inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- देवभूमि को नशे के प्रकोप से बचाने की ये लड़ाई है...

देहरादून- देवभूमि को नशे के प्रकोप से बचाने की ये लड़ाई है काफी पुरानी, पढ़े टिंचरी माई की पूरी कहानी

दीपा नौटियाल उत्तराखंड में जल, शिक्षा और नशे के खिलाफ जंग छेड़ने वाली महिला थी। उनका जन्म 1917 को पौड़ी गढ़वाल में हुआ। उन्होंने उत्तराखंड के गाँव-गाँव में नशे के खिलाफ अलख जगाने का काम किया। उन्होंने देवभूमि की महिलाओं को शिक्षित करने और नशामुक्ति के लिए संघर्ष करने के लिए भी प्रेरित किया।

पीएम आवास में दिया धरना

कोटद्वार के भाबर सिगड़ी गाँव में उन्होंने गांव तक जल पहुंचाने के लिए दिल्ली प्रधानमंत्री आवास के बाहर धरना दिया। और जवाहर लाल नेहरू से मिलकर गांव की पानी की समस्या को दूर किया। पौड़ी के मोटाढाक गांव में उन्होंने बच्चों की शिक्षा के लिए चंदा इक्कठा कर स्कूल बनवाया। बद्रीनाथ में दीपा को नया नाम टिंचरी माई मिला, टिंचरी बद्रीनाथ में पाये जाने वाली जड़ी बूटियों से बनी दावई को कहा जाता था, जिसका सेवन करने से शराब जैसा नशा होता।

उन्होंने वहा के युवाओं को इस लत से बचाने के लिए पहले प्रशासन का सहारा लिया लेकिन कोई मदद नहीं मिलने पर खुद ही उस नशे की दुकान को तेल डालकर फूंक दिया, और खुद को पुलिस के हवाले किया। हालाकिं पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार करने के बजाय उनके गांव लैंसडाउन छुड़वा दिया। बाद में दीपा नौटियाल या कहे टिंचरी माई ने शिक्षा के लिए जागरूकता फैलाने और नशामुक्ति अभियान को ही अपना जीवन बना लिया।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड के इस कलाकार ने गढ़वाली गीतों को दिलाया अलग मुकाम, बॉलीवुड सिंगर भी हुए कायल

उत्तराखंड के नौजवानों ने हर स्तर पर अपने हुनर की छाप छोड़ी है। फिर चाहे बात छोटे पर्दे की हो या बड़े पर्दे की...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल ने शुरू किया था डोला-पालकी आंदोलन, ऐसे पौड़ी में अंग्रेज गवर्नर का किया था विरोध

जयानन्द भारती भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे। जिन्होंने डोला-पालकी आन्दोलन चलाया। यह वह आन्दोलन था जिसमें शिल्पकारों के दूल्हे-दुल्हनों को...

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...

देहरादून- जाने कौन है ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’, इतिहास बचाने को क्यों बेची जमीन और प्रेस

शिवप्रसाद डबराल जिनके ग्रन्थ आज उत्तराखंड का इतिहास जानने के लिये सबसे उपयोगी माने जाते हैं। उनको ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’ भी कहा जाता है।...

देहरादून- इनके प्रयासों से बद्री केदार आने वाले यात्रियों को मिली ये सुविधा, इतना संघर्ष भरा रहा जीवन

अनुसूया प्रसाद बहुगुणा एक समाजसेवी और उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म चमोली जिले में 18 फरवरी 1864 को हुआ। वे गढ़केसरी सम्मान...

देहरादून- श्रीदेव सुमन को इसलिए कहा जाता है गढ़वाल का भगत सिंह, आजादी के लिए दिए कई बलिदान

श्रीदेव सुमन टिहरी रियासत की राजशाही के विरुद्ध विद्रोह कर बलिदान देने वाले भारत के अमर स्वतंत्रता सेनानी थे। उनको गढ़वाल के “भगत सिंह”...