inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- देवभूमि के इस आंदोलनकारी के अखबार ने हिला दी थी ब्रिटिश...

देहरादून- देवभूमि के इस आंदोलनकारी के अखबार ने हिला दी थी ब्रिटिश सरकार, आज़ादी की लड़ाई में दिया अहम योगदान

विक्टर मोहन जोशी एक निडर आंदोलनकारी, समाजसेवी और कुशल संपादक थे। उनका जन्म उत्तराखंड के अल्मोड़ा में 1 जनवरी 1896 को हुआ। इलाहाबाद के इरविन क्रिश्चियन कॉलेज से मोहन ने बी.ए किया, वह हिंदी और अंग्रेजी के विद्वान छात्र थे। 1916 में कुमाऊं परिषद में उनकी अहम भूमिका रही। मोहन 1925 में अल्मोड़ा जिला बोर्ड के अध्यक्ष भी रहे। जनता को आजादी के लिए जागरुक करने के लिए उन्होंने ‘स्वाधीन प्रजा’ नाम का साप्ताहिक अखबार प्रकाशित किया।

Victor-Mohan-Joshi SUCESS STORY

1930 में झण्डा सत्याग्राह का किया नेतृत्व

इस अखबार में छपने वाली खबरों का प्रभाव इनता तेज होता कि अंग्रेज सरकार इससे परेशान होने लगी और बाद में अखबार पर जुर्माना भी लगा दिया गया। जिसके बाग अखबार को बंद करना पड़ा। 1929 को महात्मा गांधी की कुमाऊं यात्रा के दौरान विक्टर उनके विचारों से काफी प्रभावित हुए। 1930 में उन्होंने झण्डा सत्याग्राह का नेतृत्व भी किया। विक्टर ने नगर पालिका भवन पर तिरंगा फहराने का संकल्प लिया।

Victor-Mohan-Joshi SUCESS STORY

अल्मोड़ा महिला अस्पताल में लगाईं गई मूर्ति

झण्डा सत्याग्रह के दौरान हुए लाठी चार्ज में उनके सर और रीढ़ की हड्डी में काफी चोटे भी आईं। कहते है इस चोट की वजह से उनके सर में कई अन्दरूनी घाव बन गए, जिस कारण उनका मानसिक संतुलन बिगड़ गया। वही 4 अक्टूबर 1940 को 44 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया। आजादी में उनके योगदान को देखते हुए अल्मोड़ा के राजकीय महिला अस्पताल में 12 फरवारी 2004 को उनकी मूर्ति लगाई गई, बागेश्वर का राजकीय इंटर कॉलेज का नाम भी उनके ही नाम पर रखा गया है।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल की बहादुरी को आज भी याद करता है देश, सरकार ने दिया ये खास सम्मान

हवलदार बहादुर सिंह बोहरा भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के 10वीं बटालियन के एक गैर-कमीशन अधिकारी थे। जिनकों उनकी वीरता के लिए भारत सरकार...

देहरादून- नैनीताल में जन्मी सोनम बाजवा का ऐसा रहा “आम से खास” बनने का सफर, हासिल किया ये मुकाम

सोनमप्रीत बाजवा एक भारतीय मॉडल और अभिनेत्री हैं। जो पंजाबी, हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा की फिल्मों में काफी सक्रिय हैं। उन्होंने 2012 में...

देहरादून- द्वितीय विश्व युद्ध और भारत-पाकिस्तान युद्ध में देवभूमि के इस वीर ने निभाई अहम भूमिका, सेना में इस पद पर थे कार्यरत

ब्रिगेडियर सुरेंद्र सिंह पंवार ने भारतीय सेना में एक तोपखाने अधिकारी के रूप में कार्य किया। उनका जन्म 19 अक्टूबर 1919 को उत्तराखंड के...

देहरादून- देवभूमी के इस लाल को वीरता के लिए मिले कई सम्मान, देश की रक्षा को त्यागे प्राण

मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस के एक विशेष कक्ष निरीक्षक थे, जो 2008 में नई दिल्ली में हुए बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान शहीद...

देहरादून- बॉलीवुड के इस प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक का है देवभूमि से गहरा नाता, दें चुके कई बड़ी फिल्में

अली अब्बास जफर एक भारतीय फिल्म अभिनेता, निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। उन्होंने 2011 में "मेरे ब्रदर की दुल्हन फिल्म डायरेक्ट कर बॉलीवुड में...

देहरादून- उत्तराखंड के इस सख्श को इसलिए कहा जाता है गढ़वाली लोक संगीत का जनक, पढ़े कैसे हासिल किया मुकाम

जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के एक गायक, लेखक और निर्देशक थे। उन्हें आधुनिक गढ़वाली लोक संगीत का जनक माना जाता है। उनका जन्म 2...