inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- उत्तराखंड के पर्यावरण गांधी की ये है कहानी, इस काम के...

देहरादून- उत्तराखंड के पर्यावरण गांधी की ये है कहानी, इस काम के लिए सरकार ने दिया पद्मविभूषण सम्मान

रुद्रपुर: प्रशिक्षु आईपीएस की टीम पर हुई फायरिंग तो इस तरह दगा दे गए पुलिस के असलहे, जानिए क्या हुआ

रुद्रपुर। बाजपुर थाना क्षेत्र के ग्राम मुड़ियामनी में एक विवाह समारोह में एक व्यक्ति की कनपटी पर पिस्टल रखने की शिकायत पर एक प्रशिक्षु...

रुद्रपुरः संविधान दिवस पर पूर्व पालिकाध्यक्ष ने क्यों की प्रशासन की निंदा

रुद्रपुर। उत्तराखंड प्रदेश महिला कांग्रेस कमेटी की वरिष्ठ उपाध्यक्ष और रुद्रपुर नगर पालिका परिषद की पूर्व चेयरपर्सन श्रीमती मीना शर्मा ने राष्ट्रीय संविधान दिवस...

रुद्रपुर: शिव व रामपाल ने इस तरह याद किया अंबेडकर को

रुद्रपुर। भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, मेयर रामपाल सिंह एवं देवभूमि व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष गुरमीत सिंह ने गुरुवार को संविधान दिवस पर बाबा साहब भीमराव...

रुद्रपुर से दिल्ली जा रहे किसानों को पुलिस ने रोका तो हुआ यह अंजाम

रुद्रपुर । किसान विरोधी अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे तराई के किसानों को रुद्र बिलास चीनी मिल के पास पुलिस ने...

रुद्रपुर: किसानों के समर्थन में इसलिए धरने पर बैठे पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़

रुद्रपुर। पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ ने धान खरीद केंद्रों पर किसानों का धान न खरीदे जाने के विरोध में कलेक्ट्रेट पर धरना दिया। उनका...

उत्तराखंड में पर्यावरण सुरक्षा को अपना जीवन समर्पित करने वाले हिमालय रक्षक कहलाते है सुंदरलाल बहुगुणा। जिनकी सबसे बड़ी उपलब्धि चिपको आंदोलन है। इसलिए उनको उत्तराखंड में पर्यावरण गांधी और वृक्ष मित्र के नाम से भी जाना जाता है। पर्यावरण के प्रती प्रेम और उसकी सुरक्षा के लिए किये गए कार्यों को देखते हुए सरकार ने इन्हें वर्ष 2009 में पद्मविभूषण अवार्ड से भी नवाजा है। सुंदरलाल बहुगुणा 9 जनवरी, 1927 को उत्तराखंड के टिहरी जिले में जन्मे। 18 साल की उम्र में वह पढ़ने के लिए लाहौर गए।

मंदिरों में हरिजानों के जाने के अधिकार के लिए आंदोलन

उन्होंने मंदिरों में हरिजानों के जाने के अधिकार के लिए भी आंदोलन किया। 23 साल की उम्र में उनका विवाह हुआ। जिसके बाद उन्होंने गांव में रहने का फैसला किया और पहाड़ियों में एक आश्रम खोला। बाद में उन्होंने टिहरी के आसपास के इलाके में शराब के खिलाफ भी मोर्चा खोला। 1960 के दशक में उन्होंने अपना ध्यान वन और पेड़ की सुरक्षा पर केंद्रित किया। पर्यावरण सुरक्षा के लिए 1970 में शुरू हुआ आंदोलन पूरे भारत में फैलने लगा। चिपको आंदोलन उसी का एक हिस्सा था। उस वक्त गढ़वाल हिमालय में पेड़ों के काटने को लेकर शांतिपूर्ण आंदोलन बढ़ रहे थे।

Sunderlal Bahuguna uttarakhand

1980 की शुरुआत में बहुगुणा ने हिमालय की 5,000 किलोमीटर की यात्रा की। उन्होंने यात्रा के दौरान गांवों का दौरा किया और लोगों के बीच पर्यावरण सुरक्षा का संदेश फैलाया। इतना ही नहीं उस दौरान सुंदरलाल बहुगुणा ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से भेंट कर 15 सालों तक के लिए पेड़ों के काटने पर रोक लगाने का आग्रह किया। जिसमें वे सफल भी रहे। बहुगुणा ने टिहरी बांध के खिलाफ आंदोलन में भी अहम भूमिका निभाई थी। उन्हीं की ही अध्यक्षता में टिहरी बांध विरोध समिती 1978 में बनाई गई। उत्तराखंड के इतिहास में उनका नाक आज भी सुनहरें अक्षरों में दर्ज है।

Related News

रुद्रपुर: प्रशिक्षु आईपीएस की टीम पर हुई फायरिंग तो इस तरह दगा दे गए पुलिस के असलहे, जानिए क्या हुआ

रुद्रपुर। बाजपुर थाना क्षेत्र के ग्राम मुड़ियामनी में एक विवाह समारोह में एक व्यक्ति की कनपटी पर पिस्टल रखने की शिकायत पर एक प्रशिक्षु...

रुद्रपुरः संविधान दिवस पर पूर्व पालिकाध्यक्ष ने क्यों की प्रशासन की निंदा

रुद्रपुर। उत्तराखंड प्रदेश महिला कांग्रेस कमेटी की वरिष्ठ उपाध्यक्ष और रुद्रपुर नगर पालिका परिषद की पूर्व चेयरपर्सन श्रीमती मीना शर्मा ने राष्ट्रीय संविधान दिवस...

रुद्रपुर: शिव व रामपाल ने इस तरह याद किया अंबेडकर को

रुद्रपुर। भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, मेयर रामपाल सिंह एवं देवभूमि व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष गुरमीत सिंह ने गुरुवार को संविधान दिवस पर बाबा साहब भीमराव...

रुद्रपुर से दिल्ली जा रहे किसानों को पुलिस ने रोका तो हुआ यह अंजाम

रुद्रपुर । किसान विरोधी अध्यादेशों के खिलाफ प्रदर्शन करने दिल्ली जा रहे तराई के किसानों को रुद्र बिलास चीनी मिल के पास पुलिस ने...

रुद्रपुर: किसानों के समर्थन में इसलिए धरने पर बैठे पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़

रुद्रपुर। पूर्व मंत्री तिलकराज बेहड़ ने धान खरीद केंद्रों पर किसानों का धान न खरीदे जाने के विरोध में कलेक्ट्रेट पर धरना दिया। उनका...

देहरादून – प्रदेश में परवान चढ़ने लगी पिरूल से बिजली बनने की योजना, अब 25 नए प्रोजेक्ट खोलने की तैयारी

देहरादून- प्रदेश में पिरुल से बिजली बनाने की योजना अब परवान चढ़ने लगी है। उत्तराखंड रिनिवेबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी(उरेडा) की इस योजना के तहत...