iimt haldwani

देहरादून-बजट सत्र के दूसरे दिन फिर छाया जहरीली शराब का मुद्दा, कांग्रेस ने किया वाकआउट

146

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क- आज बजट सत्र के दूसरे दिन फिर विपक्ष हावी दिखा। विपक्ष ने जहरीली शराब प्रकरण पर नियम 310 के तहत चर्चा की मांग। इस पर संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत ने कहा वह वक्तव्य देने का प्रस्ताव रखेंगे, जिसे कांग्रेस ने इंकार कर दिया। विधानसभा अध्यक्ष ने नियम 310 के तहत सुनना शुरू किया। इस दौरान विपक्ष ने मुख्यमंत्री व आबकारी मंत्री से नैतिकता के आधार पर इस्तीफें की मांग की। इसके बाद कांग्रेस विधायक वेल में आ गए और हंगामा करने लगे। इसके बाद कांग्रेस विधायक सदन से वाकआउट कर परिसर में धरना पर बैठ गए।

amarpali haldwani

मृतकों के परिजनों को मिले सरकारी नौकरी-इंदिरा

वही ममता राकेश ने कहा कि जिस व्यक्ति के यहां तेहरवीं की शराब परोसने की बात गलत है, वह परिवार बेहद गरीब है। क्षेत्र में पहले से ही शराब की भट्टियां चल रही हैं। रोज लोग मर रहें हैं। उन्‍होंने कहा कि मृतकों के परिजनों को सरकारी नौकरी दी जाए। दो लाख देने के लिए भी बिसरा रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने कहा सब को पता था शराब की भट्टियां कहां है, लेकिन आबकारी विभाग पर आरोप लगते रहे। इस मामले में सिर्फ चुनिंदा लोगों को निलंबित करने से सरकार अपने को नहीं बचा सकती है। उन्‍होंने कहा कि सरकार निर्देश करें कि ऐसी भट्टियों की जानकारी लें और कार्रवाई की जाए। आबकारी मंत्री प्रकाश पंत ने सरकार की और से जवाब देते हुए कहा कि जब घटना की सूचना सरकार को मिली तो त्वरित गति से प्रशासन, पुलिस और आबकारी विभाग को मौके पर भेजा गया। तत्काल जवाबदेह अधिकारियों को निलंबित किया गया। वरिष्ठ अधिकारी मौके पर कैंप कर रहे हैं। लगातार कार्रवाई चल रही है।

सीएम और आबकारी मंत्री से मांगा इस्तीफा

विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल व करण माहरा ने आबकारी मंत्री से इस्तीफा मांगा। वही हरिद्वार के जिलाधिकारी पर कार्रवाई की मांग की। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी दर्जनभर पव्वों के साथ फोटो खिंचाते थे वो अधिकारी कहा थे। विधायक मनोज रावत ने कहा कि सोशल मीडिया पर चौबीस घंटे नजर आने वाले अधिकारी कहां नदारद थे। सरकार ने देवभूमि को शराब भूमि बना दिया है। केदारनाथ तक में बेलगाम शराब बिक रही है। उन्‍होंने नैतिकता के आधार पर मुख्यमंत्री व आबकारी मंत्री का इस्तीफा मांगा। विधायक प्रीतम सिंह ने कहा कि लोग रिक्शों में शवों को ले जा रहे थेए लेकिन प्रशासन का कोई भी नुमाइंदा वहां मौजूद नहीं था। इतनी बड़ी घटना होने के बाद न तो पुलिस और न ही आबकारी विभाग जागा है।