inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- देवभूमि के इस स्लो मोशन डांसर के है विदेश में भी...

देहरादून- देवभूमि के इस स्लो मोशन डांसर के है विदेश में भी चर्चे, इनते स्पेशल है डांस मूव्स

राघव जुयाल एक भारतीय डांसर, कोरियोग्राफर, एक्टर और टेलीविजन होस्ट हैं। उन्हें भारत में स्लो मोशन डांस का राजा भी कहा जाता है। राघव टेलीविजन के कई बड़े डांस रियलिटी शो होस्ट भी कर चुके है, उनकी मजाकिययां होस्टिंग का हर कोई दिवाना है। सोशल मीडिया में उनकी डांस और होस्टिंग की वीडियो ने काफी लोकप्रियता बटोरी है। राघव का जन्म उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में 10 जुलाई 1991 को हुआ।

इंटरनेट से की स्लो डांस की प्रैक्टिस

बचपन से ही डांस के शौकीन राघव ने इंटरनेट पर वीडियो देखकर अपने डांस स्टाईल की प्रैक्टिस की, जिसके चर्चे आज देश के साथ-साथ दुनिया के कई नामी डांसर्स के जुबान पर है। 2014 में, जुयाल ने रमेश सिप्पी एंटरटेनमेंट

raghav juyal dance uttarakhand

द्वारा निर्मित कॉमेडी फिल्म “सोनाली केबल” में बतौर अभिनेता बॉलिवुड में कदम रखा। उन्होंने कई डांसिग फिल्मों में बॉलीवुड के बड़े कलाकारों के साथ किरदार निभाया। 2016 में, राघव को Khatron Ke Khiladi शो के सीज़न 7 में एक प्रतियोगी के रूप में भी देखा गया।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड के इस कलाकार ने गढ़वाली गीतों को दिलाया अलग मुकाम, बॉलीवुड सिंगर भी हुए कायल

उत्तराखंड के नौजवानों ने हर स्तर पर अपने हुनर की छाप छोड़ी है। फिर चाहे बात छोटे पर्दे की हो या बड़े पर्दे की...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल ने शुरू किया था डोला-पालकी आंदोलन, ऐसे पौड़ी में अंग्रेज गवर्नर का किया था विरोध

जयानन्द भारती भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे। जिन्होंने डोला-पालकी आन्दोलन चलाया। यह वह आन्दोलन था जिसमें शिल्पकारों के दूल्हे-दुल्हनों को...

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...

देहरादून- जाने कौन है ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’, इतिहास बचाने को क्यों बेची जमीन और प्रेस

शिवप्रसाद डबराल जिनके ग्रन्थ आज उत्तराखंड का इतिहास जानने के लिये सबसे उपयोगी माने जाते हैं। उनको ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’ भी कहा जाता है।...

देहरादून- इनके प्रयासों से बद्री केदार आने वाले यात्रियों को मिली ये सुविधा, इतना संघर्ष भरा रहा जीवन

अनुसूया प्रसाद बहुगुणा एक समाजसेवी और उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म चमोली जिले में 18 फरवरी 1864 को हुआ। वे गढ़केसरी सम्मान...

देहरादून- श्रीदेव सुमन को इसलिए कहा जाता है गढ़वाल का भगत सिंह, आजादी के लिए दिए कई बलिदान

श्रीदेव सुमन टिहरी रियासत की राजशाही के विरुद्ध विद्रोह कर बलिदान देने वाले भारत के अमर स्वतंत्रता सेनानी थे। उनको गढ़वाल के “भगत सिंह”...