। उत्तराखंड के इतिहास पर उन्होंने बीस बड़ी-बड़ी पुस्तकें लिखी।

dr. shiv prashad dabral sucess stroy

उत्तराखंड के जनजीवन पर पांच पुस्तकें लिखी और प्रकाशित भी की। शिवप्रसाद डबराल ने चालीस बरस तक हिमालय और उसके इतिहास पर शोध किया। उन्होंने उत्तराखंड का इतिहास 25 भागों में लिखा। इसके लिए उन्होंने अपनी प्रेस और जमीन तक बेच डाली। 24 नवम्बर 1999 को इस महान इतिहासकार की मृत्यु हो गयी।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड के इस सख्श को इसलिए कहा जाता है गढ़वाली लोक संगीत का जनक, पढ़े कैसे हासिल किया मुकाम

जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के एक गायक, लेखक और निर्देशक थे। उन्हें आधुनिक गढ़वाली लोक संगीत का जनक माना जाता है। उनका जन्म 2...

देहरादून- उत्तराखंड के इस कलाकार ने गढ़वाली गीतों को दिलाया अलग मुकाम, बॉलीवुड सिंगर भी हुए कायल

उत्तराखंड के नौजवानों ने हर स्तर पर अपने हुनर की छाप छोड़ी है। फिर चाहे बात छोटे पर्दे की हो या बड़े पर्दे की...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल ने शुरू किया था डोला-पालकी आंदोलन, ऐसे पौड़ी में अंग्रेज गवर्नर का किया था विरोध

जयानन्द भारती भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे। जिन्होंने डोला-पालकी आन्दोलन चलाया। यह वह आन्दोलन था जिसमें शिल्पकारों के दूल्हे-दुल्हनों को...

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...

देहरादून- इनके प्रयासों से बद्री केदार आने वाले यात्रियों को मिली ये सुविधा, इतना संघर्ष भरा रहा जीवन

अनुसूया प्रसाद बहुगुणा एक समाजसेवी और उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म चमोली जिले में 18 फरवरी 1864 को हुआ। वे गढ़केसरी सम्मान...

देहरादून- श्रीदेव सुमन को इसलिए कहा जाता है गढ़वाल का भगत सिंह, आजादी के लिए दिए कई बलिदान

श्रीदेव सुमन टिहरी रियासत की राजशाही के विरुद्ध विद्रोह कर बलिदान देने वाले भारत के अमर स्वतंत्रता सेनानी थे। उनको गढ़वाल के “भगत सिंह”...