inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल को कहा जाता था बॉक्सिंग का भीष्म...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल को कहा जाता था बॉक्सिंग का भीष्म पितामाह, रणभूमि में भी दिखाया था पराक्रम 

कैप्टन हरिसिंह थापा ने बॉक्सिंग में अन्तराष्ट्रीय स्तर पर भारत का नेतृत्व किया। उन्हें भारतीय बॉक्सिंग का भीष्म पितामाह भी कहा जाता है। कैप्टन थापा का जन्म उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में 14 अगस्त 1932 को हुआ। उन्होंने 1958 में आयोजित तृतीय एशियाई खेलों में रजत पदक भी जीता। पिथौरागढ़ और देश का नाम रोशन करने वाले कैप्टन हरि सिंह 14 अगस्त 1947 को सिग्नल ट्रेनिंग सेंटर की ब्वॉय रेजीमेंट में भर्ती हुए।

Captain-Hari-Singh-Thapa uttarakhand

बॉक्सिंग को बनाया मुख्य खेल

खेलों की ओर रुझान होने के कारण उन्होंने बॉक्सिंग को अपना मुख्य खेल बनाया। हरी सिंह अपनी बटालियन के चैंपियन भी रहे। कैप्टन थापा 1950 में राष्ट्रीय प्रतियोगिता में व्यक्तिगत चैंपियन रहे। 1954 में राष्ट्रीय मुक्केबाजी में उन्होंने स्वर्ण पदक जीता। 16 अक्तूबर 1957 में रंगून में आयोजित दक्षिण पूर्व एशियन बॉक्सिंग चैंपियनशिप में उन्होंने स्वर्ण पदक जीता।

Captain-Hari-Singh-Thapa uttarakhand

रणभूमि में भी दिखाया पराक्रम

अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज कैप्टन हरी सिंह थापा ने खेलों में ही नहीं बल्कि रणभूमि में भी पराक्रम दिखाया था। 1971 के भारत-पाक युद्ध में उन्होंने अद्भुत शौर्य का प्रदर्शन किया था। देश के प्रति उनके समर्पण को देखते हुए सेना ने उन्हें रक्षा पदक, संग्राम पदक, सेना मेडल, इंडियन इंडिपेंडेंट पदक और नाइन ईयर लौंग सेवा पदक भी दिया।

Captain-Hari-Singh-Thapa uttarakhand

उत्तराखंड सरकार ने दिया सम्मान

जीवन में उनके पास तमाम मौके थे जिससे वह दुनिया के किसी भी कोने में बस सकते थे पर उन्होंने वापस उत्तराखंड आकर बच्चों को बॉक्सिंग सिखाई। उत्तराखंड सरकार ने 2013 में उन्हें द्रोणाचार्य अवॉर्ड से सम्मानित किया। 7 फरवरी 2021 को 89 वर्ष की उम्र में कैप्टन हरि सिंह थापा ने अंतिम सांस ली।

Related News

देहरादून- देवभूमी के इस लाल को वीरता के लिए मिले कई सम्मान, देश की रक्षा को त्यागे प्राण

मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस के एक विशेष कक्ष निरीक्षक थे, जो 2008 में नई दिल्ली में हुए बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान शहीद...

देहरादून- बॉलीवुड के इस प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक का है देवभूमि से गहरा नाता, दें चुके कई बड़ी फिल्में

अली अब्बास जफर एक भारतीय फिल्म अभिनेता, निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। उन्होंने 2011 में "मेरे ब्रदर की दुल्हन फिल्म डायरेक्ट कर बॉलीवुड में...

देहरादून- उत्तराखंड के इस सख्श को इसलिए कहा जाता है गढ़वाली लोक संगीत का जनक, पढ़े कैसे हासिल किया मुकाम

जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के एक गायक, लेखक और निर्देशक थे। उन्हें आधुनिक गढ़वाली लोक संगीत का जनक माना जाता है। उनका जन्म 2...

देहरादून- उत्तराखंड के इस कलाकार ने गढ़वाली गीतों को दिलाया अलग मुकाम, बॉलीवुड सिंगर भी हुए कायल

उत्तराखंड के नौजवानों ने हर स्तर पर अपने हुनर की छाप छोड़ी है। फिर चाहे बात छोटे पर्दे की हो या बड़े पर्दे की...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल ने शुरू किया था डोला-पालकी आंदोलन, ऐसे पौड़ी में अंग्रेज गवर्नर का किया था विरोध

जयानन्द भारती भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे। जिन्होंने डोला-पालकी आन्दोलन चलाया। यह वह आन्दोलन था जिसमें शिल्पकारों के दूल्हे-दुल्हनों को...

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...