inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- मिस उत्तराखंड 2009 आशा नेगी ने ऐसे तय किया टेलीविजन तक...

देहरादून- मिस उत्तराखंड 2009 आशा नेगी ने ऐसे तय किया टेलीविजन तक का सफर, इन चर्चित शो में कर चुकी है काम

आशा नेगी एक भारतीय टेलीविजन अभिनेत्री हैं। वह ज़ी टीवी के लोकप्रिय नाटक पवित्रा रिश्त में पूरवी देशमुख की भूमिका निभाने और 2014 में स्टार प्लस के भारतीय डांस रियलिटी शो नच बलिए जीतने के लिए चर्चित है। आशा नेगी का जन्म 23 अगस्त 1989 को उत्तराखंड के देहरादून में हुआ। अपनी शिक्षा उन्होंने देहरादून से ही पूरी की। आशा 2009 में मिस उत्तराखंड भी रह चुकी है।

asha negi uttarakhand

मॉडल के रूप में की करियर की शुरूआत

जिसके बाद उन्होंने मॉडल के रूप में अपने करियर की शुरूआत की। वह कंपनियों के लिए विभिन्न विज्ञापनों में दिखाई दीं और कई फोटो शूट भी किए। बाद में उन्होंने 2010 में अपने पहले टीवी शो के लिए स्टार प्लस के लोकप्रिय शो सपनो से भरे नैना में मधुरा की भूमिका निभाई। 2011 में, नेगी बालाजी टेलीफ़िल्म्स की सीरीज़ बडे अचे लगते हैं में दिखाई दी। वही 2015 में उन्होंने प्रसिद्ध नाटक कुमकुम भाग्य में भी एक भूमिका निभाई।

Related News

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...

देहरादून- जाने कौन है ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’, इतिहास बचाने को क्यों बेची जमीन और प्रेस

शिवप्रसाद डबराल जिनके ग्रन्थ आज उत्तराखंड का इतिहास जानने के लिये सबसे उपयोगी माने जाते हैं। उनको ‘इनसाइक्लोपीडिया ऑफ उत्तराखंड’ भी कहा जाता है।...

देहरादून- इनके प्रयासों से बद्री केदार आने वाले यात्रियों को मिली ये सुविधा, इतना संघर्ष भरा रहा जीवन

अनुसूया प्रसाद बहुगुणा एक समाजसेवी और उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनका जन्म चमोली जिले में 18 फरवरी 1864 को हुआ। वे गढ़केसरी सम्मान...

देहरादून- श्रीदेव सुमन को इसलिए कहा जाता है गढ़वाल का भगत सिंह, आजादी के लिए दिए कई बलिदान

श्रीदेव सुमन टिहरी रियासत की राजशाही के विरुद्ध विद्रोह कर बलिदान देने वाले भारत के अमर स्वतंत्रता सेनानी थे। उनको गढ़वाल के “भगत सिंह”...

देहरादून- श्रीधर किमोठी को इसलिए कहते थे उत्तराखंड का “आजाद”, पहचान छिपाने के लिए पहना चोला

श्रीधर किमोठी उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी थे। वे 1952 से 1958 तक गढ़वाल बोर्ड के चेयरमैन भी रहे। उनको उत्तराखंड के आजाद के नाम...

देहरादून- उत्तराखंड के हर्ष देव औली को अंग्रेजों ने इसलिए दिया था ये नाम, नैनीताल में ली अंतिम सांस

हर्ष देव औली एक राजनेता, पत्रकार और स्वतंत्रता संग्राम सैनानी थे। उन्हें काली कुमाऊं के शेर के नाम से भी जाना जाता था। हर्ष...