inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- जाने क्या है सीएम त्रिवेन्द्र की वायरल फोटो का सच, कौन...

देहरादून- जाने क्या है सीएम त्रिवेन्द्र की वायरल फोटो का सच, कौन है जिम्मेदार!

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का एक फोटो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है, जिसमें वह चमोली में आई आपदा से प्रभावित क्षेत्र में आम लोगों के साथ बैठे हुए हैं और उन्हें एक टेबिल में चाय के साथ ड्राई फ्रुट्स आदि परोसे गए हैं। इन टिप्पणियों के साथ कि आपदा के वक्त मुख्यमंत्री ड्राई फ्रुट्स का मजा ले रहे हैं, मुख्यमंत्री ने आपदा को अवसर बना लिया है, मुख्यमंत्री को मलवे में दबे लोगों की कोई फिक्र नहीं है, मुख्यमंत्री संवेदनहीन व्यक्ति हैं, उन्हें ट्रोल किया जा रहा है।

क्या है सच

दरअसल, लोकतंत्र में समालोचकों और पत्रकारों की अहम भूमिका होती है। उनका काम व्यवस्था की खामियां उजागर कर सरकार को आईना दिखाना होता है। स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए यह बेहद जरूरी भी है। होना तो यह चाहिए कि सिस्टम (तंत्र) की कमियों की कलई खोलकर सरकार को सुधार के लिए विवश किया जाता पर हो कुछ और रहा है। हो यह रहा है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का व्यक्तिगत विरोध हो रहा है।

निगाहें इस बात पर हैं कि त्रिवेन्द्र क्या खा रहे हैं, कहां ठहरे हैं और किससे बात कर रहे हैं किससे नहीं। अरे भाई! त्रिवेन्द्र सिंह रावत मुख्यमंत्री हैं और संविधान के तहत मुख्यमंत्री का प्रोटोकॉल होता है। आपदास्थल के निरीक्षण के बाद क्षेत्र में जब भी वो कहीं पर बैठते हैं, विश्राम करते हैं तो स्थानीय प्रशासन, जनप्रतिनिधि, आम लोग भी चाहते हैं कि उन्हें सम्मान के साथ अपने बीच बैठाया जाए। इस दौरान लोग दिल से उन्हें चाय-नाश्ता, भोजन परोसते हैं।

किसी भी जनप्रतिनिधि (मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक, सांसद आदि) के लिए यह एक स्वाभाविक सम्मान होता है। अब उस दृश्य का फोटो वायरल कर मुख्यमंत्री को यह कहते हुए ट्रोल किया जाए कि वो काजू-बादाम के शौकीन हैं, भूखे हैं और ड्राई फ्रुट्स दिखाई देने पर उन्हें मलवे में दबे व्यक्तियों की फिक्र नहीं रह जाती, यह कहां तक उचित है? कुछ सिरफिरे तो यह तक कह सकते हैं कि आपदाग्रस्त क्षेत्र में जाकर मुख्यमंत्री बैठे क्यों रहे, उन्हें जेसीबी में बैठकर मलवा हटाना चाहिए था या फिर कटर हाथ में लेकर मलवे में मौजूद सरिया काटनी चाहिए थीं। साफ है कि व्यवस्था पर अंगुली उठाने के बजाए हर बार मुख्यमंत्री को निशाना बनाने का काम एक मिशन के तौर पर शुरू हो जाता है।

दून से लेकर दिल्ली तक सिरफिरों के तार जुड़ जाते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इस तरह की छींटाकशी का काम वो लोग नहीं कर रहे जो पिछले कई दिनों से आपदाप्रभावित क्षेत्र में डटे हुए हैं और एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, आईटीबीपी व वायुसेना के जवानों की पल-पल की गतिविधियों के गवाह बने हुए हैं। सोशल मीडिया वॉरियर वो बने हुए हैं जो अभी तक देश की सीमा से लगे इस आपदाग्रस्त क्षेत्र में झांकने तक नहीं गए। समालोचना करो तो ऐसी करो जिससे जन समुदाय का लाभ हो और जिससे प्रभावितों को तत्काल राहत मिल सके।

Related News

गैरसेंण- कैबिनेट बैठक में लिए गए कई महत्वपूर्ण फैसले, जाने किन प्रस्तावों पर लगी मुहर

उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सरकार ने गैरसैंण में विधानसभा सत्र करने के साथ-साथ आज कैबिनेट बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। त्रिवेंद्र कैबिनेट ने...

पथराव का मन बनाकर आए थे कुछ उपद्रवी, मुख्यमंत्री ने दिए लाठीचार्ज की घटना के मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

गैरसैंण। जायज मांग को लेकर चल रहा आन्दोलन जरा सी चूक पर कैसे कमजोर पड़ सकता है, इसकी बानगी नन्दप्रयाग-घाट मोटर मार्ग के चौड़ीकरण...

यहां इतनी खालो के साथ वन्यजीव तस्कर चढ़ा एसटीएफ के हत्थे ,ऐसे करता था तेंदुओं का शिकार

पिथौरागढ़ - उत्‍तराखंड एसटीएफ ने वन्‍यजीवों की तस्‍करी को रोकने में बड़ी सफलता प्राप्त की है.पिथौरागढ़ में लम्बे समय से वन्यजीव तस्कर के सक्रिय...

सरकार से नाराज मिनिस्टीरियल कर्मी इस दिन से शुरू करने जा रहे आंदोलन

देहरादून।21 सूत्रीय मांगो के पूरा ना होने से नाराज उत्तरांचल फेडरेशन ऑफ मिनिस्टीरियल सर्विसेज एसोसिएशन ने मिनिस्टीरियल कार्मिकों की समस्याओं का निराकरण नहीं होने...

इस जिले में शुरू हुआ बच्चो को ‘भिक्षा नहीं शिक्षा दो’ अभियान , सीओ सिटी को मिली जिम्मेदारी

देहरादून। पुलिस मुख्यालय ने समाज में बच्चो में बढ़ती भीख मांगने की प्रवृति को रोकने के लिए 'भिक्षा नहीं, शिक्षा दो' अभियान की शुरुवात...

दीवालीखाल घटना – सीएम त्रिवेंद्र रावत का बड़ा बयान, मजिस्ट्रेट जांच के दिए आदेश

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दीवालीखाल में घटित घटना के मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश दिए हैं।उन्होंने कहा कि मैंने सल्ट दौरे के दौरान...