Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तराखंड देहरादून- त्रिवेन्द्र सरकार में बैन हुई माफियाओं की एंट्री, तीन साल में...

देहरादून- त्रिवेन्द्र सरकार में बैन हुई माफियाओं की एंट्री, तीन साल में प्रदेश में हुए ये बड़े बदलाव

देहरादून- नहीं थम रही उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार, पढ़े आज का ताज़ा अपडेट

उत्तराखंड में कोरोना का कहर लगातार बड़ता जा रहा है। प्रदेश में कोरोना का आकड़ा 38007 पर पहुंच गया है। शुक्रवार को जारी स्वास्थ्य...

पिथौरागढ़- आपदा प्रभावितों को मिलेगा मुआवजा, पीड़ितों के चेहरे पर ऐसे लौटी मुस्कान

राज्य सरकार के साढ़े तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पिथौरागढ़ में आपदा प्रभावितों को मकान की...

देहरादून- साढ़े तीन साल में त्रिवेन्द्र सरकार ने ऐसे किये 85 प्रतिशत वादे पूरेए पढिय़े कैसे किया स्वरोजगार पर फोकस

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने राज्य सरकार के साढ़े तीन वर्ष पूर्ण हो जाने बाद अपने 85 प्रतिशत वायदे पूरे किये है। मुख्मंत्री ने...

उत्तराखंड- छात्रों और शिक्षकों के लिए काम की खबर, शिक्षा मंत्री ने किया ये ऐलान

कोविड-19 को देखते हुए केन्द्र सरकार के निर्देशों के बाद अब उत्तराखंड में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम को प्रदेश सरकार 30 प्रतिशत कम करने जा रही...

उत्तराखंड- भारत इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड दे रहा लाखों कमाने का मौका, ऐसे करें आवेदन

भारत इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड भिलाई ने 15 विशेषज्ञ, जीडीएमओ और सुपर विशेषज्ञ पदों के लिए भर्ती निकाली है। इन पदों के लिए आवेदक को...
Uttarakhand Government

उत्तराखंड की त्रिवेन्द्र सरकार जब-जब कोई पड़ाव तय करती है तो उनके कामों की समीक्षा होती है। स्वस्थ लोकतंत्र के लिए यह जरूरी भी है। अपेक्षाओं के पैमाने पर उसके कामकाज का आंकलन भी होता है। सरकार को सचेत भी किया जाता है। चुन-चुन कर कमियां भी निकाली जाती हैं और सवाल भी उछाले जाते हैं। मगर ऐसा नहीं होता कि सरकार हमेशा गलत हो और उसकी मंशा संदिग्ध ही हो। सरकार बहुत नहीं तो कुछ अच्छा भी कर रही होती है। कहीं न कहीं बदलाव भी हो रहा होता है और वह महसूस भी किया जा रहा होता है।


Uttarakhand Government

मगर वह अनदेखा हो जाता है, उसकी कोई पड़ताल नहीं होती। अफसोस कि सरकार के कामों की निष्पक्ष समीक्षा करने के बजाय सिर्फ कमियां गिनाने पर अधिकांश लोगों का फोकस रहता हैं। हद तो तब हो जाती है जब सत्ताधारी पार्टी के विधायक भी विपक्ष की भाषा बोलने लगते है। हालांकि, सब जानते हैं कि दिल्ली दौड़ के पीछे “पावर गेम” ही एकमात्र वजह होती है। वरना हर नाराज विधायक अपने विधानसक्षा क्षेत्र के विकास का रोडमैप और वहां वर्ष वार हुए विकास कार्यों की समीक्षा लेकर पार्टी हाईकमान के पास जाता है। इस सिलसिले में बात चल पड़ी है तो आइए देखते हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत को लेकर असल तश्वीर क्या है।

Uttarakhand Government

Uttarakhand Government

सत्ता के गलियारों में नहीं माफियाओं की एंट्री

याद करिए कुछ साल पहले का समय। देहरादून और दिल्ली से लेकर देश के तमाम बड़े शहरों में उत्तराखंड के एजेंट हुआ करते थे। पांच सितारा होटलों की लॉबी में कहीं उत्तराखंड का सौदा हो रहा होता था। कहीं जमीन की डील, कहीं शराब और खनन की सेटिंग, कहीं बड़े ठेकों का गणित तो कहीं सरकार की इमेज बाल्डिंग का सौदा हो रहा होता था। सत्ता के गलियारों में ब्रिफकेस वालों की धड़ल्ले से एंट्री होती थी, सरकार पर सिर्फ माफियो का दबदबा था। दखल भी थी। नीतियां शिक्षा की हो या शराब की हर क्षेत्र में माफिया केंद्र में था। मंत्री, विधायक, अफसर, हर कोई दोनो हाथों से लूट रहे थे। माफिया को राज्य में कौड़ियों के भाव जमीन देने का मसला हो या फिर पहाड़ पर शराब फैक्ट्रियां लगवाने का।

सोलर प्लांटों के आवंटन का घपला हो या खनन के पट्टों और स्टोन क्रेसरों का खेल। उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम के घोटाले हों या ऊर्जा में नियुक्तियों और बिजली खरीद का घपला। हर बड़ा घपला-घोटाला पिछली सरकारों के कार्यकाल से जुड़ा है। यह सही है कि त्रिवेंद्र सरकार का अपेक्षाओं के पैमाने पर खरा उतरना अभी बाकी है। मगर सीएम त्रिवेंद्र को इस बात का श्रेय तो दिया जाना ही चहिए कि आज हालात तीन साल पुराने जैसे नहीं हैं। कमियां बहुत हो सकती है, निसंदेह हैं भी, मगर अराजकता उतनी नहीं है। माफिया कोई भी हो, किसी भी क्षेत्र का हो आज सत्ता के गलियारों में उसकी एंट्री नहीं है। कम से कम सचिवालय का फोर्थ फ्लोर तो माफिया मुक्त हुआ ही है।

तीन साल में एक भी बड़े घोटाले का नहीं लगा आरोप

नीतियां अभी भले ही राज्य के अनुकूल न बन पा रही हों, नौकरशाहों पर निर्भरता ज्यादा हो मगर अब नीतियां माफिया के इशारे पर नहीं बनतीं। त्रिवेन्द्र सरकार पर सवाल तो उठाए जा सकते हैं। बहुत से मुद्दे भी हैं लेकिन यह कम बड़ी बात नहीं कि तीन साल में एक भी बड़े घोटाले का आरोप सरकार पर नहीं है। सचिवालय के चतुर्थ तल पर अब बड़ी डील नहीं होती। यह ईमानदारी का प्रमाण कतई नहीं मगर यह बदलाव का संकेत जरूर है। सीधे शब्दों में कहा जाए तो त्रिवेंद्र शासन में सालों से चल रही तमाम पॉवर ब्रोकरों की दुकानें ठप हैं। आज भले ही महसूस न हो रहा हो लेकिन यह याद रखना चाहिए कि एक वक्त वह भी था जब जिलों में डीएम और कप्तान बनने की बोली लगने लगी थी।

dehradun sachiwalai news

सत्ता के दरबार में मोटी थैलियां पेशगी देकर अहम पदों पर बैठे अफर महज कलेक्शन एजेंट बने हुए थे। शिक्षा और स्वास्थ्य महकमा हो या फिर पीडब्लूडी जैसे इंजीनियरिंग महकमा हर जगह पोस्टिंग एक उद्योग बन चुकी थी। आज हालात काफी बदले हुए हैं। अपवाद स्वरूप कहीं चोरी चुपके पोस्टिंगों में लेन-देन चल रहा हो, लेकिन जिलों में डीएम, कप्तान व ऑफीसर्स की तैनाती का मानक साफ छवि है। उत्तराखंड जैसा छोटा राज्य जो भ्रष्टाचार के रोग से खोखला हो चुका है। वहां यह भी बहुत अहम है कि छोटे-छोटे कामों के लिए सुविधा शुल्क अब रंगदारी के तौर पर नहीं लिया जाता। इसका श्रेय भी आखिर सरकार को ही तो जाता है।

शिकायतों की नहीं थी सुनवाई, जारी हुई सीएम हेल्पलाइन

अपेक्षा के मुताबिक सरकार रोजगार नहीं दे पा रही है। यह सही है लेकिन यह भी तो सच है कि एक-आध मामलों को छोड़कर तीन साल में चोर दरवाजे नियुक्तियों पर प्रभावी अंकुश दिखा है। पहले तो शिकायत की सुनवाई ही नहीं थी, आज सीएम हेल्पलाइन पर ही सही कम से कम आप अपनी शिकायत तो दर्ज कर सकते है। आमजन की शिकायतों का निवारण भी हुआ है।

यह सही है कि जनता की सरकार से अपेक्षाएं होती हैं और जब सरकारें उन पर खरी नहीं उतरती तो निश्चित तौर पर नाराजगी भी होती है। त्रिवेंद्र सरकार से भी अपेक्षांए अपार हैं, इसलिए आने वाले बाकी के डेढ़ साल उनके लिए बड़ी चुनौती हैं। जहां तक उनके अब तक के कार्यकाल का सवाल है तो कई मायनों में उससे संतुष्ट हुआ जा सकता है। तय मानिये आज भले ही आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन कम अपने इसी कार्यकाल के लिए त्रिवेंद्र सिंह रावत सराहे भी जाएंगे।

Uttarakhand Government

Related News

देहरादून- नहीं थम रही उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार, पढ़े आज का ताज़ा अपडेट

उत्तराखंड में कोरोना का कहर लगातार बड़ता जा रहा है। प्रदेश में कोरोना का आकड़ा 38007 पर पहुंच गया है। शुक्रवार को जारी स्वास्थ्य...

पिथौरागढ़- आपदा प्रभावितों को मिलेगा मुआवजा, पीड़ितों के चेहरे पर ऐसे लौटी मुस्कान

राज्य सरकार के साढ़े तीन वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पिथौरागढ़ में आपदा प्रभावितों को मकान की...

देहरादून- साढ़े तीन साल में त्रिवेन्द्र सरकार ने ऐसे किये 85 प्रतिशत वादे पूरेए पढिय़े कैसे किया स्वरोजगार पर फोकस

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने राज्य सरकार के साढ़े तीन वर्ष पूर्ण हो जाने बाद अपने 85 प्रतिशत वायदे पूरे किये है। मुख्मंत्री ने...

उत्तराखंड- छात्रों और शिक्षकों के लिए काम की खबर, शिक्षा मंत्री ने किया ये ऐलान

कोविड-19 को देखते हुए केन्द्र सरकार के निर्देशों के बाद अब उत्तराखंड में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम को प्रदेश सरकार 30 प्रतिशत कम करने जा रही...

उत्तराखंड- भारत इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड दे रहा लाखों कमाने का मौका, ऐसे करें आवेदन

भारत इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड भिलाई ने 15 विशेषज्ञ, जीडीएमओ और सुपर विशेषज्ञ पदों के लिए भर्ती निकाली है। इन पदों के लिए आवेदक को...

रुद्रपुर-मजदूरों की समस्याओं का समाधान करने को बनेगी उच्च स्तरीय समिति

रुद्रपुर । सिडकुल ऊधम सिंह नगर की मौजूदा श्रमिक समस्याओं के निस्तारण के संबंध में श्रमिक संयुक्त मोर्चा के नेतृत्व में विभिन्न यूनियनों ने...
Uttarakhand Government