inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून-दूसरे राज्य में फंसे अपने स्वजनों को ला सकते है आप, पढिय़े...

देहरादून-दूसरे राज्य में फंसे अपने स्वजनों को ला सकते है आप, पढिय़े कैसे मिलेगा आपको पास

जानिए, किसानों के भारत बंद को किसने दिया समर्थन, देखें यह खबर…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कृषि कानूनों को लेकर सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। किसानों की ओर से आठ दिसंबर...

रुद्रपुर: देखिए कैसे पुलिस को चकमा देकर दिल्ली रवाना हुए पूर्व विधायक और किस नेता को रोक लिया पुलिस ने

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता पूर्व विधायक नारायण पाल के नेतृत्व में भारी संख्या में किसान दिल्ली में चल रहे आन्दोलन को समर्थन देने के लिए...

देहरादून- अब इन दो एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन होगा शुरू, रेलवे ने शुरू की तैयारी

लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए यह अच्छी खबर है कि 11 दिसंबर से देहरादून से उज्जैन और देहरादून से इंदौर...

देहरादून- 24 घंटे में इतने कोरोना मरीज स्वास्थ्य होकर लौटे अपने घर, सामने आये इतने नये पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 618 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 76893 हो गया है। जबकि 10...

देहरादून- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने नैनीताल के इन कार्यकर्ताओं को सौंपी जिम्मेदारी, देखें पूरी लिस्ट

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भाजपा के 28 विभागों की घोषणा करते हुए दर्जनों कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी है। भारतीय...

देहरादून- अगर आप लॉकडाउन के दौरान किसी अन्य राज्य में फंस गये हो। तो आपके परिजन आपको लेने आ सकते है। इसके लिए वह अपने निजी वाहनों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, वाहन में चालक समेत तीन लोगों से अधिक लोग नहीं आ सकते हैं। उन्हें जिलाधिकारी से अनुमति लेनी होगी। ऐसे लोगों को वापस आने पर अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद निर्धारित अवधि तक क्वारंटाइन रखा जाएगा।

car

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बाहरी राज्यों में फंसे हुए लोगों को वापस लाने के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी की।जिसमें दूसरे राज्यों से स्वजनों को लाने के लिए पास देने की गई है। लॉकडाउन में लोगों के वृद्ध मां-बाप, पत्‍‌नी अथवा बच्चे दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। ऐसे लोग अपने स्वजनों को लेने के लिए अब जा सकेंगे।

गाइडलाइन के अन्य बिंदुओं के अनुसार हर जिले के जिलाधिकारी दूसरे राज्यों के नोडल अधिकारियों से संपर्क कर अपने जिलों के लोगों को वापस लाने के लिए व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। सभी जिलाधिकारी अपने जिलों में फंसे यात्रियों को भेजने के लिए उनका पूरा स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद जाने के लिए परमिट जारी कर सकते हैं।

जिलाधिकारी दूसरे राज्यों में फंसे लोगों के अनुरोध पर उन्हें वापस लाने अथवा भेजने के लिए अन्य राज्यों को स्वीकृति देने के लिए भी अधिकृत हैं। लेकिन शर्त है कि यात्री किसी कंटेनमेंट जोन का न हो। यदि यात्रियों को एक जिले में रूकने के बाद दूसरे जिले में जाना हो तो इसके लिए संबंधित मंडलायुक्तों के साथ समन्वय बनाया जाएगा।

यहाँ भी पढ़े

देहरादून- जाने क्या है त्रिवेन्द्र सरकार का न्यूं रिसर्व पलायन प्लान, लॉकडाउन में पहाड़ लौटे युवा ऐसे लें लाभ

देहरादून-गुजरात से उत्तराखंड पहुंचे 17 जमाती, प्रशासन ने उठाया ये कदम

 

Related News

जानिए, किसानों के भारत बंद को किसने दिया समर्थन, देखें यह खबर…

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। कृषि कानूनों को लेकर सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। किसानों की ओर से आठ दिसंबर...

रुद्रपुर: देखिए कैसे पुलिस को चकमा देकर दिल्ली रवाना हुए पूर्व विधायक और किस नेता को रोक लिया पुलिस ने

रुद्रपुर। कांग्रेस नेता पूर्व विधायक नारायण पाल के नेतृत्व में भारी संख्या में किसान दिल्ली में चल रहे आन्दोलन को समर्थन देने के लिए...

देहरादून- अब इन दो एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन होगा शुरू, रेलवे ने शुरू की तैयारी

लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए यह अच्छी खबर है कि 11 दिसंबर से देहरादून से उज्जैन और देहरादून से इंदौर...

देहरादून- 24 घंटे में इतने कोरोना मरीज स्वास्थ्य होकर लौटे अपने घर, सामने आये इतने नये पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 618 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 76893 हो गया है। जबकि 10...

देहरादून- भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने नैनीताल के इन कार्यकर्ताओं को सौंपी जिम्मेदारी, देखें पूरी लिस्ट

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भाजपा के 28 विभागों की घोषणा करते हुए दर्जनों कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी है। भारतीय...

हल्द्वानी- प्रदेश में तस्करों के हौसले बुलंद, अब इंटरनेशनल चिड़ियाघर से उड़ाई लाखों की लकड़ी

नैनीताल जिले के गौलापार स्थित चिड़ियाघर में तस्करों ने एक बार फिर धावा बोल दिया है। इतना ही नहीं तस्करों ने खैर के 40...