inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- पढ़े उत्तराखंड की इस महिला पर्वतारोहण के संघर्ष की कहानी, राष्ट्रपति...

देहरादून- पढ़े उत्तराखंड की इस महिला पर्वतारोहण के संघर्ष की कहानी, राष्ट्रपति से मिल चुका ये खास सम्मान

विपरीत परिस्थितियों में भी उत्तराखण्ड की कई महिलाओं ने राष्ट्रीय पटल पर सशक्त हस्ताक्षर किये हैं। इनमें से एक हैं चंद्रप्रभा ऐतवाल। चंद्रप्रभा का जन्म 24 दिसंबर 1941 को उत्तराखंड के धारचूला में हुआ। इंटरमीडिएट कि पढाई उन्होंने नैनीताल से पूरी की। यहीं से उनके खेल जीवन की भी शुरुआत हुई। राजकीय बालिका इंटर कॉलेज नैनीताल में विद्यालय स्तर में दौड़, भाला, गोला, डिस्कस फेंक आदि खेलों में उन्होंने उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल की।

chandra prabha aitwal uttarakhand

कई चोटियां की फतेह

चंद्रप्रभा ने 1972 में पर्वतारोहण का बेसिक और 1975 में एडवांस कोर्स NIM उत्तरकाशी से किया। 1980 में गुलमर्ग के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्कीइंग एंड माउंटनियरिंग से स्कीइंग का कोर्स पूरा किया। 1983 तक उत्तरकाशी में प्रशिक्षक रहने के दौरान ही उन्होंने कई हिमालयी चोटियाँ फतह कीं। इसी वर्ष में 23860 फीट ऊँची माना पीक पर सफल आरोहण किया। 1984 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने के अभियान के दौरान चंद्रप्रभा 27750 फीट तक पहुँचीं। लेकिन खराब मौसम की वजह से अभियान पूरा नहीं हो सका।

chandra prabha aitwal uttarakhand

इसके अलावा दिओ तिब्ब्त, भागीरथी द्वितीय, नन्दाकोट शिखर, सुदर्शन, बन्दरपूंछ चोटी ऐसी दर्जनों चोटियों पर सफल आरोहण किया। न केवल पर्वतारोहण के श्रेत्र में बल्की चंद्रप्रभा ने अलकनंदा और गंगा नदी में आयोजिन कई रिवर राफ्टिंग अभियान में भी हिस्सा लिया। राष्ट्रपति प्रतिभा देवीसिंह पाटिल द्वारा 29 अगस्त 2010 को सुश्री चंद्रप्रभा ऐतवाल को लाइफ टाइम अचीवमेंट के लिए तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड-2009 से सम्मानित भी किया गया।

Related News

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल की बहादुरी को आज भी याद करता है देश, सरकार ने दिया ये खास सम्मान

हवलदार बहादुर सिंह बोहरा भारतीय सेना की पैराशूट रेजिमेंट के 10वीं बटालियन के एक गैर-कमीशन अधिकारी थे। जिनकों उनकी वीरता के लिए भारत सरकार...

देहरादून- नैनीताल में जन्मी सोनम बाजवा का ऐसा रहा “आम से खास” बनने का सफर, हासिल किया ये मुकाम

सोनमप्रीत बाजवा एक भारतीय मॉडल और अभिनेत्री हैं। जो पंजाबी, हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा की फिल्मों में काफी सक्रिय हैं। उन्होंने 2012 में...

देहरादून- द्वितीय विश्व युद्ध और भारत-पाकिस्तान युद्ध में देवभूमि के इस वीर ने निभाई अहम भूमिका, सेना में इस पद पर थे कार्यरत

ब्रिगेडियर सुरेंद्र सिंह पंवार ने भारतीय सेना में एक तोपखाने अधिकारी के रूप में कार्य किया। उनका जन्म 19 अक्टूबर 1919 को उत्तराखंड के...

देहरादून- देवभूमी के इस लाल को वीरता के लिए मिले कई सम्मान, देश की रक्षा को त्यागे प्राण

मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस के एक विशेष कक्ष निरीक्षक थे, जो 2008 में नई दिल्ली में हुए बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान शहीद...

देहरादून- बॉलीवुड के इस प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक का है देवभूमि से गहरा नाता, दें चुके कई बड़ी फिल्में

अली अब्बास जफर एक भारतीय फिल्म अभिनेता, निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। उन्होंने 2011 में "मेरे ब्रदर की दुल्हन फिल्म डायरेक्ट कर बॉलीवुड में...

देहरादून- उत्तराखंड के इस सख्श को इसलिए कहा जाता है गढ़वाली लोक संगीत का जनक, पढ़े कैसे हासिल किया मुकाम

जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के एक गायक, लेखक और निर्देशक थे। उन्हें आधुनिक गढ़वाली लोक संगीत का जनक माना जाता है। उनका जन्म 2...