देहरादून-राज्य सरकार ने अब इस योजना को दिया नया रूप, अनुदान के साथ ऐसे मिलेगा रोजगार एवं स्वरोजगार बड़ा मौका

Slider

देहरादून-मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के अंतर्गत प्रदेश में रोजगार एवं स्वरोजगार के साधन सुलभ कराने के लिए एक नई पहल की गई है। इन दिनों लगातार प्रवासी उत्तराखंड वापस आ रहे है। ऐसे में सीएम त्रिवेन्द्र रावत की ये पहल रोजगार के लिए एक नई उम्मीद की किरण लेकर आयी है। राज्य समेकित सहकारी विकास परियोजना तथा गंगा गाय महिला डेरी योजननान्तर्गत तीन व पांच दुधारु पशुओं को खरीदने के लिए 25 प्रतिशत अनुदान दिया जायेगा। इसके अलावा नगरीय क्षेत्रों में आंचल मिल्क बूथ स्थापना के लिए 20 प्रतिशत अनुदान पर ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। इस योजना से पलायन पर रोक लगेगी।

cm trivendra singh rawat consumer complain number

Slider

प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अपने संदेश में कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए ग्राम स्तर पर रोजगार के साधन उपलब्ध कराना राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता है। उन्होंनें कहा कि गांव में पहले से निवास कर रहे तथा बाहरी राज्यों वापस आये प्रवासियों के लिए सरकार द्वारा स्वरोजगार एवं दुग्ध उत्पादन के माध्यम से अपनी आजीविका चलाने के लिए योजनाओं के लाभ उठाये।

आइये जानते है क्या है इस योजना के मुख्य बिन्दु-

-इस योजना का लाभ दुग्ध सहकारी समिति सदस्यों को प्रदान किया जायेगा।
2- वर्तमान में वह व्यक्ति जो दुग्ध सहकारी समिति का सदस्य न हो परन्तु सदस्य बनने के लिए इच्छुक हो, उन्हें योजना से लाभ दिया जायेगा।
3-योजना के अंतर्गत क्रय किये जाने वाले दुधारू पशु राज्य के बाहर से क्रय किये जायेंगे, ताकि प्रदेश में पशुधन की वृद्धि हो सकें।
4-योजना में करीब 3000 दुग्ध उत्पादकों को कुल 10 हजार दुधारू पशु उपलब्ध कराये जायेंगे।
5-इसके लिए 500 आंचल मिल्क बूथ स्थापित किये जायेंगे।

cow yojana
आप भी इस योजना का लाभ उठा सकते है। इस योजना का लाभ उठाने के लिए आप आवेदन पत्र आगामी 1 जून 2020 से 15 जुलाई 2020 तक प्रबंधक/प्रधान प्रबंधक दुग्ध संघ कार्यालय से प्राप्त कर जमा कर सकते है। इसके अलावा आप योजना की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए जिले के सहायक निदेशक डेरी, प्रबंधक/प्रधान प्रबंधक दुग्ध संघ अथवा मोबाइल नंबर 9412929257, 9012220864 पर संपर्क कर सकते है।

बता दें कि इससे पहले उत्तराखंड में शुरू की गई गंगा गाय महिला डेयरी योजना का लाभ कई महिलाएं उठा रही है। प्रदेश सरकार ने इसका महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस योजना की शुरूआत की गई थी। योजना अन्तर्गत ग्राम स्तर पर गठित दुग्ध सहकारी समितियों की 4795 महिला सदस्यों को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने के उद्देश्य से एक संकर नस्ल की दुधारू गाय उपलब्ध करायी जायेगी। इसके लिए उन्हें बैंक ऋण व अनुदान भी उपलब्ध करवाया जाता है। स्वच्छ दुग्ध उत्पादन सुनिश्चित करने के लिए लाभार्थी के दुधारू पशुओं के लिए पशुशाला व पशु नांद निर्माण के करने के लिए अनुदान राशि उपलब्ध करायी जायेगी। अब इसे थोड़ा परिवर्तित कर दिया गया है।

 

उत्तराखंड की बड़ी खबरें