inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- उत्तराखंड में टीबी की मशीन अब करेगी कोरोना जांच, पढ़े क्या...

देहरादून- उत्तराखंड में टीबी की मशीन अब करेगी कोरोना जांच, पढ़े क्या है सरकार का नया प्रयोग

देहरादून- सरकार के इस फैसले से उत्तराखंड पुलिस के खिल जाएंगे चेहरे, होगा ये फायदा

शासन ने उत्तराखंड पुलिस के कर्मचारियों को छठे वेतनमान की सिफारिशों के तहत उच्चीकृत वेतन ग्रेड पर एरियर की सौगात दे दी है। हाईकोर्ट...

पिथौरागढ़- भारत से पेंशन लेकर लौट रहे 5 नेपाली पेंशनरों को मिली दर्दनाक मौत, ऐसे हुआ पूरा हादसा

भारत से पेंशन लेकर जा रहे नेपाली पेंशनरों की एक जीप नेपाल में झूलाघाट से करीब सात किमी दूर सड़क से पलटकर डेढ़ सौ...

उत्तराखंड- सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने षडयंत्रकारियों को ऐसे किया चारों खाने चित, पैने चार साल की रही बेमिसाल परफार्मेंस

बीते तकरीबन पौने चार साल की परफार्मेंस से उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कार्यशैली से सरकार और संगठन के अलावा केंद्र...

देहरादून- उत्तराखंड में कोरोना का आकड़ा बढ़कर पहुंचा इतना , आज 11 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 528 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 72160 हो गया है। जबकि 11 लोगों की...

लालकुआं- डीएम सविन बंसल ने इस अधिकारी को किया निलंबित, जाने क्या रही इस एक्शन की बड़ी वजह

कानूनगो रजिस्ट्रार के पद पर पदोन्नति के बाद की गई तैनाती स्थल पर योगदान ना करने उच्च अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने तथा...

उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते ग्राफ के बीच टेस्टिंग चुनौती बनी हुई है। चिंता की बात यह है कि प्रवासियों की आमद बढ़ने के साथ ही विभिन्न प्रयोगशालाओं में सैंपलों का बैकलॉग भी बढ़ता जा रहा है। इस चुनौती से निपटने के लिए जांच का दायरा और बढ़ाया जाने की जरुरत है, ऐसे में अब प्रदेश में टीबी की मशीनों से भी कोरोना का टेस्ट होगा। इसके लिए केंद्र से पांच ट्रू-नेट मशीन मिल गई हैं। इनमें से दो मशीन हरिद्वार और एक-एक मशीन ऊधमसिंहनगर, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में स्थापित की जा रही है। आइआइपी की लैब भी जल्द ही काम करना शुरू कर देगी।

टीबी की मशीन करेगी कोरोना जांच

अपर सचिव स्वास्थ्य युगल किशोर पंत के अनुसार ट्रू-नेट मशीन टीबी की जांच में इस्तेमाल की जाती है। कोरोना की जांच के लिए इसमें ट्रू-नेट कैट्रीज चिप लगानी पड़ती है। इसके बाद हर मशीन पर प्रतिदिन करीब 80-100 सैंपल की जांच की जा सकेगी। हरिद्वार में महिला चिकित्सालय और उप जिला चिकित्सालय रुड़की और ऊधमसिंहनगर, उत्तरकाशी व पिथौरागढ़ में जिला चिकित्सालय में मशीनें स्थापित की जा रही हैं। टेक्नीशियनों को प्रशिक्षण के बाद जांच शुरू कर दी जाएगी।

pcr test in corona

उन्होंने बताया कि यह एक बैटरी चालित उपकरण है, जिसका इस्तेमाल करने के लिए न्यूनतम प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। इससे परीक्षण में भी बहुत कम समय लगता है। पंत ने बताया कि आइआइपी की लैब भी बनकर तैयार है। इसमें भी जल्द ही जांच होने लगेगी। प्रदेश में अभी हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज, श्रीनगर मेडिकल कॉलेज, एम्स ऋषिकेश व दून मेडिकल कॉलेज और दून की एक निजी लैब में जांच हो रही है। प्रवासियों की आमद बढ़ी तो सैंपलिंग की रफ्तार भी बढ़ाई गई। लेकिन, जांच की क्षमता सीमित होने के कारण बैकलॉग चार हजार से ऊपर पहुंच गया है। वही अब ट्रू-नेट मशीन के शुरु हो जाने से जांच जल्द को सकेंगी।

Related News

देहरादून- सरकार के इस फैसले से उत्तराखंड पुलिस के खिल जाएंगे चेहरे, होगा ये फायदा

शासन ने उत्तराखंड पुलिस के कर्मचारियों को छठे वेतनमान की सिफारिशों के तहत उच्चीकृत वेतन ग्रेड पर एरियर की सौगात दे दी है। हाईकोर्ट...

पिथौरागढ़- भारत से पेंशन लेकर लौट रहे 5 नेपाली पेंशनरों को मिली दर्दनाक मौत, ऐसे हुआ पूरा हादसा

भारत से पेंशन लेकर जा रहे नेपाली पेंशनरों की एक जीप नेपाल में झूलाघाट से करीब सात किमी दूर सड़क से पलटकर डेढ़ सौ...

उत्तराखंड- सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने षडयंत्रकारियों को ऐसे किया चारों खाने चित, पैने चार साल की रही बेमिसाल परफार्मेंस

बीते तकरीबन पौने चार साल की परफार्मेंस से उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कार्यशैली से सरकार और संगठन के अलावा केंद्र...

देहरादून- उत्तराखंड में कोरोना का आकड़ा बढ़कर पहुंचा इतना , आज 11 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 528 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 72160 हो गया है। जबकि 11 लोगों की...

लालकुआं- डीएम सविन बंसल ने इस अधिकारी को किया निलंबित, जाने क्या रही इस एक्शन की बड़ी वजह

कानूनगो रजिस्ट्रार के पद पर पदोन्नति के बाद की गई तैनाती स्थल पर योगदान ना करने उच्च अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने तथा...

उत्तराखंड- जाने कैसी है पद्मश्री डॉ. अनिल प्रकाश जोशी के संघर्ष की कहानी, रह चुके है ‘मैन ऑफ द ईयर’

अनिल प्रकाश जोशी एक भारतीय हरित कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता, वनस्पति विज्ञानी और हिमालयी पर्यावरण अध्ययन और संरक्षण संगठन HESCO के संस्थापक हैं। 6 अप्रैल...