inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- सूर्यधार के बाद गैरसैंण जलाशय के निर्माण में जुटी त्रिवेन्द्र सरकार,...

देहरादून- सूर्यधार के बाद गैरसैंण जलाशय के निर्माण में जुटी त्रिवेन्द्र सरकार, तैयार किया ये प्लान

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत गैरसैंणियत की भावना को सलीके से सम्मान दे रहे हैं। कुमाऊं और गढ़वाल के केन्द्र बिन्दु गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने के बाद त्रिवेन्द्र सरकार अब यहां उन बुनियादी सुविधाओं को जुटा रही है जो राजधानी क्षेत्र का मूल आधार होती हैं। इस कड़ी में दीवालीखाल-भराड़ीसैंण मोटर मार्ग का चौड़ीकरण किया जा रहा है, साथ ही यहां रामगंगा नदी में चौरड़ा नामक स्थान पर एक बहुपयोगी जलाशय का निर्माण भी होना है। जलाशय बनाने में टैक्निकल सपोर्ट दे रहे ‘उत्तराखण्ड अन्तरिक्ष उपयोग केन्द्र’ (यूसैक) का दावा है कि इस जलाशय के निर्माण के बाद ग्रीष्मकालीन राजधानी क्षेत्र में अगले 50 वर्षों तक पानी की कमी महसूस नहीं होगी।

ग्रेविटी वाटर के फायदे

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का मानना है कि छोटे-छोटे जलाशय बनाकर ग्रेविटी वाटर का इस्तेमाल सिंचाई व पेयजल जैसी जरूरतों के लिए किया जा सकता है। सूर्यधार झील का निर्माण उनकी इसी सोच के आधार पर किया गया जो एक सफल प्रयोग के रूप में सामने आया।

इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए अब गैरसैंण में एक जलाशय का निर्माण किया जा रहा है। प्रस्तावित बांध के निर्माण में लगभग 4.95 हेक्टेयर वन पंचायत भूमि का उपयोग किया जाएगा। बीते 25 नवम्बर को केन्द्र सरकार के जल शक्ति विभाग ने इस प्रोजेक्ट को स्वीकृति दे दी है। केन्द्र और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयास से बहुपयोगी जलाशय का निर्माण किया जाएगा।

1614 मीटर की ऊंचाई का बनेगा जलाशय

यूसैक के निदेशक एम.पी.एस. बिष्ट के मुताबिक उनका संस्थान कार्यदायी संस्था सिंचाई विभाग को जलाशय निर्माण के लिए टैक्निकल गाइडलाइन दे चुका है। उपग्रहीय आंकड़ों की सहायता से जलाशय निर्माण का मानचित्रिकरण व फील्ड सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि गैरसैंण के पास रामगंगा नदी पर 1614 मीटर की ऊंचाई पर करीब 700 मीटर लंबी व 25 मीटर तक चौडा जलाशय बनाया जाएगा।

इसके निर्माण का जिम्मा सिंचाई खंड थराली को सौंपा गया है, जबकि इसकी डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) इरिगेशन डिजाइन ऑर्गेनाइजशन, रुड़की बना रहा है। आने वाले कुछ ही महीनों में यह जलाशय अपना आकार ले लेगा। इसके निर्माण के बाद गैरसैंण क्षेत्र में पेयजल और सिंचाई के पानी की किल्लत बीते जमाने की बात हो जाएगी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत खुद गैरसैंण में जलाशय निर्माण स्थल का स्थलीय निरीक्षण कर चुके हैं।

Related News

देहरादून- हिंदुजा ग्रुप ने उत्तराखंड के विकास के लिए सीएम के सामने रखा ये प्लान, देवप्रयाग में बनेगी स्विस सिटी

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से गुरूवार को मुख्यमंत्री आवास में हिंदुजा ग्रुप के चेयरमैन पी.पी. हिन्दुजा ने भेंट की। उन्होंने राज्य के विकास से...

देहरादून- मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दी प्रदेश को 5 करोड़ के विकास कार्यों की सौगात, पढ़े पूरा प्लान

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लोक निर्माण, शिक्षा, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, पर्यटन और धर्म संस्कृति समेत कुछ अन्य विभागों से संबंधित विकास कार्यों...

छात्रवृत्ति घोटाला:दो और बैंक अधिकारियों पर गिरी गाज , हुए गिरफ्तार ,देखिये क्या है मामला

दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले में चम्पावत पुलिस ने ऊधमसिंह नगर जिले के दो बैंक अफसरों को गिरफ्तार किया है। दोनों अफसर बैंक ऑफ बड़ौदा में...

देहरादून- सचिवालय में प्रवेश पर अब बरतनी होंगी ये सावधानियां, सीएम ने निरस्त किया पुराना आदेश

कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत इसके रोकथाम एवं बचाव हेतु सचिवालय प्रशासन विभाग द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था हेतु गणमान्य व्यक्तियों/सचिवालय प्रवेश पत्र धारक विभागीय अधिकारियों...

यहां मामूली बहस से चढ़ा पति का पारा ,जाने क्यों पत्नी को किया लहूलुहान।

 टिहरी. उत्तराखंड के टिहरी में घनसाली थानांतर्गत नेलचामी पट्टी के थार्ती गावं में एक महिला को उसके पति ने मामूली विवाद के कारण चाकू...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने सचिवालय में शुरू किया ई-ऑफिस प्रणाली से कार्य, पहले दिन की ये घोषणा

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा भी ई-ऑफिस प्रणाली से पत्रावलियों का निस्तारण प्रारम्भ कर दिया है। गुरूवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री ने 4 पत्रावलियों...