देहरादून- उत्तराखंड वन विभाग में जल्द होगी 1200 पदों की भर्ती, पहले लिखित फिर होगा फ़िज़िकल

Slider

Uttarakhand Forest Department Recruitment , उत्तराखंड वन विभाग में 1200 से ज़्यादा पदों पर जल्द ही भर्ती हो सकती है। फॉरेस्ट गार्ड के 1218 पदों पर रुकी भर्ती इसी साल पूरी कर ली जाएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि इस भर्ती में आने वाली अड़चन को सरकार ने दूर कर लिया है। भर्ती के नियमों में कैबिनेट के ज़रिए बदलाव कर लिया गया है जिससे इस भर्ती के रास्ते में आने वाली सबसे बड़ी बाधा अब दूर हो गई है। नए नियम के मुताबिक अब पहले लिखित परीक्षा ली जाएगी। इसमें पास करने वाले अभ्यर्थियों को ही फिजिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा।

डेढ़ लाख अभ्यर्थी

बता दें कि फॉरेस्ट गार्ड के 1218 पदों पर भर्ती के लिए डेढ़ लाख अभ्यर्थियों ने फॉर्म भरा है। इतने सारे लोगों का फ़िजिकल टेस्ट कराने के लिए लम्बे समय से जद्दोजहद चल रही थी। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को प्रदेश में कोई ग्राउण्ड ही नहीं मिल रहा था जहां फिजिकल टेस्ट को अंजाम दिया जा सके।

Slider

forest department vacancy uttarakhand

अब पहले लिखित परीक्षा होने से अक्षम अभ्यर्थियों की छंटनी हो जाएगी। ऐसे में फिजिकल के लिए कम अभ्यर्थी बचेंगे और परीक्षा की प्रक्रिया तेज हो पाएगी। प्रमुख सचिव वन आनन्द वर्द्धन ने उम्मीद ज़ाहिर की है कि इस साल के खत्म होने से पहले परीक्षा खत्म कर ली जाएगी और नियुक्ति देने का काम शुरु हो जाएगा।

बता दें कि फॉरेस्ट गार्ड के 1218 पदों पर भर्ती पिछले दो साल से रुकी हुई है। अगस्त 2017 में ही इसका विज्ञापन हुआ था लेकिन अभी तक मामला लटका हुआ है। इस पद पर भर्ती के लिए पहले फ़िजिकल टेस्ट फिर लिखित परीक्षा लेने का प्रावधान था। भर्ती के लिए जब विज्ञापन निकाला गया उसके बाद अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने वन विभाग से फ़िजिकल कराने को कहा लेकिन, वन विभाग ने भी हाथ खड़े कर दिए।

forest department vacancy uttarakhand

पहले लिखित परीक्षा, फ़िर फ़िज़िकल

इसी बीच यह मामला नैनीताल हाईकोर्ट में भी चला गया जहां लगभग एक साल बाद इस पद पर भर्ती को हरी झण्डी मिली लेकिन, तब तक दूसरी मुश्किल खड़ी हो गई। डेढ़ लाख अभ्यर्थियों का फ़िजिकल टेस्ट लेने में वन विभाग के हाथ पांव फूल गए। लिहाजा यह तरीका निकाला गया कि पहले लिखित परीक्षा ले ली जाए।

इस परीक्षा से अक्षम अभ्यर्थी पहले ही बाहर हो जाएंगे और विभाग के लिए आसानी हो जाएगी। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के सचिव संतोष बडोनी ने बताया कि उन्हें लिखित परीक्षा लेने के लिए लगभग तीन महीने का समय चाहिए। ऐसे में इसी साल नवम्बर में लिखित परीक्षा होने की उम्मीद की जा सकती है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें